प्रधानमंत्री की मंशा पूर्ण करने जुटा माई बापों का अमला, हाईटेक व्यवस्था के बीच टारगेट फिक्स

व्ही.एस.भुल्ले। पराकाष्ठा तोड़ती कर्तव्य विमुखता के बीच भ्रष्टाचार के नाम बदनाम म.प्र. के पंचायत एवं ग्रामीण विकास के हालात अब कुछ दिनों से बदले बदले नजर आ रहे है। कारण सूरज की पौ फटने से पूर्व माई बाप पूरे लावो लश्कर के साथ गांवों की ओर रुख कर निकल पढ़ते है। कभी लूटपाट के केन्द्रों के नाम याति प्राप्त पंचायतों में ऐसा भी होगा किसी ने सोचा भी न होगा। यूं तो स्वच्छता अभियान और प्रधानमंत्री आवास निर्माण को लेकर हलचल समुचे देश में है। 

मगर म.प्र. ने गत माहों से जो रफतार पकड़ी है वह काबिले गौर है। जनपद, जिले से लेकर भोपाल स्तर तक के अधिकारी गांवों की खाक छान प्रधानमंत्री की मंशा अनुसार स्वच्छता अभियान के तहत घर-घर शौचालय एवं पात्रता अनुसार पक्के आवास निर्माण के अभियान में जुटे है। ये अलग बात है कि म.प्र. के कुछ जिले पहले ही शौचालय युक्त हो चुके है। मगर जो जिले अतिपिछड़े बड़े है उनमें भी पूरे जोर-शोर के साथ शौचालय निर्माण एवं आवास निर्माण का कार्य चल रहा है। अधिकारी, कर्मचारी गांव-गांव पहुंच रोजगार सहायकों को मोटी वेट कर प्रधानमंत्री की परचम चढ़ाने में लगे है। 

गत दिनों भ्रमण के दौरान म.प्र. के शिवपुरी जिले में देखने में आया कि हर 15-15 दिन में सचिव, रोजगार, सहायक सहित स्वच्छता एवं आवास मिशन से जुड़े अमले की बैठके व अधिकारियों के भ्रमण हो रहे है। एक जिला पंचायत सी.ई.ओ महोदय अपनी नित्य क्रिया क्रम अनुसार रात 3-4 बजे सो कर उठ जाते है, सुबह तक अपने नित्य क्रियाकलाप से फ्री हो जाते है। और अपने निर्धारित कार्यक्रम अनुसार अल सुबह निकल पढ़तेे है, जिनका नाम है डी.के मौर्य सी.ई.ओ जिला पंचायत शिवपुरी और देर शाम घर की ओर लौट पढ़ते है जिनसे हमारी भेंट खनियाधाना ब्लॉक के ग्रामी गोला कोट में हुई कम बोलने में विश्चास रखने वाले उक्त सी.ई.ओ का कहना था कि जब हमारे वरिष्ठ अधिकारी हमसे अधिक मेहनत कर रहे हो, ऐसे में हर अधिकारी, कर्मचारी का कत्र्तव्य बन जाता है कि वह शासन की जनकल्याणकारी  योजनाओं को अमली जामा पहनाने पूरी ताकत से जुट जाये और हम गांवों में घूम, यही कर रहे है। 

वह यहीं पर नहीं रुके उन्होंने चौपाल पर उपस्थित लोगों व मौजूद अमले को समझाइस ारे लहजे में कहा कि जब हमारे प्रधानमंत्री का सपना खुले में शौच से गांवो को निजात दिलाने का हो और वह बगैर छुट्टी लिये आज तक देश के लिये लगातार मेहनत कर रहे हो तो, ऐसे में सभी का फर्ज बनता है, कि हम स मानित गौरव पूर्ण जीवन के लिये कुछ करें और हम वहीं कर रहे है। 

इस मौके पर सी.ई.ओ मौर्य के साथ मौजूद मनरेगा के सुरेन्द्र अघवर्यु स्वच्छता के पाण्डे एवं प्रधानमंत्री आवास मिशन देख रही रागनी पाण्डे ने सरकार और शासन की इन प्राथमिकता वाली योजनाओं के बारे में बताया कि हमने ग्राम ढला, सिरसौद सहित खनियाधाना, पिछोर में भी अपने अमले से क्रियान्वयन की कुछ समस्या और उनके समाधान सहित लक्ष्यों को लेकर चर्चा की है, हमें विश्वास है कि हमारा जिला लक्ष्य के विरुद्ध बेहतर प्रदर्शन कर सकेगा। 

बहरहाल जो भी एक चर्चा म.प्र. में यह भी है कि म.प्र. के मु यमंत्री ने ग्रामीण विकास की योजनाओं में गति लाने की गरज से अतिरिक्त मु य सचिव राधेश्याम जुलानियां को फ्री हेन्ड दे रखा है। म.प्र. की नौकरशाही में जुलानियां एक जाना माना वह नाम है जिन्हें बिगड़ैल व्यवस्था को पटरी पर लाने में महारत हासिल है। उसी के चलते समुचे पंचायत एवं ग्रामीण विकास में अफरा तफरी में मची है, इस बीच यह महात्वकांक्षी योजनायें कब पूर्ण रुपेण भूर्त रुप ले पाती है। यह कहना जल्दबाजी होगी, फिलहाल तो समुचे म.प्र. में माई बापों का अमला प्रधानमंत्री की मंशा को परवान चढ़ाने प्रण-प्राण से जुटा है।  
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment