मुख्यमंत्री की मंशा पर मचा घमासान, ABVP के ज्ञापन, धरना प्रदर्शन पश्चात, कॉग्रेस तथा महिला सशक्तिकरण की महिलाओं का प्रदर्शन और ज्ञापन

धर्मेन्द्र गुर्जर, विलेज टाइम्स समाचार सेवा। म.प्र. शिवपुरी। गत दिनों से ड्रेस खरीदी में घोटाले को लेकर चल रहे सिकवा-शिकायत ज्ञापन, धरना प्रदर्शन का दौर फिलहाल थमने का नाम नहीं ले रहा। पहले एबीव्हीपी के छात्रों का ज्ञापन, प्रदर्शन उसके बाद महिला सशक्तिकरण की सैंकड़ों महिलाओं का कलेक्टर को ज्ञापन, लोगों की समझ से परे होता जा रहा है। मुख्य मंत्री की मंशा अनुसार महिलाओं के स्वसहायता समूहों को मिले कार्य को लेकर फिलहाल विवाद चर्चा में है। आरोप है कि 14 करोड़ से अधिक की राशि की ड्रेसों का वितरण प्राथमिक, माध्यमिक स्कूल के छात्र-छात्राओं को किया जाना है।

ऐसा नहीं कि शिवपुरी ड्रेस वितरण, खरीदी का कार्य पहली बार हो रहा हो। इससे पूर्व के वर्षो में भी होता रहा है। मगर तब कोई विवाद नहीं रहा। इस मर्तबा मुख्य मंत्री की मंशा अनुरुप बिचौलियों के बजाये महिलाओं को रोजगार की दृष्टि से स्वसहायता समूह की महिलाओं से कराया जा रहा है। सारा बवाल इसी को लेकर चर्चा में दिख रहा है। जैसा कि महिलाओं ने कलेक्टर को शिकायत की उन्हें धमकाया जा रहा है। ड्रेस माफिया उन्हें कार्य नहीं करने दे रहा। 

हालांकि इससे पूर्व जिस तरह से एबीव्हीपी के छात्रों ने जांच की मांग की। मुख्य मंत्री के नाम ज्ञापन में उसी तरह कॉग्रेस ने भी राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंप संपूर्ण घोटाले की जांच की मांग की है। आज जहां कॉग्रेस जिला अध्यक्ष बैजनाथ सिंह के नेतृत्व में ज्ञापन सौंपा गया। तो वहीं सैकड़ों की संख्या में ड्रेस बनाने का कार्य करने वाली महिलायें भी कलेक्टर से मिली। जिन्हें कलेक्टर ने जांच उपरान्त उचित कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment