कॉग्रेस का कचरा साफ: धन्यवाद की पात्र है,देश की जनता

जो काम 25 वर्षो में कॉग्रेस न कर सकी उस कार्य को देश की महान जनता ने एक झटके में कर दिखाया। परिणाम कि कॉग्रेस के नेतृत्व वाली यू.पी.ए. सरकार के 72 मंत्री जनता के हाथों दण्डित हो चुनाव हार चुके है। वहीं कॉग्रेस को भी 44 सांसद दे विपक्ष के नेता की भूमिका से भी अलग कर दिया।
मगर जो कार्य म.प्र. की जनता ने 2014 लेाकसभा परिणाम देकर किया है। वह काबिलो गौर है। 29 लेाकसभा सीटों में से मात्र 2 ही ऐसे भाग्यशाली जनसेवक रहे जो अपनी अपनी सीटे बचाने में सफल रहै। नब बर एक छिन्दबाड़ा न बर दो  शिवपुरी-गुना अब म.प्र. में हुई कॉग्रेस की हार जीत पर कोई कितने ही कयास क्यों न लगाये मगर हकीकत यह है कि विगत 25 वर्षो में म.प्र. से संगठनात्मक रुप से साफ हो चुकी कॉग्रेस सत्ता से पूर्णत: साफ हो चुकी है। तथा जिन 2 सीटों को जीत कर कॉग्रेस खुशी या मातम मना छाती पीट रही है। यह कोई संगठनात्मक दल गत जीत नहीं बल्कि कमलनाथ और सिंधिया की अपने क्षेत्र की जनता से जीवंत स पर्क और स्वयं के प्रबन्धन द्वारा हासिल व्यक्तिगत जीत है।

मगर मजे की बात तो यह है कि अपना सब कुछ तबाह कर चुकी कॉग्रेस आज भी सरेयाम एक दूसरे पर कीचड़ उछाल हार का ठीकरा एक दूसरे के सर फोडऩे पर मजबूर है। ज्ञात हो हॉल ही में मुरैना से कॉग्रेस प्रत्याशी ने अपनी हार का ठीकरा प्रदेश अध्यक्ष को लिखे पत्र में जो उन्हीं के अनुसार प्रेस में लीक हो गया मैं लिखा है कि उनकी हार का कारण उनके क्षेत्र के नेताओं को शिवपुरी-गुना में डियूटी लगाना रहा। जबकि परिणाम बताते है शिवपुरी-गुना संसदीय से गुना शिवपुरी विधानसभा क्षेत्र से सिंधिया चुनाव हारे है।

बहरहॉल जिस तरह से कॉग्रेस में विगत 25 वर्षो से आपसी उठापटक का दैार चला जिस तरह से आम कॉग्रेसी प्रताडि़त रहा और उसकी आवाज आलाकमान के यहां नक्कार खाने की तरह दम तोड़ती रही। मगर आलाकमान का म.प्र. को लेकर ढुलमुल रवैया ठीक नहीं हुआ।

मगर धन्यवाद की पात्र है देश व प्रदेश की जनता जिसने वो काम कर दिखाया जिसे करने में आलाकमान तक के पसीने छूटते थे।

मगर प्रदेश की जनता ने कॉग्रेस को रसातल तक ले जाने वालो को ही सत्ता से बाहर कर रास्ता दिखा दिया।
काश यहीं कार्य कॉग्रेस ने पहले किया होता तों कम से कम देश ही नही ही म.प्र. में उसे ये दिन न देखना पड़ता।

छत्तीसगढ़ में २१ मई को मनाया जाएगा आतंकवाद विरोधी दिवस
रायपुर १९ मई २०१४ राज्य शासन द्वारा पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी छत्तीसगढ़ में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी के शहादत दिवस पर २१ मई को आतंकवाद विरोधी दिवसष् मनाया जाएगा। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा यहां नया रायपुर स्थित मंत्रालय (महानदी भवन) से इस आशय का परिपत्र अध्यक्ष राजस्व मण्डल बिलासपुर सहित शासन के सभी विभागाध्यक्षों, संभागीय आयुक्तों और जिला कलेक्टरों को भेजा गया है। परिपत्र में २१ मई बुधवार को सभी सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और अन्य सार्वजनिक संस्थाओं में सुबह ११ बजे आतंकवाद विरोधी और हिंसा विरोधी शपथ लेने के लिए कहा गया है। परिपत्र के अनुसार आतंकवाद विरोधी दिवस मनाने का उद्देश्य आतंक और हिंसा के कारण आम जनता को हो रहे कष्टों तथा राष्ट्रीय हितों पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव से आम लोगों, विशेष रूप से युवाओं को आतंकवाद और हिंसा के मार्ग से  दूर रखना है। जारी परिपत्र में यह भी कहा गया है कि आतंकवाद विरोधी दिवस मनाने के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए वाद-विवाद, चर्चा, परिचर्चा, सेमीनार, व्याख्यान, सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन के साथ-साथ आतंकवाद और हिंसा के विरूद्ध जनजागृति के लिए पोस्टर, पैम्फलेट, नारों, इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के उपयोग जैसे तरीके अपनाए जाने चाहिए। परिपत्र में अधिकारियों से कहा गया है कि समाजसेवी संगठनों सहित सामाजिक और सांस्कृतिक संस्कृतिक संस्थाओं को भी इन कार्यक्रमों में शामिल किया जाए अथवा उन्हें उनके स्तर पर कार्यक्रम आयोजित करने के लिए प्रेरित किया जाए।

मु यमंत्री से नागालैंड के सीएम ने भेंट की
जयपुर, 19 मई। मु यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे से सोमवार को नई दिल्ली में नागालैंड के मु यमंत्री श्री नैफियू रीओ ने शिष्टाचार भेंट की। श्री रीओ ने मु यमंत्री श्रीमती राजे को गुलदस्ता एवं अपने प्रदेश के प्रतीक चिन्ह 'मिथुनÓ की प्रतिकृति भेंट की और अंग वस्त्र ओढ़ाकर अभिनंदन किया। उन्होंने श्रीमती राजे को नागालैंड राज्य की पचासवीं वर्षगांठ पर प्रकाशित साहित्य की प्रतियां भी भेंट की। मु यमंत्री श्रीमती राजे को बधाई देने वालों का तांता मु यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे को प्रदेश में लोकसभा चुनाव में मिली ऐतिहासिक सफलता के लिए नई दिल्ली स्थित उनके आवास पर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। सोमवार को भी बड़ी तादाद में लोगों ने मु यमंत्री से मुलाकात कर उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

राज्य के नवनिर्वाचित सांसद भी मु यमंत्री से मिलने पहुंचे। उन्होंने श्रीमती राजे को गुलदस्ते एवं मालाएं भेंट कर बधाई दी। मु यमंत्री को नाथद्वारा का उपरणा और प्रसाद भी भेंट किया गया। मु यमंत्री से नवनिर्वाचित सांसदों कर्नल सोनाराम, श्री रामचरण बोहरा, श्री अर्जुनराम मेघवाल, महंत श्री चांदनाथ, श्री हरीश मीना, श्री ओम बिड़ला, श्री राहुल कस्वां, श्री मनोज राजोरिया, श्री सी.आर.चौधरी, श्री बहादुरसिंह कोली एवं श्री चंद्रप्रकाश जोशी ने भेंट की। इस अवसर पर सांसद श्री दुष्यंत सिंह और राज्यसभा संासद श्री वी.पी.सिंह भी मौजूद थे। इससे पहले रविवार को भी राज्य के नवनिर्वाचित सांसदों और विधायकगण ने मु यमंत्री से भेंट की।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment