जीवन में मूल्य, सिद्धान्त अहम, भय से भाग्य बदलने वाला नहीं- सिंधिया

विलेज टाइम्स समाचार सेवा, शिवपुरी। राम राजा के दर मत्था टेक आर्शीवाद लेने ओरछा जाने से पूर्व केन्द्रीय मंत्री सांसद व म.प्र. कॉग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष श्रीमंत ज्योतिरादित्य सिंधिया यूं तो अस्वस्थ्य नजर आये। मगर उन्होंने पत्रकारों के एक सम्मेलन में अनौपचारिक तौर बोलते हुए कहा कि हर व्यक्ति के जीवन में कुछ मूल्य सिद्धान्त अवश्य होना चाहिए और राजनीति सिर्फ सियासत सत्ता प्राप्ति के खेल तक समिति नहीं होनी चाहिए। क्योंकि लोकतंत्र में यह सेवा कल्याण का माध्यम होती है। वसुदैव कुटुंबकम की भावना हमारी पहचान रही है। भारत वह भू-भाग है जहां विभिन्न मत पंथ धर्म मानने वाले मिलजुलकर रहते है। 

उन्होंने जोर देकर क हा कि हिन्दू होने पर उन्हें गर्व है और राष्ट्र, जनसेवा के मायने क्या होते है उससे वह भली भाति परिचित है। मगर भय पूर्ण माहौल कहीं भीड़ द्वारा हत्या तो कहीं जघन्य बलात्कार हताश मायूस लोगों द्वारा की जा रही आत्म हत्याओंं से समुचे देश में व्यप्त है। जो बड़ा ही डरावना है उन्होंने कहा इस तरह की राजनीति से न तो देश की जनता डरने वाली है और न हीं ऐसी ताकतों के आगे झुकने वाली है। क्योंकि कॉग्रेस देश की जनता के साथ है और वह अनाथ नहीं। महात्मा गांधी जी कहा करते थे कि सत्य परेशान हो सकता है। मगर परास्त कभी नहीं। 

अन्त में उन्होंने कुछ चुनिंदा पत्रकारों के बीच कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में कॉग्रेस की जीत भी होगी और उसे प्रचंड बहुमत भी हासिल होगा। जिससे हम म.प्र. के अन्नदाताओं के आंसू पौंछ उन्हें उचित दाम ही नहीं, उनका खोया मान-सम्मान वापस दिला उनका स्वाभिमानी जीवन लौटा सके और बेरोजगार हाथों को स मानित रोजगार दिला, तो वहीं जघन्य अपराधी, बलात्कारियों को सीखचों के पीछे पहुंचा उन्हें ऐसी सजा दिला सके। जिससे माता-बहिनों पर अत्याचार और उन्हें अपमानित करने वालों की रुह तक काँप जाये। कहते है जहां माता-बहिनों का स मान नहीं होता, वहां कभी खुशहाली, समृद्धि शान्ति का वास नहीं होता।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment