साफ पानी में पनपता है डेंगू, चिकिनगुनिया का र्लावा: डॉ. विष्णुकान्त खरे

विलेज टाइम्स/मप्र/शिवपुरी। मौसमी बीमारियों से ग्रस्त लोगों को सुरक्षित पेयजल मुहैया न हो पाने के कारण बढ़ रही, मौसमी बीमरियों के मद्देनजर यूं तो चिकित्सीय दलो को शासन के कार्यक्रम अनुसार ऐलर्ट पर रखा गया है। जिसके तहत पिछोर, छर्च, कोलारस जैसे क्षेत्रों से मिलने वाली सूचनाओं के आधार पर लोगों को तत्काल चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई गई है। सबसे बड़ी चिन्ता की बात तो यह है कि लोगों के घरों में मौजूद पानी के टेंको के अन्दर अभी भी 10 से 20 प्रतिशत लोगों के यहां डेंगू का र्लावा पाया गया है।

ज्ञात हो कि 1 जून से शुरु होकर जुलाई तक चले जिले भर में विशेष अभियान के तहत यह जानकारी जुटाई गई है कि अभी भी 10 से 20 फीसदी के लोगों के यहां जांच में डेंगू का र्लावा मिला है। 1 सितंबर से अक्टूबर तक चलने वाले द्वितीय अभियान में लोगों को डेंगू के र्लावा के प्रति लोगों को सजग व र्लावा न पनपे इसके लिये जिले भर में रखे  23 टीमो द्वारा यह कार्य किया जायेगा।

जिले के मु यचिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी विष्णुकान्त खरे कहा कि चिकिनगुनिया और डेंगू दोनो ही मच्छरों के र्लावा साफ पानी में पनपते है। इसलिये लोगों को आज-पास या घरों के अन्दर मौजूद पानी पर विशेष ध्यान देने की जरुरत है। इस मौसम में पानी को छानकर ही बन्द पात्रों में रखा जाये। अगर पानी के छानने के पश्चात र्लावा पाया जाता है तो उसे स त किसी चीज से पीसकर नष्ट कर देना चाहिए न कि उन्हें ऐसे ही फैक देना चाहिए। अगर नित्तारी पानी में र्लावा पाया जाता है तो उसके र्लावा नष्ट करने के लिये किसी भी चिकित्सा केन्द्र या हमे सूचित करना चाहिए जिससे दवा के माध्ययम से उसके र्लावा को नष्ट किया जा सके।

खरे ने चिकित्सा सेवाओं से जुड़े अधिकारियों एवं कर्मचारियों को ताकीत करते हुये कहा है कि अगर 1 सित बर से अक्टूबर तक चलने वाले डेंगू के खिलाफ अभियान में कोई कोताही बरती जाती है तो ऐसे लोगो के खिलाफ स त कार्यवाही की जायेगी यहां तक उनको निलंबित भी किया जा सकता है। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment