शिवराज सक्षम सीएम, काँग्रेस अन्तर कलह से ग्रस्त: नरेन्द्र सिंह तोमर केन्द्रीय मंत्री

विलेस टाइम्स समाचार सेवा 29 मई, 2018। बैराढ़ में आयोजित किसान स मान समारोह एवं मोहना पोहरी रोड़ के भूमि-पूजन कार्यक्रम से सिरकत करने आये भारत सरकार के केन्द्रीय मंत्री एवं मप्र चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर ने बैराड़ जाते  वक्त शिवपुरी  सर्किट हाउस पर पत्रकारों से चर्चा के दौरान दि एम.पी.मिरर के सबालों के जबाब में कहा कि शिवराज सिंह एक सक्षम मु यमंत्री है। वह मप्र के ऐसे पहले मु यमंत्री है जो सदैव सक्रिय और जमीन पर चलने वाले है। उन्होंने कहा कि उनके जैसा मु यमंत्री अभी तक मप्र में कोई दूसरा नहीं हुआ।

उन्होंने कॉग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा की कॉग्रेस अब अन्तर कहल से तृप्त, ग्रस्त पार्टी है। कभी कॉग्रेस के नेता राहुल गाँधी देश की तुलना पाकिस्तान से करते है तो दूसरी ओर सलमान खुर्शीद जैसे नेता प्रियंका को कॉग्रेस की जरूरत बताते हैं। मप्र में कॉग्रेस के हालात क्या है किससे छिपा है। तो वही पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योरादित्य सिंधिया के जर्मन मॉडल के बारे में, उन्होंने प्रति प्रश्र करते हुए कहा कि आप ही बतायें यहाँ हिन्दुस्तान में हिस्दुतान मॉडल चलेगा या जर्मन मॉडल, क्या कॉग्रेस के आरोपों में कोई दम है अगर है तो वह स्वर्ग, नरक के आकड़े प्रस्तुत करें। और फिर कोई आरोप-प्रत्यारोप करें। 
उन्होंने कहा कि सच यह है कि 2003 से पूर्व मप्र बीमारू, पिछड़े राज्य के रूप में जाना जाता था। तब न प्रदेश में सडक़े थी, न बिजली पानी आज हमारी सरकार में सडक़, बिजली, सिंचाई की कोई किल्लत नहीं न ही खेतों में उत्पादन की 2003 में जो सिंचाई रकवा 7 लाख हेक्टेयर हुआ करता था। आज वह बढक़र 46 लाख हेक्टेयर हुआ है। कृषि उत्पादन के मामले में हम हर वर्ष पुरूषकृत हो रहे है। जितना कार्य किसानों के हित में मप्र व देश की भाजपा सरकार में हुआ है उतना शायद ही किसी अन्य सरकार में हुआ हो। शून्य ब्याजदर पर कृषि ऋण फसल बीमा, भावान्तर सिंचाई समर्थन मूल्य, बोनस, बिजली पानी भाजपा सरकार ने सभी वर्गाे के लिए कार्य किया है। 1 लाख 10 बच्चों की निशुल्क शिक्षा का जि मा बड़ा कार्य है। भाजपा सरकारों की नीतियाँ सर्वव्यापी, स्पर्शी और सभी के विकास कल्याण के लिए  है अन्त में उन्होंने सरकार के खिलाफ इन्कमवेंसी के सबाल पर और हो रहे हार-जीत के सर्वेओं पर कहा कि सर्वे मप्र के लिए कोई चुनौती नही न ही उन्हें पूर्ण सच मान लिया जाये, यह भी सच नही है।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment