सुल्तानगढ़ में 9, पवा में 1 और अब मोहिनी सागर में डूबने से 2 की मौत, पत्राचार और पुरुस्कार से बाहर नहीं निकल सकी सरकार

विलेज टाइम्स समाचार सेवा। म.प्र. शिवपुरी। शिवपुरी जिले में सुल्तानगढ़ के जघन्य घटनाक्रम को अभी पूरा एक माह भी नहीं हुआ कि पर्यटन स्थल पवा में डूबने से एक बच्चे की मौत और अब मोहिनी सागर डेम में 2 लोगों की दर्दनाक मौत डूबने से न हुई होती। शुक्र है कि साथ नहा रहे अन्य 2 लोगों की जिन्दगी समय रहते बच गई। मगर सरकार और प्रशासन की लापरवाही के पराकाष्ठा यह है कि जब सुल्तानगढ़ में 9 लोगों की बह जाने से मौत हुई और बमुश्किल स्थानीय लोगों की मदद से लगभग 25 लोगों की जाने बचाई गई। तब जाकर प्रशासन पत्र लिखकर इस तरह के पर्यटन स्थलों को सुरक्षित बना सका और सरकार ने खुद की खतरे में डाल जान बचाने वाले स्थानीय लोगों को 5-5 लाख का पुरुस्कार दिया और प्रदेश भर के अखबारों में भोपाल से खबर छपवा यह जताने की अपने पुरुषार्थ दिखाने की कोशिश कि सरकार ने कितना सार्थक, सम्मानित और सफल कार्य किया।  
यह सही है कि जिन लोगों ने अपनी जान जोखिम डालकर लगभग 25 लोगों की जान भरी रात पानी में उतर बचाई वह 5-5 लाख पुरुस्कार ही नहीं, रैक्यू टीम में नौकरी के भी हकदार थे। मगर सिर्फ उन्हें 5-5 लाख देकर इस तरह से उन लोगों के साथ कुछ लोगों ने फोटो खिंचवाये। जिनका कर्तव्य था कि वह मासूमों की जान बचाने में अहम योगदान देते और अपने कर्तव्य का निर्वहन करते।

किसी भी सरकार और सत्ता के लिए इससे शर्मनाक बात क्या होगी जहां एक महीने में बह जाने डूब जान से लगभग 11 लोगों की दर्दनाक मौत हो जाए और उसके लिए अदना-सा भी जबावदेह व्यक्ति जबावदेह न ठहराया जाए। अगर सरकार चाहती, समीक्षा करती तो वह भी जानती है कि राजस्व की इंच-इंच भूमि की देख-रेख के लिए राजस्व एवं वन विभाग में वीट प्रभारी, चौकीदार की तैनाती रहती है। वहीं जान-माल की रक्षा के लिए उत्तरदायी पुलिस में भी क्षेत्रवार वीट प्रभारी होता है। वहीं शासकीय सेवा में तैनात हर उस कर्मचारी का कर्तव्य होता है जो सरकार के राजकोष से हर माह वेतन हासिल करता है। जिसका नैतिक कर्तव्य होता है कि वह ऐसी सूचनाऐं संबंधित विभाग या जिले के आलाअधिकारियों को दें, जहां जान-माल का खतरा हो। 

चाहे वह गुरुजी, शिक्षक, अध्यापक, आगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ता, पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, कृषि विकास अधिकारी, कृषि मित्र, उपयंत्री, ग्रामीण यांत्रिकी विभाग, एनएएम या अन्य। मगर कहते है जब मौजूद सरकार या प्रशासन अंतर मुखी और अहंकारी हो जाए तो इस तरह की घटनाओं को रोकना असंभव ही नहीं न मुमकिन हो जाता है। मगर सबसे दर्दनाक, शर्मनाक पहलू यह है कि जो विपक्ष सत्ता के सपनों में चूर सत्ता में लौटने की जुगत लगाए केवल घडिय़ाली आंसू बहा अपनी औपचारिकता पूर्ण करने में लगा रहता है। उसका भी कत्र्तव्य बनता था कि वह भी अपने कर्तव्य और जबावदेहियों का एहसास कराने अहंकार में डूबी सरकार को जगाने का प्रयास करता। मगर दुर्भाग्य कि ऐसा वह प्रभावी ढंग से नहीं कर सका और 2 जाने और चली गई। देखना होगा कि मोहिनी सागर में हुई इन 2 मौंतों से प्रशासन और सरकार क्या सबक लेती है?
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment