दर्दो से कराहता शहर: समय,स्वार्थ,सियासत ले डूबे सुविधाये

जितना अभिमान शिवपुरी वासियों को कभी अपने शहर को लेकर था आज उतना ही दर्द इस शहर की दुर्गति को लेकर है। कभी समय तो कभी स्वार्थ इसकी सुन्दरता को लूटते रहे,रहा सवाल सियासत का तो उसने तो इसे बैजान ही कर दिया। अब हालात ये है कि मध्यभारत ही नहीं सिंधिया का सबसे सुन्दर व्यवस्थित सुविधा युक्त शहर 21वी सदी में कुरुप बन कचरे का ढेर बन गया है।

आज से 100 वर्ष पूर्व नेशनल पार्क,सैलिंग क्लब,लेडीज क्लब,ग्राउन्ड होटल,वृहत सचिवालय,झील,तालाब,की श्रंखला वेस्ट वियर,सीवेज,कुये, आवासीय ब्लॉक,सीवेज,बिजली,फलदार वृक्षो के बगीचे,सड़को के देानों ओर आम के वृक्ष,वायपास रिंग रोड,शहर के अन्दर चौड़ी-चौड़ी सड़के रेल,बिजली और सबसे अहम की 2 वाई 2 कि.मी. में फैले शहर को प्राकृतिक रुप से वातानुकूलित बनाया गया था। मगर दुर्भाग्य कि एक भी सुविधा आज इन शहर वासियो को ठीक से नसीब हो। ऐसा नहीं कि सुविधा जुटाने के प्रयास आजादी के बाद न हुये हो। मगर सब कुछ समय,स्वार्थ और सियासत की भेंट चढ़ गये।

आज हालात यह है,कि प्राकृतिक रुप से वातानुकूलित शहर में करोड़ों रुपये के एसी तथा करोड़ों रुपये के कूलर पंखो के बावजूद लोग भीषण गर्मी से बेहाल है। रहा सवाल व्ही.व्ही.आई.पी. वायपास रिंग रोड़ का तो हालात ये है कि गड्डेां में सड़क ढूढना मुश्किल है। वहीं शहरों की चौड़ी-चौड़ी सड़को पर मुंह चिड़ाते अतिक्रमणों ने लेागों का आवा गमन अवरुद्ध कर रखा है। विधुत की अघोषित कटौती इस बात का धोतक है कि हम सुविधाओं को किलो मीटरों को पीछे छोड़ पीड़ाओं के दौर से गुजर रहे है। रहा सवाल शुद्ध पेयजल का तो इसमें किसी को संदेह नहीं होना चाहिए। कि हम वर्षाती नालो में तब्दील खत्म हो चुके तालाबों की बेस्ट वीयर से इकट्टा होने वाला पानी पेयजल के रुप में पी रहे है। अहम पशुओं का मोहताज बना नेशनल पार्क इस बात की शिकायत करते नहीं थकता कि अब उसमें वो रोनक नहीं रही जिसके दम पर वह कभी इठला था। इस का मतलब यह नहीं कि शहर के विकास के प्रयास नहीं हुये जहां समय और स्वार्थो ने इस शहर की सुविधाओं को निगलने का क्रम जारी रखा। वहीं सियासत ने इस शहर का सत्यानाश कर डाला। शर्म आती है,उन सियासत दानो पर जो सुविधाओं की बिना पर राजनीति कर सत्ता तक पहुंचना अपना धर्म समझते है। और सुविधा जुटाने वाले पर कलंग की सिहायी पोत अपना इकबाल बुलंद करते है। जिसमें सर्वाधिक योगदान उन सियासत दारों का है जो हल्की राजनीति कर सियासत में अपने आपको सबसे बड़ा उस्ताद समझते है। यहीं सियासत का परिणाम है कि एक निर्दोश शहर बगैर किसी अपराध के कचरे का ढेर बन सजा भुगतने पर मजबूर है और इस शहर को अपना खून पसीना एक कर सुविधा युक्त बनाने वाले आरोप प्रत्यारोप झेलने पर मजबूर है।

क्योकि जब तक सियासत में सत्ता और स्वार्थ का नंगा नाच यू ही चलता रहेगा और शहर वासी मूक बन तालियाँ इसी तरह बगैर सच जाने पीटते रहेगें। इस शहर का दर्द कम होने वाला नहीं? और दर्द देने वाले कभी समय तो कभी स्वार्थ सियासत का वास्ता दे अपनी जि मेदारियों से मुंह मोड़ते रहेगें। ऐसे में जरुरी है,इस यक्ष प्रश्र का जबाव आखिर कौन जि मेदार है बर्बादी के लिये इस सुन्दर शहर का।

भोपाल, जबलपुर की मतगणना के लिए आयोग भेजेगा स्पेशल आब्जर्वर
भोपाल : बुधवार, मई १४, २०१४ भारत निर्वाचन आयोग १६ मई को भोपाल और जबलपुर लोकसभा सीट की मतगणना के लिए स्पेशल काउंटिंग आब्जर्वर भेजेगा। दोनों स्पेशल काउंटिंग आब्जर्वर १५ मई को भोपाल और जबलपुर पहुँचेंगे। आयोग भोपाल, जबलपुर के अलावा अन्य संसदीय क्षेत्र में शामिल जिलों के लिए पहले ही ५९ काउंटिंग आब्जर्वर नियुक्त कर चुका है। विदिशा विधानसभा उप चुनाव के लिए भी एक काउंटिंग आब्जर्वर तैनात किया गया है। आयोग द्वारा भोपाल की मतगणना के लिए श्री ए.के. पाठक को स्पेशल काउंटिंग आब्जर्वर नियुक्त किया गया है। आयोग के अवर सचिव श्री पाठक १५ मई को सबेरे वायुयान से भोपाल पहुँचेंगे। मतगणना की प्रक्रिया समाप्त होने के बाद वे १७ मई को वापस लौटेंगे। श्री पाठक का मोबाइल नंबर ०९८६८३८१३७२ है। आयोग ने श्री मलय मलिक को जबलपुर संसदीय क्षेत्र की मतगणना के लिए स्पेशल काउंटिंग आब्जर्वर नियुक्त किया है। श्री मलिक भी आयोग में अवर सचिव हैं। उनका मोबाइल नंबर ०९८६८११३४५१ है। वे १५ मई को सुबह वायुयान द्वारा जबलपुर पहुँचेंगे तथा १७ मई को नई दिल्ली रवाना होंगे।

मुख्यमंत्री ने सड़क हादसों में १४ लोगों की मौत पर गहरा दुःख व्यक्त किया
रायपुर, १४ मई २०१४ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के विभिन्न जिलों में चार अलग-अलग सड़क हादसों में चौदह लोगों की आकस्मिक मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। डॉ. सिंह ने संबंधित जिलों के प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि प्रभावित परिवारों को हरसंभव सहायता दी जाए और घायलों का बेहतर से बेहतर इलाज किया जाए। मुख्यमंत्री ने आज सवेरे बलौदाबाजार-भाटापारा जिले में कसडोल थाना क्षेत्र के चिरपोटा नाले के पास एक तेज रफ्तार ट्रक से कुचल जाने पर एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत पर शोक प्रकट किया है। मुख्यमंत्री ने बिलासपुर जिले में बेलगहना क्षेत्र के ग्राम कुरदर के नजदीक कल एक पहाड़ी से गहरी खाई में एक वाहन के गिरने पर उसमें सवार पिता-पुत्र समेत तीन लोगों की मृत्यु की घटना पर भी अफसोस जताया है। डॉ. रमन सिंह ने कल बेमेतरा जिले में बेमेतरा-सिमगा मार्ग पर ग्राम जौंग के पास एक ट्रक से कुचल जाने के कारण चार बारातियों की और जांजगीर-चांपा जिले में ग्राम हरदी के पास एक डम्पर की टक्कर से चार ग्रामीणों की मौत की घटनाओं पर भी गहरा दुःख प्रकट किया है। डॉ. सिंह ने प्रदेश में बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं पर गहरी चिन्ता प्रकट की है और वाहन चालकों सहित सभी लोगों से यातायात नियमों का पालन करने की भी अपील की है। उन्होंने यातायात पुलिस को वाहनों की तेज रफ्तार पर अंकुश लगाने और लोक निर्माण विभाग को सड़कों के बेहतर रख-रखाव के भी निर्देश दिए हैं।

लोकसभा चुनाव 2014 जिला निर्वाचन अधिकारी ने मतगणना स्थल की व्यवस्थाओं का लिया जायजा
जयपुर, 14 मई। जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) श्री कृष्ण कुणाल ने लोकसभा आम चुनाव 2014 में जयपुर एवं जयपुर ग्रामीण संसदीय क्षेत्र की 16 मई को प्रात: 8 बजे से राजस्थान कॉलेज एवं कॉमर्स कॉलेज में प्रार भ होने वाली मतगणना स बन्धी व्वस्थाओं का बुधवार को मौका निरीक्षण कर जायजा लिया तथा स बन्धित अधिकारियों को मतगणना दिवस को मतगणना कर्मियों, गणना अभिकर्ताओं, निर्वाचन अभिकर्ताओं, उ मीदवारों की प्रवेश व्यवस्था, बैठक व्यवस्था, सुरक्षा, पार्किंग आदि व्यवस्थाओं के बारे मेंं आवश्यक निर्देश प्रदान किए। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतगणना स्थल पर 16 मई के लिए चाक चौबन्द व्यवस्था की गई है तथा सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहेंगे। मतगणना केन्द्रों पर प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति को कडी जांच से गुजरना होगा। मतगणना केन्द्रों के प्रवेश द्वार पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही पर्याप्त पुलिस बल रहेगा। प्रत्येक मतगणना कक्ष के बाहर पुलिस अधिकारी एवं पुलिस बल तैनात किया गया है। इसके अलावा उक्त दोनों कॉलेज परिसरों में चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मी एवं अधिकारी तैनात रहेंगे जो हर स्थिति पर कड़ी नजर रखेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी के मौका निरीक्षण के दौरान अतिरिक्त पुलिस आयुक्त श्री विशाल बंसल, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री टीकम चन्द बोहरा, रिटर्निंग अधिकारी लोकसभा क्षेत्र जयपुर ग्रामीण श्री बचनेश कुमार अग्रवाल, जिला परिषद के मु य कार्यकारी अधिकारी श्री जितेन्द्र कुमार सोनी, अतिरिक्त जिला कलक्टर दक्षिण श्री पुखराज सैन, चतुर्थ श्री सुखबीर सैनी, मतगणना प्रभारी अधिकारी श्री राजेन्द्र सिंह शेखावत सहित अन्य स बन्धित अधिकारी साथ थे। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कॉमर्स कॉलेज स्थित जयपुर लोकसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी के कमरा न बर 38 तथा राजस्थान कॉलेज स्थित लोकसभा क्षेत्र जयपुर ग्रामीण के रिटर्निंग अधिकारी के कमरा न बर 46 में डाकपत्र गणना के लिए की गई व्यवस्थाओं का बारीकी से जायजा लिया। दोनो रिटर्निंग अधिकारियों के उक्त कक्षों में 8-8 टेबिलों पर डाक मतपत्रों की गणना की जाएगी।

लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह होंगे अगले थल सेनाध्यक्ष
१४-मई, २०१४ सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह, पीवीएसएम, यूवाईएसएम, एवीएसएम, वीएसएम को नया थल सेनाध्यक्ष नियुक्त करने का फैसला किया है। इस समय वह उप-थल सेनाध्यक्ष हैं और मौजूदा थल सेनाध्यक्ष, जनरल बिक्रम सिंह, पीवीएसएम, यूवाईएसएम, एवीएसएम, एसएम, वीएसएम, एडीसी के ३१ जुलाई, २०१४ रिटायर हो जाने के बाद अगले थल सेनाध्यक्ष (सीओएएस) बनेंगे। लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह को थलसेना में १६ जून, १९७४ को कमीशन मिला। अपने ४० वर्षों के सेवा काल के दौरान उन्हें विभिन्न कमानों और स्टाफ की नियुक्तियां मिलीं। उन्होंने नेशनल डिफेंस कॉलेज, लांग डिफेंस मेनेजमेंट कोर्स और सीनियर कमान कोर्स भी किए हैं। लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सिंह वर्तमान में ०१ जनवरी, २०१४ से उप थल सेनाध्यक्ष के पद पर हैं। इससे पहले वह पूर्वी थलसेना कमान का काम देखते थे। वह जनरल ऑफिसर हैं और उन्हें पीवीएसएम, यूवाईएसएम, एवीएसएम और वीएसएम अलंकरणों से पुरस्कृत किया गया है। 

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment