कुपोषण में कमी लाने शिवपुरी में भी बनेगें बे्रस्ट फीडिंग कार्नर

म.प्र. भोपाल- सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार म.प्र. के महिला बाल विकास विभाग के प्रमुख सचिव जे.एन.कसोटिया ने प्रदेश के समस्त संभाग आयुक्त कलेक्टरों को एक पत्र लिखा है कि वह अन्तर विभागीय समन्वय एवं जन सहयोग से सार्वजनिक स्थानों पर ब्रेस्ट फीडिंग कार्डर तैयार कराये जिससे कुपोषण में कमी लाई जा सके। 

ज्ञात हो कि दिनांक 23.12.2015 को प्रमुख सचिव महिला बाल विकास म.प्र. शासन म.प्र. के समस्त संभाग आयुक्त एवं कलेक्टर को जारी पत्र में कहा है कि बच्चों के शारीरिक, मानसिक एवं बौद्धिक विकास के लिये नवजात शिशु को छ: माह तक तक मां का ही दूध दिया जाना चाहिए मगर कुछ कारणों से नवजात शिशुओं को समय पर मां का दूध उपलब्ध नहीं हो पाता जिससे नवजात बच्चा के स्वास्थ और उसका सही दिशा में विकास नहीं हो पाता। जिसका प्रमुख कारण सार्वजनिक स्थलो पर मातायें के लिये समुचित स्थान का न होना होता है और वह असुविधा महसूस करती है। संकोच झिझक बस भी ल बी यात्राओं में भी माताओं को यह असुविधा होती है। 

 ऐसे में अगर माताओं को रेल्वे स्टेशन, बस स्टैंण्ड इत्यादि स्थानों पर विभागीय समनव्यय से ब्रेस्ट फीडिंग कॉर्नरों की सुविधा मुहैया कराई जाती है। तो मातायें बैझिझक और बगैर किसी संकोच के बच्चों को जरुरत पढऩे पर समय से स्तनपान करा सकती है। 

फिलहाल तो इस तरह के कार्नरों की शुरुआत शहडोल, इन्दौर में की गई है। देखना होगा कि शिवपुरी सहित म.प्र. के अन्य जिले कब जल्द ही इस कतार में नजर आते है, जिससे बच्चों को स्तनपान कराते वक्त माताओं को असुविधा न हो और नवजात बच्चों को समय पर मां का दूध उपलब्ध हो सके। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment