खेल युवा कल्याण मंत्री ने भ्रामक खबरों पर व्यक्त किया, आश्चर्य

विलेज टाइम्स , म.प्र. शिवपुरी- अपने दो दिवसीय प्रवास पर शिवपुरी पहुंची म.प्र. सरकार की खेल युवा कल्याण एवं धर्मस्य मंत्री श्रीमंत यसोधरा राजे सिंधिया ने सर्किट हाउस पर पत्रकारों द्वारा अनौपचारिक तौर पर पूछे गये सवालों के जबाव में आश्चर्य व्यक्त करते हुये कहा कि मुझे अफसोस है कि आजकल इस तरह की खबरें भी खबर बन जाती है। जिनका दूर-दूर तक सच्चाई से कोई वास्ता नहीं होता। जिस तरह की खबरों के बारे में आप मुझे अवगत करा रहे है। मुझे नहीं लगता कि कार्य समिति की बैठक में ऐसा कुछ हुआ है। हाँ मैंने उचित जगह अपनी कोई बात अवश्य रखी। 

रहा सवाल कैबिनेट की बैठक से जुड़ी खबर का तो वह खबर भी सत्यता से दूर है और कैबिनेट की बैठक में बैसे भी न तो कोई मीडिया वाले होते है, न ही अधिकारी। मेरी तो समझ में नहीं आता कि कैबिनेट से संबन्धित खबरे बगैर अधिकारिक पुष्टि या नियुक्त सरकार के प्रवक्ता के अलावा, खबर कैसे बन जाती है। 

उन्होंने कहा कि मुख्य मंत्री जी की बेहतर शिक्षा म.प्र. के छात्रों को उपलब्ध कराने की मंशा के संबंध में अवश्य उन्होंने अपने सुझाव रखे थे। कि किस तरह से म.प्र. के उत्कृष्ट विद्यालयों को प्रायवेट स्कूलों से बेहतर बनाया जा सकता है। जिससे छात्र और पालकों का रुझान शासकीय स्कूलों की ओर बढ़ सके।  दीनदयाल रसोई योजना के संबंध में उन्होंने कहा कि वह सोचा करती थी कि इस तरह की कोई ऐसी व्यवस्था हो, जिससे कोई गरीब भूखा न रहे। मगर हमारे माननीय मुख्य मंत्री जी प्रयासों से समुचे प्रदेश में यह योजना लागू हुई और उसमें हमारा शिवपुरी भी शामिल है।

इससे पूर्व मंत्री श्रीमंत यसोधरा राजे सिंधिया ने निर्माणाधीन सडक़ों का निरीक्षण किया और समय सीमा में इन्हें पूर्ण करने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। इस बीच वह समाज सेवियों के सहयोग से मंगलम द्वारा संचालित  दीनदयाल रसोई स्थल पहुंची। जहां उन्होंने स्वयं अपने हाथों से लोगों को भोजन परोसा।   

डाईट के छात्रों ने सौपा मंत्री को ज्ञापन                               
विलेज टाइम्स, म.प्र. शिवपुरी- शौचालय, सफाई, पानी एवं छद विच्छेद व्यवस्थाओं की गुहार लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे वीटीआई के छात्रों ने खेल युवा कल्याण मंत्री को ज्ञापन सौपा। और अपनी व्यथा बयां करते हुये कहा कि उन्हें परेशान किया जा रहा है। हालात ये है कि जहां देश भर में स्वच्छता अभियान चल रहा है वहीं मजबूरन हमें खुले में शौच के लिये जाना पड़ता है। न तो छात्रावास में खाने के बर्तन है, न ही साफ-सफाई और न ही हमारी कोई सुनता। जिस पर मंत्री ने उचित कार्यवाही कर, समस्या समाधान के लिये छात्रों को आस्वस्थ किया।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment