गौरव पूर्ण परिणाम की ओर बढ़ता गुजरात चुनाव, चुनावी चकल्लस में न खो जाये जनता के अहम मुद्दे रिपोर्ट कार्ड हो, वोट का आधार

विलेज टाइम्स समाचार सेवा: निश्चित ही किसी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था में जीत-हार का आधार वोट होता है मगर वोट जब पक्ष-विपक्ष द्वारा जन राज्य, राष्ट्र हित में किये कार्यो पर हो तो लोकतंत्र तो मजबूत होता ही है, साथ ही रिपोर्ट कार्ड के आधार पर अच्छे जनप्रतिनिधि चुनने का मौका भी जनता को मिलता है। अगर चुनाव, चुनावी चकल्लस, बेसर, पैर के आरोप, प्रत्यारोप अहम अहंकार में उलझ जाये तो आने वाले परिणाम न तो जन, न ही राज्य, राष्ट्र हित में होते है। मगर गुजरात के लिये यह सुखद है कि तमाम चकल्लसों के बीच गुजरात का अहम चुनाव अब गरिमा पूर्ण वातावरण की ओर अग्रसर है। 

जहां अब कम से कम अहम मुद्दों की बात तो हो रही है। गुजरात के दुख, दर्द और विकास की बात तो हो रही है। मगर इस सब के बीच महान गुजरात की जनता की यह जबावदेही बनती है कि वह अपना वोट तो डाले ही मगर वोट मांगने वालों से स्वयं, परिवार, समाज, राज्य, राष्ट्र के बेहतर भविष्य निर्माण में उनका क्या योगदान है। यह सवाल अवश्य करे हो सके तो उनके योगदान का रिपोर्ट कार्ड भी पूछे और जिस भी प्रत्याशी का रिपोर्ट कार्ड उचित लगे उसे ही वोट दें। 

वरना ऐसा न हो कि प्रचार-प्रसार आरोप-प्रत्यारोपों की चकाचौंध में जनता के अहम मुद्दें खो जाये और 5 वर्ष के लिये ऐसे जनप्रतिनिधि चुन लिये जाये, जिनका न तो स्वयं परिवार, समाज, राज्य, गांव, गली, राष्ट्र की बेहतरी में कोई योगदान हो और जो गुजरात का बेहतर भविष्य गढऩे में भी अक्षम, असफल साबित हो।  
जय स्वराज       
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment