गरीबों के साथ वालो की, गंगा स्नान की तैयारी............? तीरंदाज

व्ही.एस.भुल्ले/ भैया- रावण ने तो भगवान से पंगा ले सारा वंश ही तरवा लिया था और खुद भी भगवान के हाथों मरकर तर गया था। अगर हारे म.प्र. के पुजारी और जनता के भक्त की माने तो उनके लिये उनके प्रदेश की जनता भगवान है,जिसकी र्निविवाद सेवा वह विगत 8 वर्षो से करता चला आ रहा है।
अब अगर लेाकतंत्र में जनता भगवान है,तो तारणहार भी जनता ही हुई। ऐसे में अगर गरीबों के साथ हाथ वालो की इच्छा तरने के बजाये गंगा स्नान तक सीमित है। तो भईया हर्ज ही क्या? मने तो लागे हारे आला कमान ने भी पवित्र ग्रन्थ रामायण से सीख ले तरने के बजाये शुद्धिकरण का मन बना लिया है। इसीलिये 2014 से पूर्व वह अपने भगवान को ललकारने और अपने सिपहसालारों की गुस्ताखियों पर चुप है। क्योकि उसे मालूम है,कि उसने लेाकतंत्र के भगवान के साथ कभी कोई गुस्ताखी नहीं की। अगर उसके कुनवे से कोई गुस्ताखी कर रहा है,तेा वह दण्ड का भागीदार जरुर है।

भैये-तो क्या हारी गरीबों के साथ हाथ वाली पार्टी विधानसभा चुनाव 2013 की तरह 2014 में ही गंगा स्नान कर जायेगी। मगर हारे को न लागे कि हारी पार्टी शुद्धिकरण के लिये इतना बड़ा कदम उठायेगी आखिर कलयुग भी तो कोई चीज है जिसमें चोर साहूकार और साहूकार चोर ठहराये जा रहे है।

भैया-चुप कर मुये गर गौर साहब ने सुन लिया तो थारी तो थारी हारी काठी भी बुल्डोजर तले रोंध दी जायेगी हारी चिंदी में थारी पार्टी की खबर छपे न छपे हारी तस्वीर जरुर हारे अखबार में छप जायेगी। भाया मैं तो पहले ही बोल्यू कि थारे जैसे चित्रकार,पत्रकार में दिल गुर्दा कहां हारें आप वालो की तरह कहां थारे जैसे लोगों में जज्वा नमो नम: की तरह जो खुलेआम हारे गरीबों के साथ हाथ वालो की बखीया देश भर में उधेड़े जा रहे,और गरीबों के साथ हाथ वाले भी टी.वी. तथा सड़कों पर चींखे चिल्लाये जा रहे है। अब तू ही बता भैया मैं कै करुं?
भैये- तने तो बावला शै कै थारे को मालूम कोणी थारे हाथ वालो को आप से कम नमो नम: से ज्यादा खतरा है। इसीलिये तो हाथ वालो ने आप का साथ दे। देश की राजनीति में 2014 से पूर्व खतरनाक पैतरा खेला है।
भैया-मगर मुये हारे वंशजो का कै करे, जो आप के व्यंगवाणों से हलाक दिल्ली की सड़कों पर ही नहीं टी.वी. पर भी चीख रहे और पानी पी.पी. कर समय को कोस रहे है। खैर भाया फिलहॉल हारे गरीबों के साथ हाथ वालो के वंशजो को तू छोड़ मने तो गंगा स्नान की कहानी के बारे में बता, गर कोई घर खाली होंं,तो बता कैसे बचे हारा कुनवा कैसे बचे ऐसी कथा सुना।

भैये-सुनना चावे तो सुन,फिलहॉल तो थारा कुनवा विगत 20 वर्षो से एलोपैथी का लाभ उठा सर्जरी के सहारे चल रहा है,एन्टीवायेटिक दवाओं का इतना जहर भर चुका है कि अब तो हो योपैथिक,यूनानी,आयुर्वेदिक दवाओं का फॉर्मूला या फिर भगवान की ही कृपा का रास्ता बचा है। इनफैक्शन इतना जबरदस्त है,कि या तो अब इश्र्वर की कृपा और गंगा स्नान से ही काया कल्प हो पायेगी,जिसमें मैं तो बोल्यू भाया पूरी 5 वर्ष ही लग जायेगी।

भैया-मने समझ लिया थारा फॉर्मूला गर रही गरीबों के साथ हाथ वालो की काठी में कोई कसर तो जरुर भारतीय चिकित्सा पद्धति या फिर ईश्वरीय कृपा ही काम आयेगी रहा गंगा स्नान का सवाल गर डुबकी श्रिवेणी पूरी ली। तो भी हारे जैसे गरीबों के साथ हाथ वालो की गन्दगी भी पूरी की पूरी धुल जायेगी और एक बार फिर से हारे गरीबों के साथ हाथ वालो की काया निष्कलंक ही नहीं स पूर्ण निरोगी भी हो जायेगी।

रायपुर : महिलाओं को कार्य स्थल पर यौन उत्पीड़न से बचाने अधिनियम २०१३ लागू : प्रत्येक सरकारी, अर्धशासकीय कार्यालय में बनेगी आंतरिक शिकायत समिति
रायपुर, २४ दिसम्बर २०१३ कार्यस्थल पर महिलाओं के प्रति यौन उत्पीड़न की घटनाओं की रोकथाम के लिए केन्द्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा महिलाओं का कार्यस्थल पर लैंगिक उत्पीड़न ( निवारण, प्रतिषेध और प्रतितोष) अधिनियम २०१३ बनाया गया है। इस अधिनियम के तहत बनाए गए नियमों की अधिसूचना भारत सरकार के राजपत्र में नौ दिसम्बर २०१३ को प्रकाशित किए जाने के साथ ही यह अधिनियम छत्तीसगढ़ सहित पूरे देश में प्रभावशील हो गया है। छत्तीसगढ़ सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा यहां नया रायपुर स्थित मंत्रालय (महानदी भवन) से राज्य के सभी विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों और सचिवों को परिपत्र के साथ इस अधिसूचना की प्रतियां भेजकर अधिनियम के सभी प्रावधानों का गंभीरता से पालन सुनिश्चित करवाने के निर्देश दिए गए हैं। अधिनियम के तहत केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा महिलाओं का कार्यस्थल पर लैंगिक उत्पीड़न ( निवारण, प्रतिषेध और प्रतितोष) नियम २०१३ बनाया गया हैं। इस नियम और अधिनियम की प्रतियां भी राज्य शासन के सभी विभागों को प्रेषित किया गया है।

युवाओं को कौशल विकास के जरिये सक्षम बनाया जाये -मु यमंत्री
जयपुर, 26 दिस बर। मु यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने युवाओं के कौशल विकास पर जोर देते हुए कहा है कि आज का युवा किसी भी प्रकार की मु त सुविधा लेने की बजाय रोजगार के बेहतर अवसर चाहता है ताकि वह सक्षम, सशक्त और आत्मनिर्भर बन सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं को स्वावलंबी बनाकर उनके सपने पूरे करना हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मु यमंत्री गुरुवार को अपने कार्यालय में श्रम एवं रोजगार विभाग, राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम तथा तकनीकी शिक्षा (प्रशिक्षण प्रकोष्ठ) के प्रस्तुतीकरण के दौरान अपने विचार प्रकट कर रही थीं। उन्होंने प्रस्तुतीकरण मेंं इन विभागों से जुड़े विभिन्न कार्यक्रमों, योजनाओं की जानकारी लेने के साथ ही आगामी 60 दिनों की कार्य योजना के संदर्भ में चर्चा की। उन्होंने प्रस्तुतीकरण के दौरान आगामी पांच वर्षों की कार्य योजना पर भी विचार-विमर्श करते हुए अधिकारियों से एक-एक स्लाइड पर दी गई जानकारी ली तथा उस पर अपना दृष्टिकोण भी प्रस्तुत किया।
उन्होंने कहा कि कौशल विकास के लिये आरएसएलडीसी अधिक से अधिक प्रशिक्षण देकर युवाओं को बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान कराये ताकि वे अपने पांवों पर खड़ा हो सके। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने आगामी पांच वर्षों में युवाओं के लिये 15 लाख रोजगार के अवसर सृजित करने की घोषणा की है।
ाु यमंत्री ने कहा कि रोजगार के अवसर सृजित करने एवं कौशल प्रशिक्षण देने के लिये कार्य कर रही विभिन्न एजेन्सियों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बहुत सारी योजनाओं के बजाय ऐसी प्रक्रिया अपनाई जाये जिससे अपेक्षित कार्यवाही सुनिश्चित हो और किसी प्रकार की पुनरावृत्ति भी नहींंं हो। उन्होंने कहा कि योजनाओं का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचना चाहिये। श्रम एवं नियोजन विभाग बेरोजगार युवाओं के लिये कौशल विकास एवं रोजगार के अवसर सुलभ कराने की दृष्टि से सुविधा प्रदाता के रूप में कार्य करे।

जन स पर्क मंत्री द्वारा जादूगर आनंद के कार्यक्रम की सराहना
रीवा 26 दिस बर 013. प्रदेश के जन स पर्क , ऊर्जा एवं खनिज मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने जादूगर आनंद के कार्यक्रमों की सराहना करते हुये कहा है कि उन्होंने अपने कार्यक्रमों से प्रदेश सहित पूरे देश का नाम उज्जवल किया है । श्री शुक्ल ने कहा कि जब कोई व्यक्ति अपनी विधा में श्रेष्ठता ग्रहण कर लेता है, तब उसे जादूगर कहा जाता है जैसे सचिन को क्रिकेट का और ध्यानचन्द्र को हॉकी का जादूगर कहा जाता है । उसी प्रकार आनंद भी जादूगर हैं । जन स पर्क मंत्री आज जादूगर आनंद के 27 दिस बर से रीवा में प्रारंभ होने वाले कार्यक्रमों के परिप्रेक्ष्य में आयोजित एक कार्यक्रम को मु य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे । इस दौरान जन स पर्क मंत्री ने जादूगर आनंद के पुत्र आकाश आनंद की आखों पर पट्टी बांधकर सड़क पर मोटर साइकिल चलाने के लिये रवाना किया । आकाश आनंद ने नगर के प्रमुख मार्गों पर आंखों में पट्टी बांधकर मोटर साइकिल चलाने का प्रदर्शन किया इस अवसर पर महापौर श्री शिवेन्द्र सिंह, स्पीकर श्री रिपुदमन सिंह, जन प्रतिनिधिगण तथा जन सामान्य उपस्थित रहे । वार्ड नं. 22 में जन स पर्क मंत्री का स्वागत:- बार्ड नं. 22 के रहवासियों ने आज जन स पर्क मंत्री का आत्मीय स्वागत किया । इस अवसर पर आयोजित स्वागत समारोह में पार्षदगणों, जन प्रतिनिधियों व आम जनता ने श्री राजेन्द्र शुक्ल का पुष्पहार से अभिनंदन किया । इस दौरान जन स पर्क मंत्री ने बार्ड के रहवासियों को आश्वस्त किया कि इस क्षेत्र का विकास होगा और सभी समस्याओं को दूर करने के प्रयास किये जायेंगे । जन स पर्क मंत्री भोपाल रवाना:- रीवा में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के बाद जन स पर्क मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल दोपहर दो बजे हवाई सर्विस वेंचुरा से भोपाल के लिये रवाना हुये । महापौर श्री शिवेन्द्र सिंह सहित जन प्रतिनिधियों , पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें विदाई दी ।


SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment