साम,दाम के बाद दण्ड भेद से संघर्ष होगा अब आप का

व्ही.एस.भुल्ले/ जिस तरह का दवाब दिल्ली में आप पार्टी की सरकार के गंठन के बाद दिखाई दे रहा है और लेाकसभा चुनाव 2014 सर पर है,देश भर में बढ़ रही लेाकप्रियता के बीच देश के दोनों ही प्रमुख राजनैतिक दल सक्ते में है।
जिसके चलते कांग्रेस भले ही सामने न आगकर दण्ड भेद की नीति इक्तयार कर आगे बढ़ रही है वहीं दिल्ली में भाजपा की सरकार बनते-बनते न बन पाने एवं नमो अभियान आ रही गिरावट के चलते आप पार्टी से आमने-सामने होने आतुर दिखाई पड़ती है। जिसकी कि उसे जरुरत ही नहीं विगत विधानसभा चुनावों में बहुत कुछ गवां चुकी कांग्रेस समय की नजाकत को देखते हुये समल समल कर आगे बढ़ रही है,वहीं भाजपा जरा-जरा सी बातों पर आम आदमी से आमने-सामने हो रही है।

ये अलग बात है,कि कि आप पार्टी के अन्दर ही कारण जो भी हों,जिस तरह की जंग छिडऩे जा रही है,वह आप पार्टी का क्या भविष्य तय करेगी कहना जल्दबाजी होगी। मगर इतना तो तय है,आगामी लेाकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी किसी भी राजनैतिक दल को शान्ति से नहीं बैठने देगी। काश आम आदमी पार्टी जिस तरह से देश में कार्यकत्र्ता ढूढने देश में निकली है,वह पहले उन दलो को तलाशती जो वर्षो से ईमानदार को अपना कर्म और देश को सही दिशा देने धर्म मानकर आंदोलित है। शायद कम समय में उन्हें ढेर सारे ईमानदार देश भक्त नेता मिल जाते जो आम आदमी पार्टी लेाकसभा चुनाव से पूर्व फर्स से अर्स तक पहुंचाने में सहयोगी होते।

मगर आम आदमी पार्टी की आम आदमी जोड़ों नीति ने उसे उन प्रमुख राजनैतिक दलो की तरह भारतीय राजनीति में खड़ा कर दिया है। जो लेाकतंत्र की दुहाई तो देते है मगर चलते सामन्तवादियों और प्रायवेट लिमिटेडों की तरह नहीं तो क्या बात है,कि आज तक 65 की उम्र में देश भर में आंदोलन करने वाले रघु ठाकुर जिनके कई चेले विधायक सांसद ही नहीं मंत्री तक रह चुके है,या ह ैजिनकी पूंजी देश भर में गरीबों के लिये जगह जगह गरीबों के बीच आंदोलन और दो कुर्ता,दो पंजामा और एक बैग है। जिन्हें आज तक आप पार्टी नहीं ढूंढ पाई। रघु भाई जैसे कई राष्ट्र भक्त नेता देश भर में फैले पड़े है। मगर आम आदमी की पार्टी कहे जाने वाली आप पार्टी में ऐसे नेता नहीं जुड़ सके।

कारण साफ है,जिस तरह से कुछ तरह से अन्य राजनैतिक दलो दब दवा बनाये नेताओं में संका रहती है कि कहीं ऐसा न हों कि उनके दब दबे में कोई कमी आये या जो लेाग पार्टियों को प्रायवेट लिमिटेड की तरह लेाकतंत्र के नाम चलाते है। वैसी ही स्थितियाँ आप पार्टी में देखी जा सकती है। बहरहॉल तो आप पार्टी का ग्राफ आसमान छूने आतुर दिखाई देता है।

बिट्रेन-भारत शिक्षा एवं शोध पहल ढांचे के तहत भारत और बिट्रेन ने सहयोग बढ़ाने संबंधी समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए
नई दिल्ली। बिट्रेन-भारत शिक्षा एवं शोध पहल ढांचे-यूकेआईईआरआई के अंतर्गत सहयोग बढ़ाने के लिए ब्रिटेन के व्‍यापार नवाचार कौशल –बीआईएस और भारत के श्रम एवं नियोजन मंत्रालय के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए गए हैं। नई दिल्ली में आज ब्रिटेन के कौशल एवं उद्यम विकास मंत्री श्री मैथ्‍यू हैनकॉक और श्रम एवं नियोजन राज्‍य मंत्री श्री के सुरेश की अध्‍यक्षता में प्रतिनिधि स्‍तर की द्विपक्षीय वार्ता के बाद इस पर हस्ताक्षर किए गए।

समझौते के मुख्य बिन्दु निम्नलिखित हैं—
सहमति पत्र में कौशल विकास और रोज़गार सेवाओं के क्षेत्र में सहयोग और साझेदारी बढ़ाने पर ध्यान केन्द्रित किया गया है। सहमति पत्र ,दिशा निर्देश मसौदे का काम करेगा जिसके तहत निम्नलिखित कार्यों में मदद दी जाएगी:
१ कौ‍शल विकास और रोजगार सेवाओं में लगे ब्रिटेन और भारत के अधिकारियों और संस्थानों में संस्‍थागत क्षमता निर्माण।
२.तकनीकी विशेषज्ञता साझा करना, कौशल विकास और रोजगार सेवाओं में संपर्क बनाना तथा इनमें कमी की पहचान करना, पाठयक्रम में सुधार, आकलन के लिए न्‍यूनतम मानदड स्थापित करना, तथा प्रमाणन और प्रशिक्षण विधियां तय करना ।
३ब्रिटेन के नेशनल कैरियर सर्विस की तर्ज़ पर भारत में रोजगार सेवाओं के विकास में मदद करना ।
४.कौशल विकास और रोजगार सेवाओं के क्षेत्र में परस्‍पर सहमति से अन्‍य लाभप्रद योजनाओं पर काम करना।
यूकेआईईआरआई पहला कदम उठाते हुए ब्रिटेन के मौजूदा कैरियर (पेशा) सेवाओं के साथ भारतीय पक्षों को सहयोग की सुविधा उपलब्‍ध करायेगा। भारतीय मॉडल विकसित करने में मदद के लिए ब्रिटेन के व्‍यावहारिक तौर तरीकों को श्रम एवं नियोजन मंत्रालय तथा अन्‍य हितधारकों के साथ साझा किया जाएगा। भारत और ब्रिटेन कौशल विकास की मांग को पूरा करने के लिए पहचान किए गए प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में संबंधित परिषदों के साथ साझेदारी करेगा। इसके तहत पाठ्यक्रमों का पुनर्गठन, अध्‍ययन सूची में बदलाव, अध्‍यापन और अध्‍ययन अभ्‍यास में बे‍हतर तौर तरीकों की पहचान और उन्‍हें विकसित करना प्रशिक्षकों का गुणवत्‍तापूर्ण प्रशिक्षण, मूल्‍यांकन व्‍यवस्‍था स्‍थापित करना और रोजगार प्रशिक्षण में बेह‍तरी लाना इ‍त्‍यादि है।

महात्मा गांधी नरेगा में सामग्री मद में अब धन की कमी नहीं-ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री
जयपुर, 16 जनवरी। महात्मा गांधी नरेगा योजना को ज्यादा आकर्षक, जन उपयोगी कैसे बनाया जाये और श्रमिकों की इससे बढ़ती बेरूखी को कैसे दूर किया जाये, इस समस्या का समाधान खोजने की पहल करते हुए ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री श्री गुलाब चन्द कटारिया ने गुरूवार को सभी जिला परिषद के मु य कार्यकारी अधिकारियों तथा योजना से जुड़े अन्य विभागों के अधिकारियों के साथ इन्दिरा गांधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास अध्ययन संस्थान में आयोजित एक कार्यशाला में विचार मंथन किया।

कार्यशाला में आये सुझावों पर विचार करने के पश्चात श्री कटारिया ने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा योजना का मु य उद्देश्य रोजगार की गारन्टी देना है। इसमें ग्राम पंचायतवार बजट का न्यूनतम 60 प्रतिशत श्रम पर खर्च करना होता है जिससे ज्यादातर कच्चे काम ही हो पाये हैं। अब पक्के कामों पर जोर देने की आवश्यकता है जिनसे स्थायी सामुदायिक परिस पत्तियों का निर्माण हो पर इसमें यह नियम आडे आता है कि 40 प्रतिशत से ज्यादा राशि सामग्री यथा सीमेन्ट, रोडी, पत्थर पर खर्च नहीं की जा सकती। इसके समाधान के रूप में दर्जनों अन्य योजनाओं को महात्मा गांधी नरेगा से जोड़ दिया गया है। जैसे पाइका योजना में खेल मैदान तैयार करने के लिए श्रमिक महात्मा गांधी नरेगा योजना में मैदान को समतल करेंगे, आंगनबाड़ी केन्द्र के निर्माण के लिए 4.5 लाख रुपये तक श्रम व सामग्री के रूप में खर्च किये जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि श्रम की हिस्सा राशि महात्मा गांधी नरेगा मद से दी जायेगी। सामग्री के पेटे 60 प्रतिशत नरेगा वाली राशि के अतिरिक्त अन्य हिस्सा राशि इस सहयोगी योजना से ले ली जायेगी। इससे गांव के स पूर्ण विकास में 40 : 60 अनुपात से आ रही सभी बाधाएं दूर हो जायेगी। उन्होंने बताया कि इस ÓÓकन्वर्जेंसÓÓ सिस्टम से विजन 2025 के तहत राज्य की 250 से अधिक जनसं या वाली सभी ढ़ाणियों को शानदार सड़क से जोड़ा जायेगा।
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री ने बताया कि अब ग्रामीण क्षेत्र में शौचालय निर्माण के लिए 4600 रुपये सामग्री मद में पहले की तरह नगद मिलेंगे। श्रम मद 4500 रुपये दिये जा रहे थे। इसे अभी महात्मा गांधी नरेगा में बढ़ाकर 5400 रुपये कर दिये गये हैं यानि कुल 10 हजार रुपये शौचालय निर्माण के लिए दिये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा को विकास उन्मुखी बनाने, जागरूकता लाने, फार्म 6 भरवाने, कुशल श्रमिकों को जोडऩे के लिए सिविल सोसायटी की मदद ली जा रही है।

उन्होंने कहा कि 13वें वित्त आयोग ने 2013-14 के लिए 519 करोड़ रुपये जारी किये । इस मद में राज्य में पहले ही 1231 करोड़ रुपये शेष थे यानी 1750 करोड़ रुपये विभिन्न योजनाओं में खर्च किये जा सकते थे। इसके बावजूद केवल 26 प्रतिशत राशि अर्थात 454 करोड़ रुपये खर्च हुए। यह स्थिति अब बदलनी चाहिए तथा बजट का पूर्ण उपयोग उच्च गुणवत्ता वाले कार्यों में करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि मिड डे मील व्यवस्था से शिक्षकों को राहत दी जायेगी। इसके साथ ही मिड डे मील में क्वालिटी की लगातार मॉनिटरिंग की जायेगी। उन्होंने मृतक राज्य कर्मचारियों के आश्रितों को निश्चित समय सीमा के भीतर अनुक पा नियुक्ति देने के निर्देश दिये।

ग्रामीण क्षेत्र से शहरी क्षेत्रों में पलायन रोकने के लिए महात्मा गांधी नरेगा के साथ ही ÓÓपुराÓÓ कार्यक्रम बड़ा महत्वपूर्ण है। इसमें ग्रामीण क्षेत्रों में शहरों जैसी सुविधाएं उपलब्ध करायी जाती है। आगामी वित्तीय वर्ष में इस योजना में शामिल ब्लाक्स की सं या बढ़ाई जायेगी।कार्यशाला में किसान सेवा केन्द्र सह विलेज नॉलेज सेन्टर, आवासीय भूखण्ड आवंटन योजना, जनता जल योजना, निर्बन्ध योजना, राष्ट्रीय ग्राम स्वराज योजना, विलेज मास्टर प्लान आदि विभिन्न योजनाओं को और बेहतर तरीके से क्रियान्वित करने पर भी विचार विमर्श हुआ। इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री श्रीमत् पाण्डे, पंचायती राज आयुक्त एवं शासन सचिव श्रीमती अपर्णा अरोरा, महात्मा गांधी नरेगा आयुक्त श्री कुंजीलाल मीणा, राजस्थान राज्य आजीविका मिशन के एम.डी. श्री सुबीर कुमार भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय युवा उत्सव में जीत हासिल करने पर युवाओं को दी बधाई
रायपुर, १६ जनवरी २०१४ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने १२ जनवरी से पंजाब के लुधियाना में चल रहे पांच दिवसीय राष्ट्रीय युवा उत्सव में कथक विधा में स्वर्ण पदक जीतने पर छत्तीसगढ़ के श्री किशोर देव वर्मन और कुचीपुड़ी विधा में रजत पदक हासिल करने पर कुमारी तान्या रेड्डी को बधाई दी है। उन्होंने राष्ट्रीय युवा उत्सव में शामिल होने गए राज्य के अन्य सभी प्रतिभागियों को भी शुभकामनाएं दी हैं उल्लेखनीय है कि महान दार्शनिक और समाज सुधारक स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर पंजाब के लुधियाना में १२ जनवरी से १६ जनवरी तक राष्ट्रीय युवा उत्सव का आयोजन किया गया। इस उत्सव में छत्तीसगढ़ के खैरागढ़ (राजनांदगांव) के निवासी श्री किशोर देव वर्मन ने कथक में प्रथम स्थान प्राप्त कर स्वर्ण पदक हासिल किया, जबकि रायपुर जिले की कुमारी तान्या रेड्डी ने कुचीपुड़ी में द्वितीय स्थान प्राप्त कर रजत पदक जीता है। खेल एवं युवा कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव श्री आर.पी.मण्डल और संचालक श्री जीतेन्द्र शुक्ला ने भी राष्ट्रीय युवा उत्सव में जीत हासिल करने वाले युवाओं के साथ इस उत्सव में शामिल राज्य के सभी प्रतिभागियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में अनेक प्रतिभाएं हैं, जिन्होंने राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जीत हासिल कर छत्तीसगढ़ का नाम रौशन किया है।

मुख्ुख्यमत्रंत्रं ी स े राष्ट्रीय मानवाधिकार आयागेगे क े प्र्िरतिनिधिमण्डल न े भटेंटें की
लखनऊ: १६ जनवरी, २०१४ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयागे के अध्यक्ष न्यायमूि र्त श्री क०े जी०बालाकृष्णन के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमण्डल ने आज यहां उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव स े उनक े सरकारी आवास ५, कालिदास मार्ग पर भटें की।
प्रतिनिधिमण्डल म ें राष्ट्रीय मानवाधिकार आयागे क े सदस्य न्यायमूि र्त श्री डी०मुरुगेसन, श्री सत्यब्रत पाल तथा श्री एस०सी०सिन्हा शामिल थे।
भेंट क े दौरान विभिन्न मुद्दो ं पर सौहार्दपणर््ू ा वातावरण मे ं चर्चा हुई। साथ ही, मानवाधिकार क े प्रति समाज म ें जागरूकता लान े तथा लागे ों का े इस सम्बन्धम ें शिक्षित करन े पर भी विचार हुआ। समाज म ें मानवाधिकारा ें क े प्रतिसंवेदनशीलता लाने पर भी चर्चा हुई। शासन-प्रशासन तथा पुलिस के अधिकारिया/ें कर्मचारियो ं का े मानवाधिकार क े प्रति संवदे नशील बनान े तथा इस
सम्बन्ध म ें उन्ह ें प्रशिक्षण दने े पर भी विचार हुआ। बैठक के दौरान प्रमुख सचिव गृह श्री अनिल कुमार गुप्ता तथा पुलिस महानिदश्े ाक श्री रिजवान अहमद भी मौजदू थे।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment