हर गरीब को मिलेगा पक्का आशियाना: ऊर्जा मंत्री राजेन्द्र शुक्ल

रीवा। 21-सितम्बर-2015   ऊर्जा, खनिज साधन और जनसम्पर्क मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने रतहरा में आई.एच.एस.डी.पी. योजना के अन्तर्गत रानी तालाब के विस्थापितों के लिये बनाये गये 156 आवासीय भवनों को लोकार्पित किया। ये भवन लाटरी पद्धति से आवंटित किये गये। इन भवनों की कुल लागत 4 करोड़ 21 लाख रूपये है। प्रति भवन लागत 2 लाख 70 हजार रूपये है। इस अवसर पर नगर निगम रीवा की महापौर ममता गुप्ता, नगर निगम अध्यक्ष सतीश सोनी, निगमायुक्त शैलेन्द्र शुक्ला, पार्षद व्यंकटेश पाण्डेय, वार्ड क्रमांक 15 के पार्षद अशोक पटेल, राजेश पाण्डेय तथा जन प्रतिनिधि गण उपस्थित थे।


ऊर्जा मंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि रानी तालाब के विस्थापितों को पक्के भवनों का आवंटन हर गरीब के सिर के ऊपर पक्की छत उपलब्ध कराने के राज्य शासन के संकल्प के अन्तर्गत प्रयास है। रीवा में यह पहला प्रयास है। भविष्य में हर गरीब को पक्के मकान बनाकर देने की योजना का क्रियान्वयन जारी रहेगा। जिनके पास स्वयं का मकान नहीं था आज वे अपने मकान के मालिक हैं।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि शीघ्र ही म.प्र. राज्य विद्युत मण्डल द्वारा यहां शिविर लगाया जायेगा और भवन स्वामियों को विद्युत कनेक्शन प्रदान किये जायेंगे। ऊर्जा मंत्री ने 156 भवनों में रहने वाले सभी व्यक्तियों को केन्द्र सरकार की बीमा योजनाओं से 30 सितम्बर के पहले विशेष अभियान चलाकर लाभान्वित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यहां रहने वाले अटल दुर्घटना बीमा योजना के सभी हितग्राहियों की बीमा राशि उनके द्वारा जमा करायी जायेगी। इस कार्य के लिये ऊर्जा मंत्री ने शिविर आयोजित करने के निर्देश दिये। भवन स्थल तक कांक्रीट सड़क का निर्माण कराने के निर्देश ऊर्जा मंत्री ने दिये।

बाबूलाल बंसल के परिवार को मिलेगा आवास- बीहर नदी के किनारे छोटी पुल और बड़ी पुल के बीच बाबूलाल बंसल ने अपने परिवार के लिये रहने का स्थान चुना था और वे वहां रहने भी लगे थे जो कि बहुत खतरनाक था। ऊर्जा मंत्री श्री शुक्ल के ध्यान में जब यह बात आयी तो उन्होंने बाबूलाल बंसल को शहर में सुरक्षित स्थान पर रहने की व्यवस्था करायी। बांस, बल्ली, तिरपाल आदि प्रदान किये। 20 हजार रूपये स्वेच्छानुदान निधि से प्रदान किये। उन्होंने कहा श्री बंसल के परिवार के लिये शीघ्र ही पक्का मकान का इंतजाम किया जायेगा। श्री बंसल ने कार्यक्रम स्थल पर परिवार सहित आकर मंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त किया। महापौर ममता गुप्ता ने कहा कि ऊर्जा मंत्री ने शहर को रानी तालाब जैसे सुन्दर और पर्यावरण संरक्षण के लिये महत्वपूर्ण तालाब की सौगात दी थी। वहीं उन्हें तालाब बनने से प्रभावित परिवारों के पुनर्वास की चिन्ता भी थी। ऊर्जा मंत्री ने इन गरीब परिवारों को शुरू से ही मदद पहुंचायी है। अब वे पक्के मकानों के मालिक है। इन मकान के लिये उन्हें आसान किस्त में पैसा जमा करना होगा।

नगर निगम आयुक्त शैलेन्द्र शुक्ला ने कहा कि रानी तालाब के निर्माण के समय वहां से विस्थापितों को ऊर्जा मंत्री ने रहने के लिये भूमि, बिजली, पानी की सुविधा दिलाई। ठण्ड में कम्बल, बरसात में बरसाती प्रदान की। हर जरूरत और संकट के समय उनका ध्यान रखा। निगमायुक्त ने कहा कि भवन की मार्जिन मनी हितग्राही को अदा करना है। उन्हें बैंक से ऋण प्रदान कराया जायेगा। भवन स्वामी को आसान किस्त जमा करनी होगी। प्रथम चरण की राशि जमा करने पर मकान का स्वामित्व उन्हें मिल जायेगा। ये भवन अहस्तान्तरणीय है। किसी को बेचने की अनुमति नहीं होगी। इनमें स्वयं निवास करना होगा। इस अवसर पर नगर निगम के अधिकारी, पार्षदगण, स्थानीय नागरिक, जन प्रतिनिधिगण आदि मौजूद थे।

समर्थन मूल्य पर मोटे अनाज की खरीदी हेतु किसानों को पंजीयन कराना अनिवार्य
खरगौन | 21-सितम्बर-2015 खरीफ उपार्जन वर्ष 2015-16 हेतु समर्थन मूल्य पर मोटे अनाजों की खरीदी हेतु किसानों को पंजीयन कराना अनिवार्य है।
 मोटे अनाजों ज्वार, मक्का व बाजरा की खरीदी के लिए जिलेभर में 14 खरीदी केंद्र स्थापित किए गए हैं। इन केंद्रों में अजा सेवा सहकारी समिति सेगांवा, धूलकोट, भीकनगांव, झिरन्या, महेश्वर व करही तथा श्री गणेश मार्के. संस्था खरगोन, जिला थोक उपभोक्ता भंडार खरगोन, श्री शक्ति सहकारी विपणन संस्था गोगांवा, यामिनी बीज उत्पादक सहकारी संस्था सनावद एवं सेवा सहकारी समिति बैड़िया, बलकवाड़ा व देवश्री मार्केटिंग सोसायटी कसरावद तथा वृहत्ताकार सेवा सह. समिति बड़वाह को खरीदी संस्था के रूप में अधिकृत किया गया है। इन संस्थाओं द्वारा निर्धारित खरीदी केंद्र खरगोन, गोगांवा, सेगांवा, भीकनगांव, झिरन्या, धूलकोट, बैड़िया, सनावद, बड़वाह, करही, महेश्वर, बलकवाड़ा, कसरावद पर मोटे अनाज (ज्वार, मक्का, बाजारा) का समर्थन मूल्य पर खरीदी कार्य किया जाएगा। सभी खरीदी केंद्रों का कार्यक्षेत्र गत वर्षानुसार निर्धारित किया गया है। उक्त खरीदी संस्थाओं के द्वारा अपने खरीदी क्षेत्र के किसानों का पंजीयन कार्य प्रारंभ कर दिया गया है, जो 12 अक्टूबर 2015 तक चलेगा।
   जिले के समस्त कृषकों से अनुरोध किया गया है कि अपने क्षेत्र की खरीदी संस्था पर निर्धारित पंजीयन फार्म भरकर तथा अपनी कृषि भूमि की ऋण पुस्तिका लेकर उक्त निर्धारित समयसीमा में अपना पंजीयन कराना सुनिश्चित करें। जिन कृषकों के गत वर्ष के पंजीयन हैं, जिनमें संशोधन होना है अथवा नहीं होना है, वे भी अपने पंजीयन का संशोधन करा लेवें अथवा उसे अद्यतन करा लेवें।

स्वच्छ भारत मिशन योजना के क्रियान्वयन के लिए ग्राम पंचायतों में सितम्बर से दिसम्बर माह तक ग्राम सभाएं आयोजित होंगी
सीधी | 21-सितम्बर-2015 जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मोहित बुन्दस ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत शौचालय निर्माण को अभियान के रूप में चलाने के लिए समस्त ग्राम पंचायतों में सितम्बर माह से लेकर दिसम्बर माह तक ग्राम सभाओं का आयोजन किया जायेगा। ग्राम सभाओं को संचालित करने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। उन्होंने बताया कि सितम्बर माह में 24 सितम्बर को सिहावल जनपद पंचायत की 100 ग्राम पंचायतों में और रामपुर नैकिन में 24 सितम्बर को ही 90 ग्राम पंचायतों में तथा कसुमी में 24 सितम्बर को ही 42 ग्राम पंचायतों में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि 26 सितम्बर को मझौली 53 ग्राम पंचायतों में और 26 सितम्बर को ही सीधी की 115 ग्राम पंचायतों में ग्राम सभायें आयोजित की जायेंगी। ग्रामसभाओं के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी ग्राम पंचायत एवं हितग्राहियों द्वारा निर्मित शौचालय का सरपंच सचिव से सत्यापित फोटोग्राफ प्राप्त करेंगे।
    जिला पंचायत के सीईओ श्री बुन्दस ने बताया कि अक्टूबर माह में 12 अक्टूबर को सिहावल और रामपुर नैकिन में 14 अक्टूबर को कुसमी में 15 अक्टूबर को मझौली में तथा 16 अक्टूबर को सिहावल में ग्राम सभायें आयोजित की जायेंगी। नवम्बर माह में 9 नवम्बर को सिहावल में, 12 नवम्बर को रामपुर नैकिन में, 13 नवम्बर को कुसमी में, 16 नवम्बर को मझौली में और सीधी में ग्राम सभायें आयोजित की जायेंगी। दिसम्बर माह में 9 दिसम्बर को सिहावल में, 10 दिसम्बर को रामपुर नैकिन में, 11 दिसम्बर को कुसमी में, 12 दिसम्बर को मझौली में और सीधी में ग्राम सभायें आयोजित की जायेंगी।
    उन्होंने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन योजनान्तर्गत निश्चित किया गया है कि समस्त जन प्रतिनिधियों के यहॉ एक माह के अन्दर व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण कर लिया जाय। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के यहॉ एक माह के अन्दर, सचिव एवं रोजगार सहायक के यहॉ आगामी एक माह में आशा कार्यकर्ता एवं महिला एवं पुरूष स्वास्थ्य कार्यकर्ता के यहॉ एक माह के अन्दर, संविदा शिक्षक, गुरूजी एवं अतिथि शिक्षक, स्वसहायता समूहों एवं महिला स्वसहायता समूहों के सभी सदस्यों के यहॉ शौचालय का निर्माण एक माह के अन्दर करना लक्षित किया गया है। विद्यालय में होने वाली बाल सभा या प्रतियोगिताओं में स्वच्छता के प्रति भाषण, बात-चीत, निबन्ध लेखन पर चर्चा की जायेगी। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment