शिवपुरी में फिर सिंघम

व्ही.एस.भुल्ले  11 जून 2015। मप्र शिवपुरी विलेज टाईम्स। लेाकतांत्रिक पुलिसिंग में माहिर मो. युसूफ कुरैशी के रुप में शिवपुरी को अब दूसरी मर्तवा फिर से एक सिंघम मिल गया है। 18-18 घन्टे मेहनत करने वाले इस नौजवान आईपीएस की कार्यप्रणाली का ही कमाल है। कि शिवपुरी की सड़कों चैाराहों पर ढूढ़े से न दिखने वाली पुलिस अब थोक बन्द रुप से सड़क चौराहे पर ही नहीं पार्क, कोचिंग, कॉलेज के दरबाजे पर दिख जाती है। 

फिलहॉल तो कुछ हो या न हो कम से कम नये सिंघम ने वीरान पढ़े चौराहों को अपनी पुलिसिंग से आबाद कर दिया है। वहीं दूसरी ओर गुन्डे अपराधियों, शराब तस्कारों की धरपकड़ ने भी मौजकर रहे लेागों को सांसत में डाल दिया है। 

फुल फ्लेस पुलिस अधीक्षक के रुप में दूसरी मर्तवा किसी जिले मेेंं पुलिस अधीक्षक के रुप में पदस्थी 2010 के इस आई.पी.एस. के लिये नई बात न हो, मगर जिस तरह की पुलिसिंग का आगाज शिवपुरी में हुआ है। वह काबिले गौर है। एक ओर अपनी पुलिस की संरक्षा तो, दूसरी ओर आम नागरिक की सुरक्षा को लक्ष्य बना अपने कत्र्तव्य में मसगूल इस आई.पी.एस. द्वारा पूर्ण पारदर्शिता के साथ पुलिस द्वारा की जाने वाली कार्यवाही एवं किसी भी थाना क्षेत्र में घटित होने वाली घटनाओं का खाका वाटसप पर उपलब्ध करा रखा है। तो दूसरी ओर आम नागरिकों के लिये शिकायत एवं एफआईआर दर्ज कराने ऑन लाइन व्यवस्था की गई है। 

फिलहॉल अभी तो नये सिंघम को कुछ दिन ही हुये है जिन्होंने हाल ही में शहर के कोतवाली के पुलिस निरीक्षक को निलंबित कर दिया है। मगर देखना होगा कि नई चुनौतियों के मद्देनजर क्या परिणाम रहेगें यह भविष्य के गर्व में है। मगर फिलहॉल तो अपराधियों में हड़कम तो कप्तान साहब की कार्यप्रणाली को लेकर उनका महकमा परेशान है। तो कुछ आराम तलब अमला हैरान है।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment