हको की हुंकार से हरकत में आई सरकार को, 10 तक मिली मोहलत

विलेज टाई स, अक्टूबर 2015- म.प्र. भोपाल 29 सित बर 2015 को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के निवास म.प्र. सरकार के प्रतिनिधि व त्रिस्तरीय पंचायती राज संघ के प्रतिनिधियों के बीच चली मैराथन बैठक के पश्चात, हको की हुंकार से हरकत में आई सरकार को 10 अक्टूबर 2015 तक की मोहलत मिल गयी। क्योंकि त्रिस्तरीय पंचायती राज संघ के प्रतिनिनिधियों ने अफसरा रेस्टोरेन्ट पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रे ंस में स्पष्ट कर दिया कि उन्होंंने सरकार के प्रतिनिधियों के इस आग्रह पर कार्यक्रम स्थगित किया है कि मु यमंत्री विदेश दौरे पर है। 15 मांगों पर सहमति के साथ 2 मांगों पर मु यमंत्री से चर्चा उपरान्त कोई सहमति व्यक्त करने की बात कही। इसलिये कार्यक्रम निरस्त नहीं किया गया है। साथ ही 11 अक्टूबर 2015 को कोर कमेटी की बैठक को रखा गया है जिसमें यह तय हो जायेगा कि सरकार के साथ हुई वार्ता का परिणाम क्या है। 

प्रेस वार्ता में यह भी स्पष्ट किया गया कि  हमारे पंच को 500 उप सरपंच  को 2000 और सरपंच को न्यूनतम 5000 रुपये प्रति बैठक के साथ चैक पावर, हर हाल में हम दिला कर ही रहेगें। इस प्रेस कॉन्फ्रेंं स को कॉर कमेटी सदस्य अ ाय मिश्रा ने स बोधित किया इस मौके पर कॉर कमेटी सदस्य मुनेन्द्र तिवारी, रामवीर सिंह, वीरेन्द्र भुल्ले, जावेन्द्र सिंह, हर्षबवर्धन, निर्भय सिंह इत्यादि उपस्थित थे। 

किसी किसान का पंजीयन नहीं रोका जाए - कलेक्टर "धान उपार्जन वर्ष 2015-16"
बैतूल अक्तूबर-2015 जिले में धान उपार्जन वर्ष 2015-16 के दौरान धान उपार्जन की अवधि 2 नवंबर से 25 जनवरी तक एवं मोटे अनाज (मक्का) का उपार्जन 26 अक्टूबर से 15 जनवरी तक किया जाना है। उपार्जन हेतु किसानों का पंजीयन आगामी 12 अक्टूबर तक किया जायेगा। कलेक्टर श्री ज्ञानेश्वर बी. पाटील ने किसानों से अपने निकटतम पंजीयन केन्द्र में जाकर तत्काल पंजीयन कराने की अपेक्षा की है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि किसी भी उपार्जन केन्द्र पर किसानों का पंजीयन रोका नहीं जाये। जो भी किसान पंजीयन हेतु आते हैं उनका पंजीयन नियमानुसार किया जाये। यदि किसी किसान को पंजीयन कराने में अड़चन आती है तो वह अपने क्षेत्र के तहसीलदार को इस आशय की शिकायत कर सकता है। कलेक्टर ने यह भी स्पष्ट किया है कि जिन खरीदी केन्द्रों पर निर्धारित संख्या से अधिक किसानों का पंजीयन होगा एवं उपार्जन हेतु अधिक अनाज प्राप्त होगा वहां वैकल्पिक व्यवस्था कर किसानों के अनाज का उपार्जन कराया जायेगा। कलेक्टर ने किसानों को आश्वस्त किया है कि किसानों को अपने फसल के उपार्जन में कहीं कोई असुविधा नहीं होगी। उनको शासन के नियमानुसार अपनी उपज बेचने की सभी सहूलियतें मुहैया कराई जायेगी।

रभारी मंत्री श्री सिंह ने कुसमी में आदिवासी बालक आश्रम शाला (अंग्रेजी माध्यम) को लोकार्पित किया
सीधी | 04-अक्तूबर-2015 आदिमजाति एवं अनुसूचित कल्याण मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री ज्ञान सिंह ने कुसमी में 95 लाख रूपये की लागत से निर्मित आदिवासी बालक आश्रम शाला (अग्रेजी माध्यम ) को लोकार्पित किया और छात्रावास परिसर में आम का पौधा रोपा। प्रभारीमंत्री श्री सिंह ने कहा कि आदिवासी बालक आश्रम शाला अंग्रेजी माध्यम के भवन का लोकार्पण होने से यहां के आदिवासी वर्ग के छात्रों को अग्रेजी माध्यम से अघ्ययन करने की सुविधा प्रांप्त होगी। इस मौके पर वरिष्ठ समाजसेवी के.के.तिवारी, जनपद सदस्य महिपत सिंह, जिला पंचायत सदस्य शेष मणि पनिका, रामानुज पनाडिया, कलेक्टर विशेष गढपाले, एडीशनल एस.पी.प्रदीप शेन्डे, आदिवासी विकास विभाग के उपायुक्त के.डी.त्रिपाठी, सहायक आयुक्त के.के.पाण्डेय सहित जनप्रतिनिधि, जिला अधिकारी और ग्रामीणजन उपस्थित थे।
    प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार व्दारा आदिवासी वर्ग के बच्चों को आगे अध्ययन करने में अनेक सुविधाये प्रदान कर रही है। उन्हे निःशुल्क पुस्तके, गणवेश, साइकिल, गुणवत्तापूर्ण मध्यान्ह भोजन और छात्रवृति प्रदान की जाती है। पालको का कर्तव्य है कि वे अपने बच्चों को पढाने के लिये स्कूल में भेजे ताकि बालक आगे चलकर उच्चस्तरीय सेवाओं में शामिल होकर निकल सके और उच्च अधिकारी बने। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार ने आदिवासी वर्ग के बच्चों को भी अग्रेजी माध्यम  से अघ्ययन करने में सुविधा देने के लिये अग्रेजी माध्यम के छात्रावास प्रारंभ किये है ताकि छात्र कक्षा एक से ही अग्रेजी माध्यम से शिक्षा प्राप्त करे।
    उन्होने कहा कि इस वर्ष औसत वर्षा कम होने से सूखे की स्थिति निर्मित हो गयी है। किसानों की फसले नष्ट हो गयी है। दुख की इस घडी में सरकार किसानो के साथ खडी है। और उन्हे हर संभव मदद दी जायेगी। इससे पूर्व प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने हीरालाल को सामाजिक सुरक्षा पेंशन का चेक, रामबाई को राष्ट्रीय परिवार सहायता की राशि वितरित की और रामवती सिंह, गुलबसिया, हिन्दिया, लोकनाथ सिंह, परदेशिया बैगा, भुखनीबैगा, सुदर्शन सिंह, सूर्यबली सिंह, श्यामबाई, शिवप्रसाद और बुधनी बेैगा को मच्छरदानी और कंबल वितरित किया।
    विधायक कुवंर सिंह टेकाम ने कहा कि आज बहुप्रतीक्षित आदिवासी बालक आश्रम का लोकार्पण किया गया इससे इस क्षेत्र के नागरिको को एक सौगात मिली है। वर्ष 2011-12 में अग्रेजी माध्यम के स्कूल खोले गये थे। कक्षा एक से 12 तक स्कूल संचालित किया जा रहा है। जिन छात्रों ने कक्षा एक में प्रवेश लिया था वे आज कक्षा 5 में पहुंच गये है। कुसमी क्षेत्र का चहुमुखी विकास किया गया है। इस शाला परिसर में 7 हायर सेकण्डरी स्कूल प्रारंभ है। कालेज भवन, इन्डोर खेल का मैदान, गोदाम,आई.टी.आई और कौशल उन्नयन शालाये प्रारंभ की गयी है। पेयजल के लिये नल जल योजना स्वीकृत की गयी है। एस.डी.एम. कार्यालय और एस.डी.ओ.पी कार्यालय प्रांरभ हो गये है। उन्होने कहा कि मलेरिया प्रभावित क्षेत्र होने के कारण गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले 10 हजार आदिवासी परिवारों को मच्छरदानी एवं कबल का वितरण किया जा रहा है।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment