कर्तव्य विमुख, माफिया से कराहता लोकतंत्र

विलेज टाइम्स समाचार सेवा। म.प्र. अवैध उत्खन्न, परिवहन को लेकर जिस तरह से म.प्र. के शिवपुरी जिले में परिवहनकर्ताओं कुठाराघात चल रहा है। उससे साफ जाहिर होता है कि खनिज, संपदा पत्थर, रेत गिट्टी, के क्षेत्र में पहले माफिया अब कर्तव्य विमुख लोगोंं का माफिया धीरे-धीरे अपनी जड़े जमा रहा है। 

अगर चर्चा अपुष्ट सूत्र और प्रताडि़त लोगों की माने तो इस समय लोगों का अवैध उत्खन्न, परिवहन के नाम होने वाली कार्यवाहियों में वाहन मालिकों का बड़े पैमाने पर प्रताडि़त कर शोषण हो रहा है। लाखों रुपया बैंक से लॉन ले, रेत, गिट्टी, पत्थर का परिवहन करने वालों का कहना है कि पहले तो हम खनिज माफियाओं की आपसी अदावत का शिकार हो पिस रहे थे। मगर अब तो कर्तव्य विमुख मािफयाओं का राज खनिज परिवहन पर निगाह रखने वाले दलालों की सह पर पनप रहा है। 

जिसमें नकली रायल्टी, अवैध खनन और त्रिमासिक रिपोर्ट पर्यावरण की स्वीकृति, पंचायतों को रेत खदान के आदेश निर्देशों को दर किनार कर वाहनों को पकडऩे के बाद एक-एक माह तक नहीं छोड़ा जाता। जिसमें छोटे परिवहन कर्ता तो इस कर्तव्य विमुखता के शिकार हो ही रहे है। वहीं बड़े खनिज माफिया कर्तव्य विमुखों का सरंक्षण प्राप्त कर जमकर वैद्य, अवैध उत्खन्न को अंजाम दे रहे है। जिसके चलते खनिज क्षेत्र से रोजगार की तलाश में जुटा आम जन ही नहीं, निष्ठा ईमानदारी से अपना कर्तव्य निर्वहन करने वाला तंत्र भी कराहने लगा है। देखना होगा कि जिम्मेदार लोग इस विकृत समस्या का संज्ञान ले, किस तरह से इस समस्या का समाधान खोजते है। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment