सत्य और सादगी पर सवाल....... ?

व्ही.एस.भुल्ले। कॉग्रेस का हाथ गरीबों के साथ क्या कोई गुना है ? यहीं है कॉग्रेस की आत्मा,उसकी पहचान और विश्चास फिर क्या गलत किया राहुल ने ? जिसकी पुष्टि उन्होंने दिल्ली विधानसभा चुनाव रैली में भी की है। उनका तर्क था कि उन्होंने गरीबों और आदिवासियों के लिये लड़ाई लड़ी है। और उनकी यह लड़ाई व संघर्ष आगे भी जारी रहेगा।

राहुल की आदिवासी, झुग्गी वासियों, आम गरीबों के लिये लड़ी जाने वाली लड़ाई का परिणाम जो भी हो, मगर यह सत्य है कि यह लड़ाई खून बनकर आम कॉग्रसियों की रक्तिकाओं में दौड़, देश के दिल में कब धड़केगी।
जो लेाग कॉगे्रेस को पानी पी पी कर और कॉग्रेस से दरकिनार होकर कोसते नहीं थकते उन्हें मालूम होना चाहिए किसी दल के नेतृत्व वाली सरकार उस दल की रीति नीति और उसके विचार धारा का प्रतिबि ब होती है। जिन पर चल वह सत्ता तक पहुंच सरकार बनाती है। फिर उसी दल के नेतृत्व वाली सरकार कैसे अपनी रीति नीति भूल सकती है।

अगर ऐसे में उसी दल के किसी नेता द्वारा सरकार या मंत्री की कार्यप्रणाली को लेकर चर्चा करता है। ाासकर जब उस सरकार या मंत्री का कार्य दल की आत्मा के ही विरुद्ध हो तो गलत क्या ?
शायद राहुल ने ठीक ही कहा होगा क्योंकि राहुल उस दल के नेता है जिसका स पूर्ण इतिहास, विजन देश के आम गरीब, किसान, आदिवासियों, मजदूरों के साथ राष्ट्र कल्याण के लिये है।
आज जो बातें कॉग्रेस नेतृत्व वाली सपग्र सरकार के क्रिया कलापो या कॉग्रेस को लेकर की जा रही है वहीं सिर्फ स्वयं के स्वार्थो के अलावा कुछ भी नहीं। फिर चाहे वह कोई व्यक्ति हो, या फिर दल।

देखा जाये तो अपने राजनैतिक जीवन में सादगी, सत्य, संघर्ष और सरलता की जो मिशाल राहुल नें देश में प्रस्तुत की है वह शायद उन्हें अपनी दादी स्व.इन्दिरा गांधी, पिता स्व. राजीव गांधी और उनकी माँ श्रीमती सोनिया गांधी से विरासत में मिली है जिसकी छत्र छाया में वह महात्मा गांधी के सपनो का भारत बनाने संघर्षरत है।

सच तो यह है कि एक सादा कुर्ता पयजादा, जाकेट या जीन्स कुर्ते में जबानी व्यतीत कर गरीबों के लिये संघर्षरत राहुल की भावनाओं को लाखो की लग्झरी कारो, लाखो के शूट पहनने, पहनाने वालो को क्या पता कि देश का मर्म क्या है ? और आधे से अधिक गरीब आबादी वाले देश के मुखिया का आचरण पहनावा अपने ही देश में कैसा हो ? रीति-नीति तो बाद की बात है।

मगर जब सत्य, साहस सरलता, सादगी पर सवाल हो तो ऐसे में राहुल का कत्र्तव्य बन जाता है। कि वह पिता स्व. राजीव गांधी की तरह भारत भ्रमण अवश्य करे। जो उन्होंने अपनी मां स्वर्गीय इन्दिरा गांधी के कहने पर किया था।

स्वत. ही उन्हें स्वयं ाी कई सवालो के जबाव तथा कई सवालो के जबाव उन सवाल कत्र्ताओं को मिल जायेगें। जो समय वेसमय वेतुके सवाल दाग देश व देश की आवाम को दिग्भ्रमित कर अपने स्वार्थ साधना चाहते है। क्योंकि भारत भ्रमण ही वह कसौटी होगी जिसमें आरोप प्रत्यारोपों के जबाव तो मिलेगें ही साथ ही देश और देश वासियों को समझने का मौका भी मिलेगा।

क्योंकि जिस भारत निर्माण की शुरुआत कभी स्व. राजीव गांधी ने की थी आज समुचा भारत उस पर चल ही नहीं रहा बल्कि खुद को गौरान्वित भी महसूस कर रहा है। क्योंकि न तो कभी सच को नकारा जा सकता न ही सादगी पूर्ण जीवन को कभी भुलाया जा सकता जिसकी आज देश को स त जरुरत है।

श्री नितिन गडकरी ने आश्वासन दिया कि सड़क परिवहन और सुरक्षा विधेयक राज्यों के अधिकारों का अतिक्रमण नहीं करेगा
Ù§üU çÎËÜè 05-फरवरी, 2015 केन्द्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और जहाजरानी मंत्री श्री नितिन गडकरी ने आश्वासन दिया कि सड़क परिवहन और सुरक्षा विधेयक 2014/15 का इरादा राज्यों के अधिकारों का अतिक्रमण करना नहीं है। श्री गडकरी आज यहां अपने मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समिति की बैठक में बोल रहे थे। मंत्री महोदय ने कहा कि इस विधेयक का इरादा देश में यात्रियों की आवाजाही और मालढुलाई को सुरक्षित, तीव्र, किफायती और समावेशी बनाना है। उन्होंने कहा है कि इस विधेयक का उद्देश्य सड़कों से उत्पन्न स्वास्थ्य के खतरे की रोकथाम करना और प्रभावकारी सड़क सुरक्षा समयानुसार सुनिश्चित करना है। सड़क दुर्घटनाओं से प्रतिवर्ष सकल घरेलू उत्पाद में तीन प्रतिशत का नुकसान होता है। इस मुद्दे का तत्काल समाधान करना जरूरी है और यह विधेयक इस दिशा में एक समुचित प्रयास है। सड़क परिवहन और सुरक्षा विधेयक 2014/15 की मुख्य विशेषताओं की चर्चा करते हुए श्री गडकरी ने कहा कि यह मोटरवाहन अधिनियम 1988 से लेकर एक महत्वपूर्ण प्रस्थान है, क्योंकि नये विधेयक में निर्माण, डिजाइन, रख-रखाव तथा मोटरवाहनों के इस्तेमाल में सुरक्षा शामिल है और सड़क इसका एक प्रमुख घटक है। इस विधेयक में नियमों का उल्लंघन करने वाले लोगों के विरूद्ध सख्त जुर्माने का प्रावधान शामिल है। बैठक में भाग लेने वाले सांसदों में श्री नरेन्द्र केशव सवाइकर, श्री भीमराव बसवंतराव पाटिल, श्री वीरेन्द्र कुमार चौधरी, श्री सीआर चौधरी, श्री दिलीप पटेल, डॉ. कुलमणि सामल, श्री के प्रभाकर रेड्डी, श्री मेकापति राजमोहन रेड्डी, श्री मोहम्मद सलीम, श्री नाटूभाई गोमनभाई पटेल, श्रीमती नीलम सोनकर, श्री पर्वतगोडा चंदनगोडा गड्डीगौडार, श्री प्रताप सिम्हा, श्री एसपी मुड्डाहनुमेगोडा, श्री शिशिर कुमार अधिकारी, डॉ. चंदन मित्रा और श्री पी भट्टाचार्य शामिल थे।

मध्यप्रदेश में 15 फरवरी से मनेगा साँची उत्सव
भोपाल : गुरूवार, फरवरी 5, 2015, मध्यप्रदेश में 15 फरवरी से 15 मार्च तक साँची उत्सव मनाया जायेगा। मध्यप्रदेश दुग्ध महासंघ में कार्य कर रहे भोपाल, उज्जैन, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर दुग्ध संघ द्वारा साँची उत्सव का आयोजन होगा। उत्सव के दौरान दुग्ध संघों द्वारा साँची ब्राण्ड को लोकप्रिय बनाने और आम उपभोक्ताओं को दूध तथा उससे बने उत्पादों की गुणवत्ता की जानकारी दी जायेगी। उपभोक्ताओं को खाद्य सुरक्षा अधिनियम, स्वास्थ्य, साँची की गुणवत्ता से अवगत करवाने के लिये भी विभिन्न कार्यक्रम होंगे। दुग्ध संघों द्वारा साँची रैली, दौड़ के अलावा बेस्ट स्लोगन, फेस ऑफ दि मंथ, हेल्दी बेबी और व्यंजन प्रतियोगिताएँ करवाई जायेंगी। इसके साथ राहगीरी-डे में नुक्कड़ नाटक भी होंगे। उत्सव में 'स्वच्छ दूध-स्वच्छ भारत'' स्लोगन का प्रयोग होगा।

राष्ट्र की प्रगति के लिए देशभक्ति की भावना जरूरी है : राज्यपाल : राजभवन में एन.सी.सी. का ‘एट होम फंक्शन’ संपन्न
रायपुर, 05 फरवरी 2015 राज्यपाल श्री बलरामजी दास टण्डन ने आज यहां राजभवन में एन.सी.सी. कैडेटों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि राष्ट्र के युवाओं में देशभक्ति का जज्बा और स्व अनुशासन हो तो वह देश प्रगति के पथ पर निरंतर बढ़ता जाता है। उन्होंने कहा कि आजादी को कायम रखने के लिए सतत् जागरूक और तत्पर रहना जरूरी है। श्री टण्डन ने एन.सी.सी. के ‘एट होम फंक्शन’ में उपस्थित प्रतिभाशाली और जांबाज कैडेटों को गणतंत्र दिवस परेड 2015 एवं अन्य शिविरों में उल्लेखनीय कार्य के लिए हार्दिक बधाई दी। कार्यक्रम में सचिव, स्कूल शिक्षा श्री सुब्रत साहू, एन.सी.सी. छत्तीसगढ़ के ग्रुप कमाण्डर श्री आई.जी. एस. चौहान सहित अन्य अधिकारी एवं कैडेट उपस्थित थे।
राज्यपाल श्री टण्डन ने कहा कि राज्य के लिए यह गर्व की बात है कि हमारे कैडेटों ने अनेक महत्वपूर्ण शिविरों में उत्साहपूर्वक भाग लिया और अपनी उपलब्धियों से राज्य का नाम रोशन किया। उन्होंने कहा कि एन.सी.सी. के जरिए युवाओं में अनुशासन और देशभक्ति की भावना जागृत होती है। हमें स्व अनुशासन को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के युवाओं को, नागरिकों को हमेशा जागरूक रहना चाहिए, जिससे देश के बाहरी और भीतरी, दोनों प्रकार के शत्रुओं से निपटा जा सके। श्री टण्डन ने इजराइल देश का उदाहरण देते हुए बताया कि एक छोटे से देश के नागरिकों में देशभक्ति की प्रबल भावना होने के कारण ही पड़ोसी शक्तिशाली देश उसे पराजित नहीं कर सके। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में हाल ही में आई प्राकृतिक आपदा के दौरान सेना द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्य का स्मरण कराया और युवा कैडेटों को इसी तरह देशभक्ति की भावना से कार्य करने की समझाईश दी।
राज्यपाल श्री टण्डन ने इंटरग्रुप मुख्यालय आर.डी.सी. प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ के एकमात्र ग्रुप मुख्यालय रायपुर को प्रथम आने पर शील्ड प्रदान किया। कार्यक्रम में एन.सी.सी. कैडेटों ने लोकनृत्य, देशभक्ति गायन एवं मनमोहक नृत्य नाटिका प्रस्तुत की। इस वर्ष रायपुर ग्रुप को जी.व्ही. मावलंकर इंटरग्रुप शूटिंग प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ। यूथ एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत इस वर्ष छत्तीसगढ़ के दो कैडेटों सीनियर अंडर ऑफिसर पिंकी कुमारी और कैडेट प्रशांत तिवारी का चयन सिंगापुर और बांग्लादेश जाने के लिए हुआ था।

स्वाईन लू दवाईयों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराने के निर्देश 5 लाख गोलियों की खेप पहुंची
जयपुर, 5 फरवरी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने प्रदेश में स्वाईन लू की स्थिति को ध्यान में रखते हुये स्वाईन लू जांच हेतु वीटीएम, वैक्सीन एवं दवाईयों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित रखने के निर्देश दिये है। उन्होंंने बताया कि प्रभावित क्षेत्रों में आवश्यकतानुसार विद्यालयों में अवकाश घोषित करने हेतु आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। श्री राठौड़ ने बताया कि स्वाईन लू की दवाईयां सभी चिकित्सा केन्द्रोंं में उलपब्ध करायी जा रही है। वर्तमान में 2 लाख टेमी लू टेबलेट उपलब्ध है। दवाईयों की आपूर्ति को नियमित बनाये रखने के लिये गुरूवार को 5 लाख टेबलेट प्राप्त हुई है एवं शुक्रवार को 5 लाख अतिरिक्त टेबलेट्स प्राप्त हो रही है। उन्होंने बताया कि स्वाईन लू के ईलाज में लगे चिकित्साकर्मियों के वैक्सीन लगाने के लिये पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध है एवं आवश्यकतानुसार पर्याप्त आपूर्ति बनायी रखी जायेगी। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि स्वाईन लू की दवाईयां राजकीय चिकित्सा संस्थानों में उपलब्ध है। इसके साथ ही जयपुर में 50 सहित प्रदेश के 200 निजी दवा विक्रेताओं के पास स्वाईन लू से संबंधित दवाईयां उपलब्ध है। समस्त सहकारी उपभोक्ता दवा विक्रय केन्द्रों में भी स्वाईन लू की दवाईयां उपलब्ध करवा दी गयी है। निजी चिकित्सा केन्द्रों को भी उनकी मांग पर दवाईयां उपलब्ध करवायी जा रही है। निजी दवा विक्रेताओं को दवा के साथ ही वैक्सीन भी उपलब्ध रखने के लिये कहा गया है। उन्होंने बताया कि स्वाईन लू जांच के लिये वीटीएम भी उपलब्ध है एवं भावी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुये पर्याप्त मात्रा में वीटीएम भी सभी मेडिकल कॉलेजों में उपलब्ध करायी जा रही है।

एनटीपीसी परिवार के सदस्य के लिए राष्ट्रीय बाल श्री सम्मान
एनटीपीसी परिवार से प्रीति पाणिग्रही 'रचनात्मक प्रदर्शन के लिए' 'राष्ट्रीय Balshree ऑनर' से सम्मानित किया गया है। प्रीति 9-11 वर्ष की आयु समूह में इस सम्मान को प्राप्त करने का एकमात्र संतान है। वह श्री सूर्य नारायण पाणिग्रही, Addl.Gen.Manager (मानव संसाधन), एनटीपीसी की बेटी है।
पुरस्कार विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित समारोह में माननीय केन्द्रीय मंत्री, मानव संसाधन विकास सुश्री स्मृति जुबिन ईरानी द्वारा प्रस्तुत किया गया था। सम्मान प्रशंसा, प्रशस्ति पत्र और किसान विकास पत्र रुपये मूल्य की एक पट्टिका शामिल थे। 10,000 / -। प्रीति, यानी उसकी शैक्षिक और सह पाठयक्रम गतिविधियों के लिए जाना जाता है एक प्रतिभाशाली बच्चा है। कला विशेष रूप से रंगमंच और नृत्य प्रदर्शन, लेखन, गायन, आकर्षित किया था। वह एनटीपीसी टाउनशिप, नोएडा में बाल भवन के एक सदस्य है। बाल श्री सम्मान unmatchable गुण, अद्वितीय दृष्टिकोण, वे समाज को समृद्ध और भी महिमा के साथ खुद को कवर के साथ जो अभिनव तरीके के अधिकारी हैं, जो बहुत ही रचनात्मक जवान की प्रतिभा को परिभाषित करता है।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment