पोहरी में बटेगा बोनस मिलेगी मजदूरों को पानी बोतल, चरण पादुका, साड़ी, वितरण कार्यक्रम में शामिल होंगे केन्द्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री और मंत्री

वीरेन्द्र शर्मा, विलेज टाइम्स समाचार सेवा, मप्र शिवपुरी- शासन द्वारा शिवपुरी जिले के विकासखण्ड पोहरी में आयोजित असंगठित श्रमिक तथा तेंदूपत्ता संग्राहक श्रमिक सम्मेलन में कलेक्टर शिवपुरी द्वारा वितरित आमंत्रण पत्र में बतौर मुख्य अतिथि मप्र के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान कार्यक्रम के अध्यक्ष केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं मप्र सरकार के मंत्री रूस्तम सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया को बतौर विशिष्ठ अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है। 

जिसमें असंगठित श्रमिक तथा तेंदूपत्ता संग्राहकों को बोनस एवं पानी बोतल चरणपादुका और साड़ी का वितरण किया जायेगा। प्राप्त सूचना को आधार माने तो तेंदूपत्ता संग्राहकों को 2.13 करोड़ का बोनस 14000 पानी बोतल तथा चरणपादुका तथा 6818 साडिय़ों का वितरण किया जाना है। जिसकी तैयारी जिला प्रशासन द्वारा बड़े पैमाने पर की गई है मगर दूसरी ओर स्थानीय विधायक पोहरी की आमंत्रण पत्र मेंं नाम न होने से की गई उपेक्षा एवं लगभग करोड़ों रूपये कार्यक्रम आयोजन पर खर्च कर भीषण गर्मी के बीच मजदूरों की मेहनत से प्राप्त मुनाफे से मुनाफा वितरण को लेकर बुद्धजीवी एवं विद्ववानों के अजीबोगरीब सवालों का चर्चा में आना फिलहाल चर्चा का विषय बना हुआ है। 

कुछ अलोचक यह कहते नहीं थकते कि शासन का काम शासन से आम जन को अपेक्षित कार्यो का निष्ठापूर्ण निर्वहन करना होता है। जो संविधान की भावना एवं विधि अनुरूप जनकल्याण के लिए होता है न की ऐश्वर्य और श्रेय बटोरने के लिए, अगर शासन और सरकारें जन-धन पर इस तरह के कार्यक्रम आयोजित कर याती बटोरने की होड़ में जुटेंगे तो न तो इसे जनहित, राज्यहित में कहा जा सकता है और न ही इन्हें निष्ठापूर्ण कर्तव्य निर्वहन की श्रेणी में माना जा सकता है। 

सत्तायें किसी भी व्यवस्था में राज्य कल्याण और जनकल्याण को सर्वोपरि मान सेवा और कर्तव्य निर्वहन के लिए अस्तित्व में आती है न की साम्राज्यवादी सोच के साथ राज्य व जनकल्याण के नाम ऐश्वर्य बटोर स्वयं की सिद्धता स्थापित करने होती है। बहरहाल सवाल कई हैं और खुशहाल जीवन के सामने समस्यायें संघर्ष अनगिनत काश सत्तायें सेवा और कल्याण के भाव को ठीक से समझ पाऐं तो यह लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए सुखद भी होगा और कल्याणकारी भी।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment