व्यापम घोटाले के चार आरोपी फरार घोषित

भोपाल 08 May 2014 मध्यप्रदेश के व्यावसायिक परीक्षा मंडल .व्यापम. की ओर से आयोजित विभिन्न भर्ती परीक्षाों से जुडे घोटाले के मामले में यहां की अदालत ने चार आरोपियों को फरार घोषित कर दिया है।
एसटीएफ की ओर से आज यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी पंकज सिंह माहेश्वरी ने भरत मिश्रा सोनू पचौरी सुनील दुबे और अजय सिंह पवार को उनके समक्ष छह जून तक उपस्थित होने के आदेश दिए हैं। इन सभी आरोपियों को एसटीएफ काफी दिनों से तलाश रही है। आरोपियों के निर्धारित समय पर अदालत के समक्ष उपस्थित नहीं होने पर उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा पीएमटी 2012 से जुडे घोटाले के मामले में गिरफतार किए गए जबलपुर निवासी आरोपी हेमंत बडगैया को लेकर एसटीएफ की एक टीम वहां गयी हुयी है। एसटीएफ हेमंत द्वारा एक अभ्यर्थी को पीएमटी में प्रवेश दिलाने संबंधी मामले की पडताल कर रही है।

राजधानी रायपुर में पीलिया अब नियंत्रण में : अस्पताल से स्वस्थ होकर घर लौटे
रायपुर, 08 मई 2014 राज्य शासन के स्वास्थ्य विभाग द्वारा नगर निगम के सहयोग से लगातार चलाए जा रहे विशेष अभियान और किए गए प्रभावी चिकित्सा उपायों के फलस्वरूप राजधानी रायपुर में पीलिया की स्थिति नियंत्रण में आ गयी है। स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों में आने वालों की संख्या में निरन्तर कमी आ रही है। यह जानकारी आज शाम यहां कलेक्टर ठाकुर रामसिंह की अध्यक्षता में कलेक्टोरेट में आयोजित समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग की ओर से दी गयी। इसके अलावा कल नौ मई से राजधानी के तीन नए क्षेत्रों हाउसिंग बोर्ड कालोनी के कंचनजंगा व्यावसायिक परिसर (कबीर नगर), शासकीय कर्मचारी कालोनी पेंशनबाड़ा के पास कुन्दरापारा और लोधीपारा स्कूल में स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाए जाएंगे। बैठक में सिविल सर्जन डॉ. बी.के दास ने बताया कि पीलिया मुक्ति अभियान के तहत् पिछले 17 अप्रैल से अब तक 22 दिनों में कुल 2576 मरीजों के ब्लड सेम्पल लिए गए। इनमें से जिन लोगों में पीलिया के लक्षण मिले हैं, उनके लिए स्थानीय डॉ. भीमराव अम्बेडकर अस्पताल और शासकीय जिला अस्पताल में इलाज की बेहतर से बेहतर व्यवस्था की गयी है। कई मरीज इलाज के बाद स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं। अस्पताल से ठीक होकर घर लौट चुकेे मरीजों की भी सतत् मॉनिटरिंग भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही है। इसके लिए कल नौ मई से मितानिनों द्वारा घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया जाएगा और उनकी सेहत के बारे में जानकारी ली जाएगी। उन्हें ऐसे मरीजों की वार्डवार सूची दी जाएगी।
अधिकारियों ने बैठक में यह भी बताया कि राजधानी रायपुर में पीलिया की रोकथाम के लिए आज 15 स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों का आयोजन किया गया। इनमें एहतियात के तौर पर 530 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया तथा 135 मरीजों के रक्त के नमूने लिए गए है। जिन्हें प्रयोगशाला परीक्षण के लिए भेजा गया। स्वास्थ्य परीक्षण शिविरों और मितानिनों के माध्यम से लगभग अब तक 34 हजार से अधिक क्लोरीन टेबलेट विभिन्न क्षेत्रों में वितरित किए गए हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शहर के विभिन्न स्थानों में पानी टंकियों के पानी का परीक्षण किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पीलिया के मरीजों के लिए राजधानी के जिला अस्पताल, डॉ. भीमराव अम्बेडकर अस्पताल और आयुर्वेदिक कालेज अस्पताल में बेहतर इलाज की विशेष व्यवस्था की गई है। इन अस्पतालों में मरीजों का इलाज निःशुल्क किया जा रहा है।

सत्रह जिलों के 10 हजार 225 गांव अभावग्रस्त घोषित 31 जुलाई तक भू-राजस्व वसूली स्थगित करने की स्वीकृति
जयपुर, 8 मई। राज्य सरकार ने आदेश जारी कर राज्य के 17 जिलों के 10 हजार 225 गांवों को अकाल से प्रभावित होने के कारण अभावग्रस्त घोषित किया है। इन गांवों में 31 जुलाई, 2014 तक भू-राजस्व वसूली स्थगित किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई है।
आदेशानुसार अजमेर जिले के 104 गांवों, अलवर के दो, बांसवाड़ा के एक हजार 501, बाड़मेर के एक हजार 507, बारां के 482, बीकानेर के 339, चूरू के 16, डूंगरपुर के 986, जोधपुर के 868, सिरोही के 272 एवं प्रतापगढ़ के एक हजार आठ गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया है। इसी प्रकार कोटा जिले के 281 गांवों को, जैसलमेर के 744, झालावाड़ के एक हजार 72, नागौर के 103, पाली के 934 तथा बूंदी जिले के छह गांवों को अभावग्रस्त घोषित किया गया है।
भू-अभिलेख में दर्ज ऐसी भूमि जो बारानी, तालाबी अथवा सैलाबी है किन्तु उन भूमि पर कुओं या अन्य स्रोतों से सिंचाई होती है, पर भू-राजस्व वसूलने में प्रभावी नहीं होंगे। भू-अभिलेख में दर्ज देहरी, सेवज, खड़ीन, सैलाबी, तालाबी पेटा, कच्छार एवं खातली भूमि को छोड़कर समस्त बारानी भूमि को भू-राजस्व के संदाय से मुक्त होगी।

पिछले वर्ष की तुलना में विदेशी पर्यटकों के आगमन में 11.5 प्रतिशत की वृद्धि
अप्रैल 2014 में विदेशी पर्यटकों का आगमन 5.04 रहा जो अप्रैल 2013 में 4.52 प्रतिशत था। इस प्रकार 11.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज़ की गई है। अप्रैल 2014 में विदेशी विनिमय कमाई रू. 8,909 करोड़ है जो अप्रैल 2013 में रू. 7,252 करोड़ थी। 08-मई, 2014 अप्रैल, 2014 के दौरान विदेशी पर्यटकों के आगमन (एफटीए) तथा विदेशी विनिमय कमाई (एफईई) के कुछ मुख्‍य बिंदू इस प्रकार हैं : विदेशी पर्यटकों के आगमन (एफटीए)
·अप्रैल 2013 में 4.52 लाख तथा अप्रैल 2012 में 4.48 लाख के मुकाबले अप्रैल 2014 में विदेशी पर्यटकों का आगमन 5.04 रहा।
·अप्रैल 2013 में अप्रैल 2012 से 1.0 प्रतिशत अधिक वृद्धि थी जिसकी तुलना में अप्रैल 2014 में 11.5 प्रतिशत की वृद्धि रही।
· 2012 के जनवरी-अप्रैल की तुलना में 2013 की इसी अ‍वधि में विदेशी पर्यटकों का आगमन 2.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 24.80 रहा, जबकि अप्रैल 2014 में 6.1 प्रतिशत की तुलना में 26.31 लाख रहा।
रूपयों तथा अमेरिकी डॉलर में विदेशी विनिमय कमाई
·अप्रैल 2012 में रू. 6,745 करोड़ तथा अप्रैल 2013 में रू. 7,252 करोड़ की तुलना में अप्रैल 2014 में रू. 8,909 करोड़ विदेशी विनिमय कमाई रही।
· विदेशी विनिमय कमार्इ में वृद्धि दर अप्रैल 2013 में 7.5 प्रतिशत की तुलना में अप्रैल 2014 में 22.8 प्रतिशत रही।
·जनवरी-अप्रैल 2013 में विदेशी विनिमय कमाई 8.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ रू. 37,522 करोड़ की तुलना में जनवरी-अप्रैल 2014 में 11.2 प्रतिशत की वृद्धि के साथ रू. 41,718 करोड़ रही।
·अप्रैल 2012 में अमरीकी डॉलर 1.305 बिलियन तथा अप्रैल 2013 में अमरीकी डॉलर 1.334 बिलियन की तुलना में अप्रैल 2014 में विदेशी विनिमय कमाई अमरीकी डॉलर 1.475 बिलियन रही।
·अप्रैल 2013 में विदेशी विनिमय कमाई में (अमरीकी डॉलर के संदर्भ में) 2.2 प्रतिशत की वृद्धि की तुलना में अप्रैल 2014 में 10.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।
·पर्यटन के माध्‍यम से जनवरी-अप्रैल 2013 के दौरान 10.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ अमरीकी डॉलर 6.921 बिलियन की तुलना में जनवरी-अप्रैल 2014 के दौरान 2.0 प्रतिशत की वृद्धि के साथ अमरीकी डॉलर 6.783 बिलियन विदेशी विनिमय कमाई दर्ज की गई।
पर्यटन मंत्रालय, मुख्‍य बंदरगाहों से प्राप्‍त विदेशी पर्यटकों के आगमन के आंकड़ों तथा भारतीय रिजर्व बैंक से प्राप्‍त आंकड़ों के आधार पर पर्यटन से होने वाली विदेशी विनिमय कमाई के मासिक आंकड़े संकलित करता है।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment