आप चाहे तो सारे कनेक्शन कटा सकते है, म.प्र. दूरसंचार निगम को डुबाने में जुटे, उसी के कर्मचारी, अधिकारी पैरोकार

विलेज टाइम्स समाचार सेवा। म.प्र. शिवपुरी। कहते है कि ग्राहक या उपभोक्ता दुकानदार या सेवा प्रदाता क पनी के लिये भगवान के समान है। क्योंकि उसी के द्वारा खरीदी गई वस्तु से प्राप्त धन पर ही दुकानदार का परिवार और सेवा प्रदाता क पनियों का साम्राज्य चलता है। जब दुकानदार या सेवा प्रदाता कंपनी ही ग्राहक को दुदकारने लगे और अहंकार में डूब इस तरह का आमर्यादित व्यवहार अपने ही संस्था के प्रति इस मंशा के साथ करने लगे कि संस्थान कल डूबता हो तो आज डूब जाये। 

मगर उसी पगार तो हर महीने पक्की है। वह अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें या न करे उनकी नौकरी तो पक्की है। ऐसा ही वाक्या गत दिनो शिवपुरी दूरसंचार निगम के जिला प्रबंधक कार्यालय में देखने मिला। जहां 20 वर्ष पुराना लेंडलाइन उपभोक्ता जिसके अपने नाम पर चार सिम कार्यरत थी जिन्हें वह नैनो सिम के रुप में रिपलेश चाहता था। जिसके लिये वह आवश्यक कागजात फोटो, आधार कार्ड लेकर पहुंचा था। मगर उसके इस अनुरोध के बाद कि चारो सिम उसी के नाम पर आप चाहे तो कंप्यूटर से एकांउट चैक कर सकते है। जो विगत 5 वर्षो से नियमित कार्य कर रही है। 

साथ ही फिक्स प्लान में इन्टरनेट ब्रॉडबैंड कनेक्शन है आवेदक दूरसंचार का स्थाई 25 वर्ष पुराना उपभोक्ता सहित शहर का जबावदेही नागरिक है। मगर उसकी संबंधित कर्मचारी, अधिकारी ने कर्तव्य विमुखता का नंगा नाच करते हुये एक न सुनी और कनेक्शन कटाने की सलाह दे डाली। जो दूरसंचार के लिये शर्मनाक भी है और दर्दनाक भी। 

ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि हजारों, लाखों रुपये की पगार पाने वाले यह कर्मचारी, अधिकारी अपनी संस्था के लिये कितनी निष्ठा ईमानदारी से कर्तव्य निर्वहन कर रहे है। और माननीय दूरसंचार मंत्री दिल्ली में टी.व्ही. के सामने बैठ बड़े-बड़े सेवा एवं सुविधाओं के जो प्रवचन देते है उनके लिये भी यह सोचने वाली बात है। देखना होगा कि माननीय मंत्री या उनके जिम्मेदार अधिकारी इस मामले को कितनी संजीदगी से ले, अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर अपने मातहतो को कितना शिष्टाचार सिखा पाते है। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment