न तो सड़के ही सुधरेगी न ही शहर को सिन्ध मिलेगी, वा,रे, शहर

देश की सर्वोच्च अदालत पूर्व में ही यह व्यवस्था दे चुकी है कि जनसुविधाओं की कीमत पर कोई भी विकास नहीं होना चाहिए। मगर मेरे शहर में सब कुछ हो रहा है। शहर के प्रथम नागरिक और शहर की सरकार के लिये अब तो चुनाव हो रहा है।

सत्ता के लिये संघर्ष करते लेागों का अपने आकाओ के यहां हुजूम लग रहा है। वहीं दो प्रमुख दलो में टिकिट हाथियाने ऐड़ी चोटी का जोर लग रहा है। मगर सच बोले तो इस शहर का पहला सच तो यह है कि यहां दो ही प्रमुख दल है जिनका अदला बदली कर शिवपुरी में राज चल रहा, लेागों को नैसर्गिग सुविधायें तो दूर आजादी के 65 वर्षो से आज तक जनसेवा के नाम खुलेयाम वोट ठगी का खेल चल रहा है। फिर शहर में सरकार जिसकी भी रही हो।
दूसरा सच यह है कि इन महान दलो से माता-बहिनो द्वारा नित रोज किये जाने वाले कार्य का बोझ भी नहीं उठ रहा है।
न तो शहर की ठीक से साफ सफाई, न ही दूसरा कार्य शुद्ध पेयजल, और न ही तीसरा कार्य शाम की दिया बत्ती, घर का रखरखाव तो दूर कोणी इन पर तो शहर की उधड़ चुकी सड़को का भार ाी नहीं उठ रहा है। अर्थात शहर की सड़के तो जिस माली हालात में है सो है मगर पी.डब्लू.डी. एवं राष्ट्रीय राजमार्ग की शहर में उधड़ी सड़के सकरे में समधियाना बनाये हुये है।

तीसरा सच इस शहर का यह है कि नैसर्गिक सुविधाओं को तरसता यह शहर मुर्दो की भांति अभी भी सो रहा है हर 5 वर्ष में चुनावों के माध्ययम से चलने वाली चुनावों में वोटो का चुनावी जे.सी.बी. के माध्ययम से कंकाल तो निकल आते है मगर मुर्दा शहर में हक के लिये लेागों के मुंंह से शहर की दुर्दशा के लिये बोल नहीं निकल पाते है।
आवाज तो 10 वर्ष पूर्व भी विलेज टाई स ने भी बुलन्द कर, शहर की बात उठाई थी, जिस पर जनता ने दोनों ही प्रमु ा दलो को धूल चटा उनकी औकात दि ााई थी। आज फिर वहीं दल सदल बल मुर्दा घर में हलचल फैला वोट कबाडऩे की कोशिस में जुटे है। मगर उनका सत्ता पर काबिज होने का भ्रम शायद न टूट जाये क्योंकि शहर की जनता बहुत परेशान है। क्योंकि 10 वर्ष जनता फिर उसी चौराहे पर है। जहां उसे न तो सिन्ध और न ही सीवर लाइन मिलने की फिलहॉल कोई उ मीद है। और न ही समय और परिस्थितियों सिन्ध का शुद्ध पेयजल, सीवर लाइन, सुन्दर सड़के बनने के हालात। क्योंकि सिन्ध लाने जहां करोड़ों रुपये और अगले कुछ साल लगेगे वहीं सीवर प्रोजेक्ट पूरा होने में अभी भी 5 वर्ष और करोड़ों रुपये लगेंगे। तब तक शुद्ध पेयजल को तरसता शहर धूल के ढेर पर, ऊंट चाल सड़को पर हिचकोले खायेगा या फिर झूठे वादे कर वोट कबाडऩे वालो का अच्छा सबक सिखायेगा देखना होगा क्या होगा।

देश की सुरक्षा सर्वोपरि: राज्यपाल श्री टंडन
रायपुर, ०८ नवम्बर २०१४ राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन के मुख्य आतिथ्य में आज यहां राजधानी रायपुर में फोरम फॉर इंटीग्रेटेड नेशनल सिक्यूरिटी (फिन्स) द्वारा आयोजित राष्ट्रीय कार्यकारिणी का उद्घाटन समारोह संपन्न हुआ। इस दो दिवसीय कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल, फिन्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल, श्री डी.बी. शेकटकर सहित अतिथिगण उपस्थित थे। श्री टंडन ने राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे सामयिक एवं प्रासंगिक विषय पर सम्मेलन आयोजित करने के लिए फिन्स के पदाधिकारियों को हार्दिक बधाई दी।

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि कोई भी जंग केवल सेना नहीं, बल्कि पूरा देश लड़ता है। उन्होंने कहा कि यदि देश का सर ऊंचा होता है, तो उसके हर नागरिक का सर ऊंचा होता है और यदि यदि देश का सर नीचा होता तो हर नागरिक का सर नीचा हो जाता है। इसलिए हमें देश के हर नागरिक में देशभक्ति की भावना पैदा करनी चाहिए। सबके मन में देश सबसे पहले है, यह भावना होनी चाहिए और देश की सुरक्षा सर्वोपरि होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देशभक्ति एक ऐसा धन है, जिससे सब कुछ प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने इजराइल देश का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां के नागरिकों में देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी है और हर नागरिक सैनिक की तरह कार्य करता है। उन्होंने कहा कि हमारे देश के सामने अनेक समस्याएं एवं चुनौतियां हैं। विघटनकारी शक्तियां देश को अंदर से तोड़ना चाहती हैं और हमें राष्ट्र को इन खतरों से बचाना होगा तथा हर दृष्टि से देश को मजबूत, सक्षम एवं आत्मनिर्भर बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ भी नक्सलवाद से प्रभावित है लेकिन केन्द्र शासन एवं राज्य शासन के समन्वित प्रयासों से अब प्रदेश में नक्सलवादी गतिविधियों में कमी आई है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि शीघ्र ही छत्तीसगढ़, नक्सलवाद के रोग से मुक्त होगा और यहां के लोग सुख-शांति से रहेंगे, जिससे प्रदेश का और अधिक तेजी से विकास होगा।
राज्यपाल श्री टंडन ने वर्ष १९६५ में हुए भारत-पाक युद्ध के दौरान अपने अनुभवों को बांटते हुए कहा कि उन्हें यह युद्ध निकट से अमृतसर में देखने का मौका मिला। उस समय अमृतसर एवं आस-पास के क्षेत्रों में अव्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने तथा लोगों को जागरूक करने का कार्य अत्यंत चुनौतीपूर्ण कार्य था। जिसे हम सबने मिलकर तथा अमृतसर की जनता ने बखूबी किया। अमृतसर तथा आस-पास के गांवों के लोगों ने उस वक्त सेना को हर तरीके से मदद पहुंचाई और उनका सीमा तक जाने का मार्ग प्रशस्त किया।

बीमार का उपचार शासन की जिम्मेदारी
भोपाल : शनिवार, नवम्बर ८, २०१४, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रत्येक बीमार व्यक्ति को इलाज मिलना उसका मौलिक अधिकार होना चाहिये। कल्याणकारी राज्य व्यवस्था में शासन की जिम्मेदारी है कि प्रत्येक व्यक्ति का उपचार हो। श्री चौहान आज इंडियन ऐसोसिएशन ऑफ डर्मेटोलॉजिस्ट, वर्नालॉजिस्ट एण्ड लेप्रोलॉजिस्ट की दो दिवसीय २०वीं स्टेट कान्फ्रेंस 'क्यूटिकॉन - एम.पी. २०१४' को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सुन्दर दिखना मानव की नैसर्गिक इच्छा है। इसी लिए निरोगी काया को पहला सुख माना गया है। त्वचा की देखभाल बहुत महत्वपूर्ण कार्य है। जिसमें चर्म रोग विशेषज्ञ की विशिष्ट भूमिका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने जरूरतमंद गरीब व्यक्ति के उपचार के लिये अनेक योजनाएँ संचालित की हैं। नि:शुल्क चिकित्सकीय परामर्श, जाँच और औषधि उपलब्ध करवाने की व्यवस्था की है। गम्भीर रोगों के उपचार के लिये राज्य बीमारी सहायता एवं अन्य योजनाएँ संचालित हैं। उन्होंने कहा कि जरूरतमंद को बेहतर से बेहतर चिकित्सा सुविधा सुलभ करवाने के प्रयास निरंतर जारी है। उन्होंने चिकित्सकों से पीड़ित मानवता की बेहतर सेवा के लिये निरंतर अनुसंधान और प्रयासों पर चिंतन-मनन की आवश्यकता बतायी। श्री चौहान ने कहा कि सुझावों और अनुसंधानों के निष्कर्षों को क्रियान्वित करने में राज्य सरकार पूर्ण सहयोग करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संगठन के नये अध्यक्ष को पदभार ग्रहण भी करवाया। प्रारम्भ में आर्गेनाइजिंग चेयरमेन डॉ. पी.एस. चन्देल ने संगठन की गतिविधियों की जानकारी दी। स्वागत साइंटिफिक समिति की अध्यक्षा डॉ. एन्ना एलेक्स ने किया। संचालन आर्गेनाइजिंग सेक्रेटरी डॉ. अनुराग तिवारी ने किया।

पर्यटन विकास के लिए केन्द्र सरकार से हर संभव सहयोग दिया जाएगा - केन्द्रीय पर्यटन सचिव
जयपुर, 8 नवंबर। जैसलमेर में पर्यटन व्यवसाय संघ एवं मरु लोक सांस्कृतिक केन्द्र जैसलमेर के तत्वावधान में शनिवार को सांस्कृतिक केन्द्र में केन्द्रीय पर्यटन ,कला एवं संस्कृति सचिव डॉ. ललित के. पंवार का भव्य नागरिक अभिनन्दन किया गया। अभिनन्दन समारोह की अध्यक्षता पूर्व विधायक डॉ. जितेन्द्रसिंह ने की एवं जिला कलक्टर श्री एन.एल.मीना, जिला प्रमुख श्री अब्दुला फकीर, नगरपरिषद के सभापति श्री अशोक तंवर विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित थे। इस अवसर पर डॉ. पंवार ने पर्यटन व्यवसाय संघ , मरू सांस्कृतिक कला केन्द्र के साथ ही नगर के प्रबुद्घ नागरिकों द्वारा किए गए अभिनंदन के लिए आभार व्यक्त किया और कहा कि यह जैसलमेर वासियों का प्रेम मेरे लिए हमेशा ही प्रेरणा का केन्द्र बिन्दु रहेगा। उन्होंने कहा कि जैसलमेर की ऐतिहासिक धरोहर एवं यहां की स्थापत्य कला , लोक संस्कृति विश्व में अपनी अलग पहचान बनाए हुए है इसलिए हमें इसे अक्षुण्य बनाए रखना है। उन्होंने कहा कि जैसलमेर में पर्यटन व्यवसाय को और अधिक बढ़ावा देने के लिए केन्द्र सरकार से जो सहयोग दिया जाएगा उसके लिए वे पूरा प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि यहां के जनप्रतिनिधि एवं जिलाधिकारी तथा पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोग पूरा सहयोग देंगे तो जैसलमेर में पर्यटन व्यवसाय को चार चांद लगाएंगे। उन्होंने विश्वास दिलाया कि जैसलमेर में शीघ्र ही वायु सेवा को प्रारंभ करने का पूरा प्रयास किया जाएगा। डॉ. पंवार ने कहा कि लिविंग फोर्ट सुनार दुर्ग को संरक्षित करने के लिए सभी के प्रयासों की जरूरत है। उन्होंने सलाह दी कि यहां बढ रही आबादी को नीचे अलग से दुर्ग कॉलोनी बसाकर उन्हें प्लॉट आबंटन कराने के लिए प्रयास करना होगा। उन्होंने मूमल टूरिस्ट बंगलों में होटल मैनेजमेंट स्कूल के संचालन करवाने का विश्वास दिलाया वहीं यूजियम ऑफ स्टॉन आर्ट की स्थापना कराने की आवश्यकता जताई। 
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment