जब दर्द जानने, सीधे जा पहुंची मंत्री लोगों के बीच

विलेज टाइम्स/मप्र/शिवपुरी। मौका था काफी जद्दोजहद के बाद शहर में नवनिर्मित सडक़ के लोकार्पण का। कार रुकते ही कड़ाके की धूप में, जिन्दाबाद व माल्यार्पण को दरकिनार कर स्वयं लोगों के दर्द जानने लोगों के बीच सीधे जा पहुंची मंत्री, मंत्री को छाता लगाये अचानक अपने दर पर देख लोगा चौंक गये। जब मंत्री ने लोगों से सीधे सवाल किया, कि सडक़ बनने के बाद आपको कैसा लग रहा है। इस पर लोगों का कहना था कि सडक़ बनवाने के लिये धन्यवाद। मगर सडक़ निर्माण के तौर तरीके को लेकर लोगों ने अप्रसन्नता जाहिर की। 

जिस पर फिलहाल वह अनुत्तरित रह, आगे चल दी और सडक़ के आजू-बाजू रहने वालो से उन्होंने चर्चा कर, आगे की ओर बढ़ ली। मगर अगले ही पड़ाव पर अधिकाारियों को कार्य की गुणवत्ता और ईमानदारी को लेकर आड़े हाथों लेते हुये ताकीत की। मुझे बजट अनुसार गुणवत्ता पूर्ण साफ सुथरा कार्य चाहती हूं। 

शहर की समस्याओं या मंत्री जी की कार्यप्रणाली को लेकर जब तब सवाल खड़े करने वाली मीडिया से मंत्री ने कहा कि मैं उ मीद करती हूं कि जून तक सिन्ध का पेयजल मुहैया हो जाये। मगर मैं फिलहाल तारीख तय नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि उन्होंने शहर की 29 सडक़ों के लिये पर्याप्त धन सरकार से मुहैया कराया है।  इनके पूर्ण होते ही जल्द ही 2 और नई सडक़ों का पूर्ण किया जायेगा। 

बहरहाल जिस तरह से पहली मर्तवा खेल युवक कल्याण धर्मस्य मंत्री यसोधरा राजे सिंधिया स्वयं छाता ले, सडक़ों पर सीधे जनता का हाल जानने जो निकली। उसको लेकर राजनैतिक हल्कों में नहीं समुचे शहर में जबरदस्त चर्चा है।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment