चैलेन्ज को चुनौती देता, कप्तान का कारवां

विलेज टाईम्स, सितम्बर 2015 म.प्र.।  पुलिसिंग में नये आयाम तय कर चैलेन्ज को चुनौती देता कप्तान का कांरवा यह साबित करने में सफल रहा कि किस तरह से अपराधों के खुलासे दिखाते है अपराधियों को आयना। कोई भी अपराध कितनी ही कूट रचना कर रचा जाये पुलिस चाहे तो मौजूदा कानून के दाहरे में रह उनका समय बद्ध खुलासा किया जा सकता है।
बस जरुरत होती है सूचना मिलते ही सक्रिय हो, मोकाय बारदात पर पहुंच सूचना जुटा अपने वरिष्ठ अधिकारियों के  मार्गदर्शन और उस मार्गदर्शन से लाभ उठाने की जो खासकर बिलायन्ड अपराधों से जुड़ी हो, जिससे घठित घटना और अपराधों के खुलासे में मदद मिल सके।  कभी-कभी घटना या अपराध घठित होने पर मौका मुआयना से संकलित सूचनायें, तथ्य मील का पत्थर साबित होती है। जघन्य अपराधों के ाुलासे एवं अपराधियों की धरपकड़ में ऐसा ही कुछ ग्वालियर जॉन के शिवपुरी जिलें में विगत कुछ माहों से देखने में आ रहा है। ग्वालियर संभाग में ग्वालियर  पुलिस महानिरीक्षक आदर्श कटियार की पैनी नजर और शिवपुरी पुलिस अधीक्षक युसूफ कुर्रेशी के जुनून के चलते उनकी कारगार टीम के अधिकारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आलोक सिंह एस.डी.ओ.पी., एस.एस. तोमर, चन्द्रभान सिंह रघुवंशी, जी.डी. शर्मा, पी.के.आर्य ने ऐसे कई बिलायन्ड जघन्य अपराधों का खुलासा कर अपराधियों को पकड़ा है जिन्हें पुलिस के लिये चैलेन्ज माना जाता था। देखा जाये तो म.प्र. के शिवपुरी जिले में विगत कुछ महिनो से ऐसे बिलायन्ड मर्डर, लूट, डकैती से संबंधित खुलासों की फेरिस्त बन गई है। जिसमें कई बिलायन्ड अपराधों में तो आरोपी मात्र 6 घन्टे के अन्दर ही धर लिये गये। 
इन 4 माहों में सबसे बड़ी सफलता 30 हजार के इनामी मोहरु बंजारा व इस टीम के 3 अन्य सदस्यों की जिन्दा गिरफतारी के रुप में रही, वहीं पिछोर थाना क्षेत्र में मैघना हत्या काण्ड सहित लूट हत्या, मर्डर, जैसे जघन्य अपराधों में अन्तराज्यीय झांसी के अपराधियों की गिरफतारी स भवत: कई वर्षो बाद पहली मर्तवा हुई है। जो वर्षो से झांसी से सटे शिवपुरी जिले के लिये चैलेन्ज बने रहते थे। इतना ही नहीं मुरैना, ग्वालियर से आकर शिवपुरी जिले में अपराध करने वालो की भी खासी धर पकड़ शिवपुरी पुलिस द्वारा की गई है। 

बहरहाल जिस तरह की पुलिङ्क्षसग फिलहाल म.प्र. के शिवपुरी जिले में चल रही है उसके परिणाम स्वरुप हाइवे लुटेरो की धरपकड़ से रापी लगाकर 4 लेन पर सरेयाम लूट करने वालो पर तो कम से कम मुक मल रोक लगी है। 
मगर जिस लोकतांत्रिक पुलिसिंग के रास्ते शिवपुरी अपने कप्तान कुर्रेशी के नेतृत्व में चल निकली है। उससे इतना तो साफ है कि भले ही अपराध बढऩा सामाजिक प्रक्रिया हो, मगर फिलहॉल उनके खुलासे ही नहीं उनकी अच्छी मज्जमत ाी हो रही है। 
जिसमें जनसंवाद जैसे कार्यक्रमों में पुलिस अधीक्षक की सीधी शिरकत व लोगों को समझाइस इस बात का प्रमाण है कि एक ओर पुलिस जहां अपराधियों के लिये कमर कस कर खड़ी है। तो दूसरी ओर वह समाज में अपराध अपराधी न बढ़े उसके लिये जनसंवाद के माध्यम से लेागों को सीख भी मिल रही है। 
देखना होगा आखिर कब तक लेागों को ग्वालियर के पुलिस महा निरीक्षक आदर्श कटियार और शिवपुरी के पुलिस अधीक्षक युसूफ कुर्रेशी की टीम वह पुलिस देती है जो जनकांक्षा आम व्यक्ति में बनी रहती है। 

शिक्षक दिवस की पूर्व संध्‍या पर प्रधानमंत्री का राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षकों के साथ अनौपचारिक वार्तालाप 
नई दिल्ली  प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज शिक्षक दिवस की पूर्व संध्‍या पर राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित शिक्षकों के साथ अनौपचारिक वार्तालाप किया।  प्रधानमंत्री ने देश में शिक्षा की गुणवत्‍ता में सुधार के लिए शिक्षकों से निरंतर प्रयास जारी रखने को कहा। प्रधानमंत्री ने कहा कि शिक्षकों को प्रौद्योगिकी के प्रति सचेत रहना चाहिए और इसे अपने शिक्षण क्रम के एक अंग के तहत विवेकपूर्ण तरीके से आत्‍मसात करना चाहिए। उन्‍होंने छात्रों के बीच सृजनशीलता को प्रोत्‍साहन देने की भी शिक्षकों से अपील की।  श्री नरेन्‍द्र मोदी ने छात्रों में स्‍वच्‍छता की आदतें डालने हेतू प्रेरित करने के लिए भी शिक्षकों का आह्वान किया। 
इस अवसर पर, मानव संसाधन विकास मंत्री श्रीमती स्‍मृति ईरानी और केंद्रीय मानव संसाधन राज्‍य मंत्री डॉ. राम शंकर कठेरिया भी उपस्‍थित थे।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment