सबसे बड़ा ऊर्जा का केन्द्र बनेगा शिवपुरी : केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया

शिवपुरी- देश और प्रदेश के विकास में शिवपुरी,गुना, अशोकनगर को मु यधारा से जोडऩे का जो सपना मेरे पूज्य पिताजी कै.श्रीमंत माधवराव सिंधिया ने देखा था वह सपना अब साकार होने जा रहा है बात चाहे रेल, सड़क, स्वास्थ्य अथवा शिक्षा की ही क्यों ना हो, हरेक क्षेत्र में अपने अंचल को करोड़ों की सौगात से विकास को नई गति प्रदान की है मप्र ही नहीं बल्कि सबसे बड़े ऊर्जा का केन्द्र शिवपुरी बनने वाला है
जिसका शुभारंभ आज हुआ है 64 करोड़ की राशि से शिवपुरी में ही नेशनल पावर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट(एन.पी.टी.ई.) में यहां के बच्चे प्रशिक्षण लेंगें और प्रशिक्षित होकर ट्रांसमिशन बनाऐंगें यह बड़े गौरव की बात अंचल के लिए होगी, प्रदेश का यहां 10वां संस्थान शिवपुरी में खुलने जा रहा है एन.टी.पी.ई. बधाई का पात्र है और हम हर संभव सहयोग कर इस संस्थान को शीघ्र अतिशीघ्र पूर्ण करने के लिए सहयोग प्रदान करेंगें ताकि शिवपुरी के बच्चे यहीं पढ़े, बढ़े और प्रदेश ही नहीं बल्कि देश में शिवपुरी का नाम रोशन करें। विकास की यह बात कह रहे थे केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जो स्थानीय माधवचौक चौराहे पर शिवपुरी में प्रस्तावित नेशनल पावर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट(एन.टी.पी.ई.) की नई शाखा के शिलान्यास समारोह में मु य अतिथि की आसंदी से बोल रहे थे। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में ऊर्जा विभाग के संयुक्त सचिव मुकेश जैन, एनटीपीई के महानिदेशक सुबोध गर्ग, प्रधान निदेशक जे.एस.एस.राव भी मंचासीन थे साथ ही विधायक रामसिंह यादव, श्रीमती शकुन्तला खटीक, पूर्व विधायक गणेश गौतम, हरिबल्लभ शुक्ला, शहर कांग्रेस अध्यक्ष राकेश जैन आमोल, पूर्व अध्यक्ष राकेश गुप्ता, सफदरबेग मिर्जा आदि भी मौजूद रहे। श्री सिंधिया ने अपने उद्बोधन में कहा कि जब भी देश का कोई मंत्री हम कार्यक्रम में अतिथि बनाकर लाते है तो उसे विदा करने से पूर्व करोड़ों की सौगात लेकर हम दम लेते है अभी-अभी 19 करोड़ का 300 बिस्तरीय अस्पताल भी हमें ऐसे ही मिला और ऐसी ही अनेकों सौगातें और मिलने वाली है। कार्यक्रम समापन पर आभार प्रदर्शन संस्थान के डायरेक्टर प्रिंसीपल एम.आर.चौबे ने व्यक्त किया जबकि संचालन समर्थ अग्रवाल ने किया।

संस्थान निदेशक राव ने दी संस्थान की जानकारी
इस अवसर पर संस्थान के प्रधान निदेशक जे.एस.एस.राव ने बताया कि शिवपुरी में बनने वाला यह संस्थान का दसवां एन.पी.टी.आई. संस्थान है जो भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के अधीन कार्यरत है। उक्त संस्थान में सभी पावर सेक्टर(थर्मल, हाईड्रो, ट्रांसमिशन एवं डिस्ट्रीब्यूशन) में कार्यरत इंजीनियर्स एवं तकनीकि कार्मिकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। वर्तमान में एन.पी.टी.आई. फरीदाबाद, नई दिल्ली, नांगल, नागपुर, दुर्गापुर, गोहाटी, बैंगलूरू, नवेली स्थानों पर प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है। एन.पी.टी.आई. के कुछ संस्थानों में एम.बी.ए.(विद्युत प्रबंधन), बी.टैक(विद्युत इंजीनियरिंग), पी.जी.डी.सी., पी.डी.सी. आदि कोर्सों का भी संचालन हो रहा है। एन.पी.टी.आई. के संस्थानों में थर्मल व हाईड्रो सिमुलेटर पर भी प्रशिक्षण दिया जाता है। संस्थान द्वारा अब तक ओमान,बांग्लादेश, क बोडिया,नेपाल,फिलीपिन्स,जि बॉ बे, सूडान आदि विभिन्न देशों के विद्यु क्षेत्र में कार्यरत इंजीनियरों ने भी प्रशिक्षण प्राप्त किया है। संस्थान अब तक 2 लाख लोगों को प्रशिक्षण प्रदान कर चुका है।

सिंधिया ने गिनाए विकास कार्य
केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने 16-17 माह के अल्पकालीन ऊर्जा मंत्रालय की महत्वाकांक्षी जनता के बीच कही और कहा कि एक समय था जब ऊर्जा मंत्रालय घाटे में चल रहा था लेकिन जब हमने कार्यकाल संभाला तो ऊर्जा के क्षेत्र में अनेको कार्य किए जिसके परिणामस्वरूप आज 35 हजार मेगावाट ट्रांसमिशन ऊर्जा मंत्रालय द्वारा बनाए जा रहे है, ऊर्जा मंत्रालय को नई ऊर्जा देने के लिए 2 लाख का नया ऋण लेकर इसे पुन: खड़ा किया, हर साल होने वाले घाटो को रोकने लिए अनेकों कार्य किए तब कहीं जाकर आज ऊर्जा मंत्रालय सक्षम हुआ है। श्री सिंधिया ने एनटीपीई के बारे में महती जानकारी देते हुए बताया कि देश भर में 9 संस्थान संचालित करने के बाद 10 वां संस्थान शिवपुरी में खुलने जा रहा है यहां विभिन्न कार्सों में डिग्रीधारी होने वाले प्रशिक्षणर्थियों को इस संस्थान ही नहीं बल्कि अनेकों जगह रोजगार के अवसर मिलेंगें। थर्मल-हाईड्रो का प्रशिक्षण भी यहां प्राप्त किया जा सकेगा।

सिंधिया के बखान में कांग्रेसी भी आगे
एन.टी.पी.ई. ओर राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना के शिलान्यस भूमिपूजन समारोह में जब कार्यक्रम की शुरूआत हुई तो कांग्रेसजनों ने भी अपनी शैली में केन्द्रीय ऊर्जा ज्योतिरादित्य सिंधिया के खूब बखान किए। जिसमें सर्वप्रथम मंच पर मंचासीन पूर्व पार्षद सफदरबेग मिर्जा ने कहा कि सड़क,शिक्षा और स्वास्थ्य के प्रति केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया गंभीर है यही वजह है कि आज इस क्षेत्र में उन्होंने करोड़ों की योजनाऐं स्वीकृत कराई सड़क के लिए जहां 3800 करोड़ से फोरलेन मंजूर कराया तो वहीं शिक्षा के लिए 125 करोड़ से इंजीनियरिंग कॉलेज और अब 64 करोड़ से ऊजा के क्षेत्र में प्रशिक्षण संस्थान, स्वास्थ्य के लिए 19 करोड़ की लागत से 300 बिस्तरीय अस्पताल श्री सिंधिया की देन ह जो उनके विकासोन्मुखी व्यक्तित्व को दर्शाता है। इस अवसर पर शहर कांग्रेस अध्यक्ष राकेश जैन आमोल ने अपने संबोध में श्री सिंधिया के विकास कार्यों को ना केवल सराहा बल्कि मंच से जनता के बीच इन योजनाओं का विस्तार से ब्यौरा दिया, राकेश जैन आमोल ने कहा कि शिवपुरी की तो जैसे लॉटरी लग रही है आए दिन करोड़ों की योजनाऐं अंचल के विकास को मिल रही है, रेल,पेयजल, सीवेज,अस्पताल और अन्य योजनाओं से जनता-जनार्दन के विकास की सोच रखने वाले श्री सिंधिया के विकास कार्यों की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। इनके अलावा पूर्व विधायक गणेश गौतम, हरिबल्लभ शुक्ला, विधायक रामसिंह यादव, विधायक शकुन्तला खटीक ने भी श्री सिंधिया के विकास कार्येां से जनता-जनार्दन को अवगत कराया और उन्हें शक्ति प्रदान करने की अपील भी की।

जिले की 19 लाख आबादी को मिलेगी बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं
भोपाल: 13 फरवरी 2014 जिले की 19 लाख आबादी को अब और अधिक स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी । इसके लिए राष्ट्रीय स्वास् य मिशन शुरू किया जा रहा है । स्वास्थ्य मिशन को बेहतर ढंग से क्रियान्वित करने के लिए आज होटल पलाश के वार्ता सभाकक्ष में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में विशेषज्ञ चिकित्सकों और मिशन से जुड़े अन्य अधिकारियों ने सुझाव दिए । कार्यशाला की शुरूआत में मु य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 पकंज शुक्ला ने बताया कि शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम में जिले की लगभग 19 लाख की जनसं या को कव्हर किया जायेगा । नगर की 486 बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर ढंग से देना पहला उद्देश्य है । कार्यक्रम के अंतर्गत ओपीडी और लैब सुविधा के लिए अर्बन पीएचसी और तीस बिस्तरीय अर्बन सीएचसी के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार किया जायेगा । इसके साथ ही मौजूदा सिविल डिस्पेंसरी का भी उन्नयन किया जाना प्रस्तावित है । कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए नगर निगम, महिला बाल विकास, पीएचई, शहरी विकास अभिकरण आदि के साथ स्वास्थ्य विभाग समिति गठित करेगा । कार्यशाला में शहरी क्षेत्र में काम कर रहीं प्रमुख एजेंसियों और स्वास्थ्य संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया । इसमें महिला बाल विकास, गैस राहत अस्पताल, ए स, नर्सिंग होम एसोसिएशन और अर्बन डव्हलपमेंट पार्टनर्स को स्वास्थ्य मिशन में उनकी भूमिका के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई ।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment