मैं अहंकारी मुख्यमंत्री नहीं: शिवराज सिंह चौहान

विलेज टाइम्स समाचार सेवा। बदरवास में आयोजित सभा के दौरान जनसमूह को स बोधित करते हुये मप्र के मु यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं अहंकारी मु यमंत्री नहीं और न ही मेरा किसी से कोई झगड़ा। अगर जनसेवा के मामले में कोई विवाद है तो काहे का विवाद, विकास के नाम पर सभी को एक हो जाना चाहिए। 

उन्होंने भावुक होते हुये यहां तक कहा कि एक नई विकास पार्टी विकास के लिये बनाना चाहिए। काहे की अलग-अलग पार्टी, सभी को विकास के नाम एक हो, जनता की सेवा करना चाहिए। उन्होंने अपना पुराना जुमला दौहरातेे हुये कहा कि जनता मेरी भगवान, पुजारी शिवराज सिंह चौहान। उन्होंने मप्र शासन की विभिन्न सेवा भावी, जनकल्याणकारी योजनाओं की विशेषकर चर्चा करते हुये कहा कि मेरी भाजपा सरकार ने हर वर्ग के लिये कोई न कोई योजना बनाई है। और जिसका लाभ भी अन्तिम पंक्ति में खड़े हर व्यक्ति को मिल रहा है। 

उन्होंने कोलारस की जनता से 5 माह का समय मांगते हुये कहा कि मैं आपको 5 माह में 15 वर्ष का कार्य करके दूंगा और अगर आपने कमल का बटन दबाकर भाजपा को विजयी किया तो आपको विधायक तो मिलेगा ही साथ में एक सरल सहज मु यमंत्री भी मिलेगा। 

इस मौके पर सभा को खेल युवा कल्याण मंत्री यसोधरा राजे सिंधिया एवं भाजपा प्रत्याशी देवेन्द्र जैन ने भी स बोधित किया तथा मंच पर ााजपा जिलाध्यक्ष सहित मप्र सरकार के मंत्री विश्वास सारंग सहित कार्यकर्ता मौजूद थे।    

जीत के लिये फिर राजमाता का सहारा 
मु यमंत्री की बदरवास में आयोजित सभा के दौरान जिस तरह से राजमाता सिंधिया अमर रहे के नारे लग रहे थे उसे देखकर तो यहीं कहा जा सकता है कि एक बार फिर से राजमाता सिंधिया की भाजपा नेताओं को जीत के लिये याद आयी और उन्होंने इस मौके पर उन्हें याद करना सार्थक समझा। इसलिये राजमाता सिंधिया अमर रहे यसोधरा राजे जिन्दाबाद के नारे गूंजते रहे।  

यसोधरा बनी राजमाता की प्रतिमूर्ति 
कहते है राजनीति में जो हो जाये सो कम, सो ऐसा ही नजारा बदरवास नगर में आयोजित मु यमंत्री की सभा के मंच से सुनाई दिया। नेता लोग मंच से यसोधरा को राजमाता की प्रतिमूर्ति कहते दिखे। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment