आप के उठे तूफान से हिलते बड़े-बड़े दुर्ग

कुछ सुधार की मुद्रा में,तो कुछ मिटने तैयार

व्ही.एस.भुल्ले/ विगत वर्ष पांच राज्यों में हुये विधानसभा चुनावों में कुछ राजनैतिक दलो की अप्रत्याशित तबाही के बाद तूफान से पहले देश भर में बन रहे,बंबंडर की आहट से भले ही देश के प्रमुख राजनैतिक दल परेशान न हों,मगर इतना तो तय होता, दिखाई पड़ता है। कि कुछ राजनैतिक दल जहां सीखने की मुद्रा में है तो कुछ मिटने को तैयार।

भाई लेागों का राजनैतिक गणित बोलता है,कि चूंकि वह दिल्ली थी जहां आप को अप्रत्याशित सफलता मिल गयी मगर देश बड़ा है और देश के सबा अरब लेाग आज भी इन दलो की कारगुजारियों से न बाकिफ। हो सकता है,ये मेरा मुगालता हो,कि संचार सुविधाओं ने सभी देश वासियों को इतना समझदार बना दिया है,कि वह यह देख सके कि उनके द्वारा चुने गये जनप्रतिनिधि और सरकारें उनके लिये क्या कर रहीं है।

क्यों सरकारों के अथक प्रयास और चुने हुये जनप्रतिनिधियों की सेवा दोनों ही उनकी समस्याओं के आड़े नहीं आ पा रहे। लेाकतंत्र के राजा हाल वेहाल है और उनके पैरोकार माला माल। किससे छिपा है,कि सरकारी एजेन्सियों द्वारा डाले जाने वाले छापों में बाबू से लेकर अधिकारियों तक के यहां लाख दो लाख नहीं करोड़ों निकल रहे है। वहीं वोट लेकर सेवा का दम भरने वाले उडऩखटोलो में उड़ रहे है। भले ही राजा सड़कों के नाम गड्डों में हिचकोले ले मिनटों का सफर घन्टों में तय करते हों,मगर किसी को शर्म कहां।

यहीं वो कारण है,कि आम आदमी पार्टी के नाम से उठे तूफान को लेकर बड़े-बड़े राजनैतिक दलो के दुर्गु हिल रहे है। कुछ तो अपना सफाया मान तमाशबीन की मुद्रा अपना चुके है,तो कुछ सुधार की मुद्रा अपना,अपना बर्चेस्व बचाने में लगे है,तो कुछ मिटने को तैयार पहाड़ बनकर सामने खड़े है।

पुरानी कहावत है,कि समझदार व्यक्ति तूफान से बचने की जुगत लगा उसके गुजरने का इन्तजार करते है। वहीं र्निजीव पहाड़ और घने जंगल जिन्दा रहने अपने आपको को प्रकृति के हवाले कर देते है। मगर बड़े-बड़े राजनैतिक दलो के रुप में मौजूद ये महल अब भी तूफान से टकराने का दम भर रहे है।

कौन नहीं जानता दिल्ली में देश के दोनों राजनैतिक दलेा के दुर्गु धरासायी हो,राजस्थान के रेगिस्तान बन चुके है,वहीं राजस्थान में जनआक्रोश के तूफान ने कांग्रेस के अस्तित्व पर ही सवाल खड़े कर दिये है। रहा सवाल म.प्र. का तो यहां भी दुर्गु के वो ही अखाड़े शेष बचे है,जिन्होंने तूफान से पहले बचने की जुगत भिड़ाली थी।

ये अलग बात है,कि आप का दखल राजस्थान,म.प्र. सहित छत्तीसगढ़ में नहीं रहा। अगर रहा होता तो जनआक्रोश के तूफान से भाजपा को सतलज के मैदान जो नसीब हुये है अगले पांच वर्षो तक सत्ता की फसल उगाने वह भी दिल्ली के रेगिस्तान की तरह होते।

बहरहॉल तूफान की दिशा समुचे देश में है,देखना होगा 2014 के लेाकसभा चुनावों में जन आक्रोश का यह तूफान किसको ककड़ीला रेतिला रेगिस्तान तो किसको सतलज का मैदान बना छोड़ता है।

वायुसेना प्रमुख ने लेह और लद्दाख सेक्‍टर का दौरा किया
नई दिल्ली१४-जनवरी, २०१४ वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने विश्‍व के दुर्गम भौगोलिक क्षेत्रों में शुमार लेह और लद्दाख में भारतीय वायु सेना के अभियानों की जानकारी लेने के लिए कल इन क्षेत्रों में स्थित वायु सैनिक ठिकानों का दौरा किया उन्‍होंने ३१ दिसम्‍बर को वायु सेना प्रमुख का पदभार संभाला था और यह उनकी पहली लेह-लद्दाख यात्रा है। उनके आने के बाद कोर कमांडर लेफि्टनेंट जनरल राकेश शर्मा ने उन्‍हें इस क्षेत्र की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया।

एयर ऑफिसर कमांडिंग आर इस्‍सर ने एयर चीफ मार्शल अरूप राहा को लेह तथा लद्दाख क्षेत्र में विभिन्‍न मूलभूत सुविधा परियोजनाओं की प्रगति से अवगत कराया।च्हमारे वायुसैनिक योद्धा विषम भौगोलिक परिस्थितियों में भी असाधारण काम कर रहे हैं और इस बात के लिए प्रतिबद्ध है कि खराब मौसम की दशा में भी अग्रिम सैन्‍य चौकियों में आपूर्ति में किसी तरह की कोई बाधा नहीं आए। उन्‍होंने सभी रक्षा‍कर्मियों से मुलाकात की और अभियान संचालन तथा प्रशासनिक मुद्दों पर बातचीत की।

मुख्यमंत्री ने किया च्मीडिया सिटीज् का लोकार्पण
रायपुर, १४ जनवरी २०१३ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां मकर संक्रांति और ईद-मिलाद-उन-नबी के अवसर पर राजधानी पत्रकार गृह निर्माण सहकारी समिति द्वारा महोबा बाजार में निर्मित आवासीय कॉलोनी च्मीडिया सिटीज् का लोकार्पण किया। उल्लेखनीय है कि कॉलोनी का भूमि पूजन और शिलान्यास भी स्वयं उनके हाथों १४ जनवरी २००७ को मकर संक्रांति के दिन सम्पन्न हुआ था।
डॉ. रमन सिंह ने आज कॉलोनी के लोकार्पण पर पत्रकारों की गृह निर्माण सहकारी समिति के सभी सदस्यों को बधाई और शुभकामनाएं दी। डॉ. सिंह ने कहा कि मकर संक्रांति और ईद के पावन अवसर पर यह शुभ कार्य सम्पन्न हुआ है। मकर संक्रांति में भगवान सूर्य नारायण की दिशा बदलती है। उनसे प्रार्थना है कि सबके जीवन की दशा बदले और सबके जीवन में स्थिरता और खुशहाली आए। डॉ. रमन सिंह ने कॉलोनी में नव-निर्मित नौ मकानों का उल्लेख करते हुए शेष ५० परिवारों से भी मकान जल्द बनाने का आग्रह किया और कहा कि च्मीडिया सिटीज् के प्रथम चरण में सभी ५९ परिवारों के मकान बन जाने के बाद राज्य सरकार समिति के अन्य सदस्य पत्रकारों के लिए मीडिया सिटी फेस-२ के लिए भी अपनी ओर से हर संभव सहयोग देगी।

पेयजल, शिक्षा, बिजली, चिकित्सा व रोजगार सरकार की प्राथमिकता -जल संसाधन मंत्री
जयपुर, 14 जनवरी। जलसंसाधन मंत्री प्रो. सांवर लाल जाट ने कहा कि जनतंत्र में जनता सर्वोपरी है, जनता के लिए पेयजल, शिक्षा, बिजली, चिकित्सा व रोजगार मुहैया कराना लोककल्याणकारी सरकार का प्राथमिक लक्ष्य होना चाहिए। राजस्थान में भी मु यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के नेतृत्व में सरकार जनमहत्व की आधारभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए संकल्पबद्घ है। 

प्रो. जाट मंगलवार को अजमेर जिले की श्रीनगर पंचायत समिति के विभिन्न गांवों के सघन दौरे के दौरान श्रीनगर पंचायत समिति के हाथीपट्टा गांव में ग्रामवासियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने 60 दिनों की कार्ययोजना तैयार की है, जिसके तहत कई जनमहत्व के महत्वपूर्ण कार्यों को संपादित किया जाएगा। जिसके तहत क्षेत्र के गांवों में पेयजल, सडक, बिजली जैसी आधारभूत सुविधाओं के विकास हेतु संसाधन उपलब्ध कराना भी शामिल है।

उन्होंने श्रीनगर पंचायत समिति के हाथीपट्टा, मोहनपुरा, जाटिया ढाणी, फारकिया, बनेवडी, थोई नाडा, बावडी, बाडा, टिल्या खेडा, टन्टिया, बालद का दडा, लीरी का बाडिया, कानाखेडी गांवों में सघन दौरा कर जनसुनवाई की। इस अवसर पर ग्रामवासियों ने उनका जगह-जगह पर फूलमालाओं व साफा पहनाकर अभिनंदन किया। इन गांवों में उन्होंने ग्रामवासियों की समस्याओं को सुनकर जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को मौके पर ही निर्देश दिए की जिन गांवों में पेयजल की समस्या है उन्हें तत्काल दूर कराएं, खराब पड़े हैण्डप प भी शीघ्र ठीक कराए। 

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment