मूल्यों की राजनीति, जीवन्त करता राहुल का बयान

व्ही.एस.भुल्ले/विलेज टाइम्स/1 अक्टूबर 2016। उरी हमले के जबाव में भारतीय सेना द्वारा किये गये स्ट्राइक हमले के बाद सरकार का समर्थन और प्रधानमंत्री द्वारा लिये गये निर्णय की सराहना ने एक ल बे अन्तराल बाद भारत की राजनीति में एक बार फिर से मूल्यों की राजनीति को सूत्रपात किया। उन्होंने केवल और केवल विरोध की राजनीति करने वालो को भी यह संदेश दिया है कि वह देश की राजनीति को किस दिशा में ले जाना चाहते है लोकतंत्र में राजनीति की दिशा और दशा क्या हो।

निश्चित ही उन्होंने प्रधानमंत्री की पहल की सराहना कर पण्डित नेहरु और अटल, इन्दिरा कार्यकाल की याद ताजा कर दिया। आज देश को इसी तरह की सकारात्मक राजनीति की दरकार है, जिससे देश में मजबूत लोकतंत्र की स्थापना हो सके। 

उन्होंने अपने माहती संगठन कॉग्रेस को भी स्पष्ट कर दिया कि वह कॉग्रेस के संस्कार पर पराओं के साथ कॉग्रेस को और देश को आगे ले जाना चाहते है, जिससे देश व देश का लोकतंत्र मजबूत हो और सत्ता में मौजूद सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा, गांव, गरीब की सेवा से विमुख न हो। 

ये अलग बात है कि वह फिलहाल कॉग्रेस की खोई प्रतिष्ठा और जनाधार बढ़ाने देवरिया से दिल्ली तक किसान यात्रा के सहारे देश की महान जनता के दर्शन कर, देश की नव्ज व देश के लोगों को समझने का प्रयास रहे है। बहरहाल जो भी हो, जो शुरुआत राहुल ने की है उसके दूरगामी परिणाम अवश्यम भावी है। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment