ये कैसी सेवा और कल्याण: सुशासन के परखच्चे उड़ाता समस्याओं का हुजूम

विलेज टाइम्स समाचार सेवा 06 जून, 2018। बात अगर हम समस्या निदान जन-कल्याण के लिए अस्तित्व में मौजूद,  सी.एम. हैल्पलाईन, समाधान ऑन लाईन, सेवा केन्द्र, समस्या निवारण शिविर, अन्तोदय मेले, जनशिकायत, जन सुनवाई और न जाने क्या-क्या हो मगर कलेक्टर कार्यालयों या अधिकारी, मंत्री मुख्यमंत्रियों के सामने उमडऩे वाली भीड़ इस बात का प्रमाण है कि कहीं तो कुछ गड़बड़ है नहीं तो कौन ऐसा होगा जो 44 डिग्री भीषण गर्मी में किलो मीटरों दूर से जेब का किराया खर्च कर कलेक्टर कार्यालय के बाहर घन्टो खड़ा रह अपनी बारी का इन्तजार करेगा। जिससे उसकी समस्या का समाधान हो सके। मगर बढ़ती भीड़ और नौकरशाही, सरकार ने कितनी समस्या सुलझायीं इसका तो फिलहाल प्रमाणिक लेखा-जोखा नही, मगर लाईन में खड़ी भीड़ इस बात का प्रमाण है कि यह सुशासन है या कुशासन। फिलहाल चर्चा का विषय है।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment