कुपोषण के दंश से कराहता म.प्र.

शिवपुरी जिले में,बच्चों की मौत का फिर नया मामला

व्ही.एसभुल्ले/म.प्र. शिवपुरी। यूं तो म.प्र. का शिवपुरी जिला कई वर्षो से कुपोषण से होने वाली मौतों का बायस रहा है और इन मौतों पर म.प्र. शासन ही नहीं,केन्द्र की बाल आयोग के पैरोंकारो का भी आना=जाना रहा है। मगर इस जिले का दुर्भाग्य कि यह बच्चों की मौत का सिलसिला कुपोषण के कारण थमने का नाम ही नहीं लेता।

भले ही शासन के पैरोकार इन मौतों का कारण बीमारी गिनाते रहे हों,मगर सूत्रों के माने तो देश के नौनिहालों की मौत के कारण के गर्भ में कुपोषण ही छिपा है। जिसका साकचात उदारण हाल ही में म.प्र. शिवपुरी जिले की तहसील बैराड़ से सटे ग्राम कालामढ़ में अगर एक दैनिक अखबार की खबर को सच माने तो,4 बच्चों की कुपोषण से मौत तो 100 के करीब बच्चे कुपोषित है। अगले ही दिन प्रकाशित उक्त समाचार पत्र ,में खबर पर संज्ञान ले तो,58 बच्चे और कुपोषित मिले जिनमें 4 की हालात ग भीर बतायी गयी थी। जिनका बजन 1.5 ग्राम बताया गया था और उन्हें शिवपुरी जिला मु यालय भेजने की बात कहीं गई है।

ये अलग बात है,कि म.प्र. सरकार का महिला एवं बाल विकास विभाग 100 दिनों की कार्य योजना बना चिन्हित तीन हजार गांवों के 14 हजार 725 आंगनबांडी केन्द्रों में सुपोषण अभियान की शुरुआत कर म.प्र.से कुपोषण मिटाने की तैयारी में हो। मगर एन.आई.एन के सर्वेक्षण के अनुसार म.प्र. में 51.9 प्रतिशत बच्चे सामान्य से कम बजन तथा 19.8 प्रतिशत बच्चे अधिकम बजन के थे। इनमें से 8.3 प्रतिशत बच्चे ग भीर कुपोषित श्रेणी के थे। म.प्र. के स्वास्थ विभाग के प्रमुख सचिव प्रवीण कुमार ने दिस बर मेें विभाग की बैठक में बताया था कि राज्य में 6 लाख बच्चे कुपोषित है। अगर ग्वालियर से प्रकाशित एक दैनिक समाचार पत्र की खबर में मौजूद आंकड़ों की माने तो प्रदेश में कुपोषण और उससे पैदा होने वाली बीमारियों से पिछले 4 सालों में 1 लाख 22 हजार 422 बच्चे अकाल मौत का शिकार बन चुके है। इन मौतो में 6 से कम के 20086 और 6 से 12 आयु वर्ग के 1 हजार 332 बच्चे शामिल है। ये मौते प्रदेश के 45 जिलों में दर्ज की गई है।
अगर सूत्रों की माने तो करोड़ों रुपये का बजट केन्द्र ने राज्य सरकार को मुहैया कराया। मगर दुर्भाग्य म.प्र. का जो वह इसे समुचित खर्च नहीं कर पायी। अगर विधानसभा में पेश की गई सी.ए.जी की रिर्पोट की माने तो कुपोषण से छुटकारा दिलाने के उद्देश्य से अटल बाल आरोग्य मिशन की स्थापना की घोषणा 2011-2012 के बजट में की गई थी। बजट में 88 करोड़ और बाद में अनुपूरक बजट में 111 करोड़ का प्रावधान किया गया था। मगर इसका समुचित उपयोग न हो सका।

अगर सारे तथ्यों के मद्देंजनर समीक्षा की जाये तो म.प्र. सरकार का महिला बाल विकास विभाग बुरी तरह असफल रहा कुपोषण से जूझने में, अगर ऐसे में कुपोषण के लिये कु यात म.प्र. के शिवपुरी जिले के कालामड़ ग्राम में कुपोषण से मौते हो रही है या कुपोषित बच्चे इस ग्राम में मिल रहे है। इससे बड़ी शर्मनाक बात म.प्र. सरकार के लिये और कोई नहीं हो सकती। कारण साफ है,कि जिले में कुपोषण से लडऩे का काम ठीक तरह से नहीं हो रहा यह तो शिवपुरी जिले के 1200 से अधिक ग्रामों से मात्र एक गांव का मामला है और न जाने कितने गांवों में देश के भविष्य इस कुपोषण के महादंश से जूझ रहे होगें।

नरवर में विशाल काव्यगोष्ठी में जेलर मौर्य का नागरिक अभिन्दन हुआ
म.प्र. शिवपुरी,नरवर। नववर्ष 2014 के उपलक्ष्य में नरवर में स्थित सिद्धिविनायक कॉलेज विशाल काव्यगोठी का आयोजन दिनांक 12 जनवरी रविवार को दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक किया गया। इस विशाल काव्यगोष्ठी में वरिष्ठ उपजेल अधीक्षक विजय सिंह मौर्य का नागरिक अभिनंदन किया गया। उल्लेखनीय है कि जेलर मौर्य को तीन बार राष्ट्रपती पुरुस्कार प्रदान किया गया है। हाल ही में म.प्र. के मु यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा भी पुरुस्क्रत किया गया है। जेलर मौर्य के पुरुस्कारों की श्रृंखला को आगे बढ़ातें हुये शिवपुरी जिले की नई तहसीलों में भी इनका नागरिक अभिनंदन किया गया है। नागरिक अभिनंदन की श्र्रेणी में नरवर में भी सिद्धिविनायक कॉलेज में जेलर मौर्य का नागरिक अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर सिद्धिविनायक कॉलेज के संचालक सुनील भार्गव को प्रेस क्लब ब्लॉॅक अध्यक्ष पद पर मनोनीत किया गया। नववर्ष,जेलर मौर्य का नागरिक अभिनन्दन तथा सिद्धि विनायक कॉलेज के संचालक सुनील भार्गव को प्रेस क्लब ब्लॉक अध्यक्ष मनोनीत होने के उपलक्ष्य में एक विशाल काव्यगोष्ठी का आयोजन किया गया इस काव्यगोष्ठी में मु यअतिथि वरिष्ठ उपजेल अधीक्षक विजय सिंह मौर्य तथा विशिष्ठ अतिथि के रुप में नगर परिषद नरवर के अध्यक्ष डॉ.मनेाज माहेश्वरी,पूर्व साडा अध्यक्ष एवं भाजपा जिला उपाध्यक्ष शब्बीर खान,पूर्व जनपद पंचायत अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह रावत,मध्यांचल ग्रामीण बैंक मेनेजर रामबाबू शर्मा,श्रीराम पंडित तथा काव्यगोष्ठी की अध्यक्षता प्रेसक्लब के जिलाध्यक्ष वीरेन्द्र शर्मा भुल्ले जी द्वारा की गई। इस विशाल काव्यगोष्ठी में शिवपुरी जिले के प्रसिद्ध कवि एवं साहित्यकार दिनेश वरिष्ठ,रामबाबू शर्मा,प्रदीप दुबे शुकून,राकेश सिंह,आदित्य जी,डॉ. लखनलाल खरे,राजकुमार श्रीवास्तव ,राजू नामदेव,मुबीन अहमद,मुबीन,डॉ.अजय ढींगरा,श्रीराम पंडित रामबाबू शर्मा,अवदेश सक्सेना,तथा नरवर के अब्दुल हययूम खाल,प्रभाकान्त मिश्रा,नीरज कुमार तिवारी,अशोक कुमार असइया,रमेश श्रीवास्तव इत्यादि कवियों ने काव्यपाठ किया। राष्ट्रीय स मानों से अलंक्रत वरिष्ठ साहित्यकार प्रोफेसर लखनलाल खरे द्वारा काव्य गोष्ठी का संचालन किया गया। इस विशाल काव्यगोष्ठी में मु यअतिथियों एवं सभी कविगणों को शॉल एवं श्रीफल प्रदान करके स मानित किया गया कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहें प्रेसक्लब के जिला अध्यक्ष वीरेन्द्र शर्मा भुल्ले जी ने सिद्धिविनायक कॉलेज के संचालक तथा काव्यगोष्ठी के आयोजक सुनील भार्गव को प्रेसक्लब का ब्लॉक अध्यक्ष घोषित किया। इस विशाल कार्यक्रम में सिद्धि विनायक कॉलेज के चेयरमेन रतनलाल शर्मा द्वारा आभार व्यक्त किया गया। इस अवसर पर नरवर के अनेकों गणमान्य नागरिक,जनप्रतिनिधि एवं पत्रकार गण उपस्थित हुये।

छत्तीसगढ़ के खेल जगत को रमन सरकार की दूसरी बड़ी अन्तर्राष्ट्रीय सौगात
रायपुर, १९ जनवरी २०१४ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के च्ड्रीम-प्रोजेक्टज् के रूप में छत्तीसगढ़ के हॉकी खिलाड़ियों और हॉकी प्रेमियों के लिए लगभग २२ करोड़ रूपए की लागत से राज्य के प्रथम अन्तर्राष्ट्रीय एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम का निर्माण पूरा हो गया है। डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य शासन द्वारा वर्ष २००८ में प्रदेश के खिलाड़ियों और खेल प्रेमियों के लिए लगभग सौ करोड़ रूपए की लागत से नया रायपुर स्थित ग्राम परसदा में परसदा में निर्मित अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की सौगात मिल चुकी है। इसके बाद कल २० तारीख को छत्तीसगढ़ के खेल जगत को रमन सरकार की ओर से अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम की सौगात मिलने जा रही है।

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री शेखर दत्त और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कल २० जनवरी को सवेरे ११.०५ बजे जिला मुख्यालय राजनांदगांव में लगभग साढ़े नौ एकड़ के रकबे में निर्मित इस विशाल हॉकी मैदान का लोकार्पण करेंगे। लोकार्पण समारोह में राज्यपाल एकादश और मुख्यमंत्री एकादश के बीच उद्घाटन हॉकी मैच भी खेला जाएगा। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के इस हॉकी स्टेडियम में उत्तर-दक्षिण दिशा में १०१ मीटर लम्बे और ७० मीटर चौड़े हरे रंग का एस्ट्रोटर्फ बिछाया गया है। एस्ट्रोटर्फ में छह स्प्रिंकलर लाइन भी बिछायी गयी है। प्रदेश के विश्व स्तरीय इस प्रथम हॉकी स्टेडियम को भारतीय हॉकी फेडरेशन से भी मान्यता मिल गयी है। छत्तीसगढ़ और पूरे भारत में राजनांदगांव हॉकी नर्सरी के नाम से पहचाना जाता है, जहां मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के लगातार प्रयासों के फलस्वरूप अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम के लोकार्पण के साथ ही राज्य और राजनांदगांव की जनता का वर्षो पुराना एक सपना साकार हो जाएगा। इसका निर्माण गौरव पथ के नजदीक गुजराती स्कूल और बख्शी स्कूल के बीच राजगामी सम्पदा की साढ़े नौ एकड़ जमीन पर किया गया है। प्रथम चरण में एस्ट्रोटर्फ के पूर्वी हिस्से में लगभग तीन हजार दर्शकों की बैठक क्षमता वाली गैलरी का निर्माण किया गया है। इसके अलावा अन्तर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रथम चरण में मुख्य मैदान, पेवेलियन और आमंत्रित विशेष अतिथियों के लिए कक्षों का निर्माण किया जा चुका है। स्टेडियम के पश्चिमी हिस्से में लगभग छह हजार दर्शकों की बैठक वाली दर्शक दीर्घा का निर्माण भी युद्ध स्तर पर पूर्णता की ओर है। दूसरे चरण में वहां नेटबाल, खो-खो और बास्केटबाल सहित कुछ अन्य खेलों के लिए भी बुनियादी सुविधाओं का विकास किया जाएगा। भारतीय हॉकी फेडरेशन से मान्यता मिलने के बाद अब छत्तीसगढ़ के इस अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम में निकट भविष्य में अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी स्पर्धाओं का भी आयोजन किया जा सकेगा। स्टेडियम में कल २० जनवरी को होने वाले उद्घाटन समारोह में प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, लोकसभा सांसद श्री मधुसूदन यादव, भारत के पूर्व ओलंपिक हॉकी खिलाड़ी और विश्व कप विजेता भारतीय हॉकी टीम के कप्तान श्री अजीत पाल सिंह, भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान सुश्री सबा अंजुम, भारतीय हॉकी टीम के कप्तान श्री सरदारा सिंह सहित राज्य और देश के अनेक राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी भी शामिल होंगे।

चिकित्सा मंत्री ने पिलायी पल्स पोलियो खुराक अस्पताल का किया आकस्मिक निरीक्षण
जयपुर, 19 जनवरी। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने रविवार को प्रात: 9.30 बजे गांधी नगर डिस्पेंसरी में जाकर बच्चों को पल्स पोलियो की खुराक पिलायी एवं डिस्पेंसरी का आकस्मिक निरीक्षण किया। उन्होंने जयपुरिया चिकित्सालय का भी आकस्मिक निरीक्षण किया एवं साफ-सफाई सहित सभी व्यवस्थायें सुधारने के निर्देश दिये।
श्री राठौड़ ने गांधीनगर डिस्पेंसरी में पल्स पोलियो बूथ पर पोलियो की खुराक पीने के लिए आये बच्चों चित्रंश सैन एवं सोही यादव को पोलियो की खुराक पिलायी। प्रमुख शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री दीपक उप्रेती ने भी बच्चों को पोलियो की खुराक पिलायी। पोलियो खुराक पिलाने के बाद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने डिस्पेंसरी के विभिन्न कक्षों में जाकर आकस्मिक निरीक्षण किया एवं व्यवस्थाओं को सुधारने के निर्देश दिए। चिकित्सा मंत्री ने जयपुरिया चिकित्सालय में जाकर वहां की चिकित्सा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने मु यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण योजना व मु यमंत्री नि:शुल्क जांच योजना के केन्द्रों का भी जायजा लिया एवं साफ-सफाई के साथ ही कर्मचारियों के निर्धारित ड्रेस में होने व नाम पट्टिका का उल्लेख करने के निर्देश दिये। 

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment