उत्साह वर्ष 2017 का आयोजन पर्यटन केन्द्र पर, 7 से 14 जनवरी तक होगें कई कार्यक्रम

शिवपुरी। जिला पर्यटन समवर्धन परिषद शिवपुरी द्वारा आयोजित मेला उत्साह सन 2017 का आयोजन 7 से 14 जनवरी तक टूरिस्ट केन्द्र पर चलेगा। जिसमें विभिन्न कार्यक्रमों के माध्ययम से शहर की विभिन्न क्षेत्र खासकर गायन, कला संस्कृति, नृत्य से जुड़ी प्रतिभाओं को अपने जौहर दिखाने का मौका मिलेगा। वहीं शहर के नागरिकों सहित बच्चों को 7 दिवसीय यह मेला काफी मनोरंजक और खुशहाल रहेगा। 

डीटीपीसी द्वारा कहा गया है कि निर्धारित कार्यक्रम अनुसार इस मेलेे में जनरल सेक्टर, क्राफट बाजार, लेडीस कॉर्नर, खान पान सेन्टर, चिल्ड्रेन जोन प्रमुख है मेले में विशेष रुप से बने लजीज व्यंजन दर्शको को उपलब्ध हो सकेगें। समाज के हर वर्ग की भागीदारी रखते हुये प्रतिदिन फैमली शॉ का आयोजन रखा गया है। जिसके तहत 7 जनवरी को लोक नृत्य एवं लोक गीत तथा फिल्मी संगीत, आरकेष्टा। 9 जनवरी को भजन संध्या, 10 जनवरी को नगर की प्रतिभाओं का नृत्य कला प्रदर्शन, लोक गीत, लोक नृत्य आधारित। 11 जनवरी को गायन में रुचि रखने वाले प्रतिभाओं को वॉइस  ऑफ शिवपुरी प्रतियोगिता। 12 जनवरी को बेस्ट कपल और बच्चों के  लिये फैंसी शॉ, 13 को कटपुतली डांस, 14 जनवरी को आनन्द उत्सव कार्यक्रम के तहत बैंड प्रतियोगिता कवि स मेलन मुसाएरे का आयोजन रखा गया है।

इस मेले की खास बात यह है कि यह मेला पूर्णता मनोरंजक और उत्साह बर्धक रहेगा। जिसमें शहर के नागरिकों की सहभागिता आनन्दित जीवन की साक्षी बन सकते है। मेले में सहभागिता हेतु डीटीपीसी द्वारा 10 रुपये का शुल्क रखा गया है। जिसका उपयोग शहर के पर्यटन विकास में किया जायेगा। 

शिवपुरी शहर के लिये ही नहीं मप्र भर के लिये यह पहला मौका है जहां जिला पर्यटन समबर्धन परिषद द्वारा शहर वासियों के लिये ही नहीं, शहर की प्रतिभाओं के लिये एक ऐसा मंच उपलब्ध कराया गया है जहां शहर की प्रतिभा अपने हुनर को दिखा, अपनी उड़ान पूरी करने का प्रयास कर सकती है। 

डीटीपीसी ने शहर वासियों से उम्मीद की है कि वह शहर और समाज की आवो हवा को सकारात्मक एवं परिणाम मूलक बनाने अपनी-अपनी सहभागिता सुनिश्चित कर इस मेले को सफल बनाने में अपना माहती योगदान देगें। जिससे शहर की दशा-दिशा ही नहीं एक ऐसा स्वच्छन्द मंच शहर के लिये तैयार हो सके। जहां से शहर की हर प्रतिभा आनंदित जीवन जीने के साथ कल्पना की वह ऊंची उड़ान भर सके। जिसकी कि वह पात्र है और उसे जरुरत भी।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment