कुतर्क से पहले समझे बुजुर्ग की युवा क्या कहना चाहता है

म.प्र. ग्वालियर। चुनाव देश या प्रदेश में कोई पहली बार नहीं हो रहे,भूत में भी हुये है,वर्तमान में भी हो रहे है,और भविष्य में भी होते रहेगें। मगर देश के अन्दर मूल मुद्दों से इतर जो कुतर्क बात-बात को लेकर मचा है,वह किसी भी स्वस्थ लेाकतंत्र के लिये उचित नहीं।
सžाा को लेकर जिस तरह की वयान बाजी राजनैतिक दलो में एक दूसरे के खिलाफ हो। मीडिया में चर्चा का बायस बने हुये है,वह सिर्फ और सिर्फ देश के आम मतदाताओं  का ध्यान मूल मुद्दों से भटकाने के अलावा कुछ भी नहीं।

मीडिया के अन्दर आये दिन नित नये ठंग से चर्चा का विषय बनने वाली वयान बाजी आखिर किसका भला करने वाली है। देखा जाये तो ऐसी चर्चाओं से न तो देश की डेढ़ अरब आबादी का कुछ भला होने वाला है,न ही देश का है। बेहतर हो जब प्रदेशों में 5 वर्ष के लिये चुनाव सर पर हों और देश के सर्वो'च सदन के लिये चुनावों का आगाज ऐसे में देश की जनता के सामने वो अहम मुद्दे होना चाहिए जिससे देश की जनता का भला हो सके। मगर इसके इतर चर्चा आरोप-प्रत्यारोप और गढ़े मुद्दों को उखाडऩे और उन पर कीचड़ उछालने पर चल रही है।

सžाा की अन्धी दौड़ में कुछ राजनैतिक दल इस हद तक अन्धे हो चुके है कि न तो वह देश के सदभाव, एकता,अखण्डता,समाज,और न ही स्वयं की विचार धारा का ध्यान रख पा रहे है। ऐसे में देश का और देश के लेागों का बनने वाली सरकारो में इतना भला हो सकेगा सोचनीय विषय है।

हाल ही में दो बड़ी चर्चाऐं देश के दो बड़े नेताओं को लेकर खूब हुई और चल भी रहे है। कभी किसी नेता के शासन को लेकर तो कभी किसी नेता के वयानों को लेकर देखा जाये तो हर राजनैतिक दल का अन्तिम लक्ष्य सžाा तक पहुंचना ही है। जिसके लिये जमकर तर्क कुतर्क तो ही रहे है। व्यक्तिगत तौर पर ही राजनैतिक हमले जारी हो वोट बैंक बना रहे या और अधिक बढ़ जाये जिससे आने वाले समय में सžाा हासिल हो जाये यहीं प्रयास हर अधिकांश राजनैतिक दलो के हो रहे है।

मजे की बात तो हमारे लोकतंत्र में यह है,कि देश के आम युवा के दिल में क्या यक्ष प्रश्न है और प्रश्नों के पीछे उसकी भावना क्या है जो अपने देश में उन प्रश्रो का जबाव अपनी बोली में चाहता है जब उन सवालो पर विचार,मंथन के बजाये कुतर्क होने लगे तो देश के युवा किसके पास जाये। बेहतर हों कि लेाग युवा भावनाओं को समझें और मार्गदर्शन करे। साथ ही उन मुद्दों पर वयान बाजी और चर्चा करे। जिससे देश और देश वासियों का भला हो सके  तभी हम स"ो-अ'छे स्वस्थ लेाकतंत्र कहला पायेगें।

पेड न्यूज पाए जाने पर तुरंत करें शिकायत

इंदौर 26 अक्टूबर 13/ किसी भी समाचार पत्र में अथवा इलैक्टॉनिक मीडिया पर यदि कोई भी व्यक्ति पेड न्यूज पाता है तो इसकी शिकायत तुरंत जिला निर्वाचन कार्यालय को करे, जिससे पेड न्यूज पर प्रभावी अंकुश लगाया जा सके। इसके लिए जिला निर्वाचन कार्यालय में टोल फ्री नंबर 18002333140  तथा 0731-2449000 चौबीस घंटे कार्यरत हैं, इन पर किसी भी समय शिकायत की जा सकती है।

जिले में भारत निर्वाचन आयोग से आईं जागरूकता प्रेक्षक सुश्री पल्लवी चीनिया ने उक्त बात आज शनिवार को कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में संपन्न जिला मीडिया प्रमाणन एवं निगरानी समिति की पेड न्यूज संबंधी बैठक में कही। बैठक में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी आकाश त्रिपाठी, समिति सदस्य तथा इन्दौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष प्रवीण खारीवाल, एमसीएमसी समिति पेड न्यूज के नोडल अधिकारी, एडीएम आलोक सिंह, उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शरद श्रोत्रिय एवं सर्व संबंधित उपस्थित थे।

मीडिया में पेड न्यूज के संबंध में काफी जागरूकता

बैठक में प्रेस क्लब इंदौर के अध्यक्ष श्री प्रवीण खारीवाल ने बताया कि इंदौर में पेड न्यूज को लेकर मीडिया में काफी जागरूकता है तथा यहां मीडिया पेड न्यूज का प्रकाशन/ प्रसारण नहीं किए जाने के साथ अपनी ओर से प्रचार प्रसार कर रहा है कि कोई भी समाचार पत्र अथवा इलैक्ट्रॉनिक मीडिया पेड न्यूज न छापे/चलाए।

पेड न्यूज पर चौकस नजर

बैठक में कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आकाश त्रिपाठी ने बताया कि जिले में पेड न्यूज पर चौकस नजर रखी जा रही है। इसके लिये कलेक्टर कार्यालय में एक निगरानी कक्ष बनाया गया है, जिसमें सभी महत्वपूर्ण टीवी चैनल्स, लोकल केबल्स, रेडियो चैनल्स आदि की 24 घंटे मॉनीटरिंग की जा रही है। इसी के साथ उनकी सतत रिकार्डिंग भी की जा रही है जिससे पेड न्यूज प्रसारित होने पर उसके आधार पर संबंधितों के विरूद्ध कार्रवाई की जा सके। कलेक्टर ने बताया कि जिले में पेड न्यूज पर उ'जैन एवं इंदौर संभाग की मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें भारत निर्वाचन आयोग के महानिदेशक श्री अक्षय राउत भी शामिल हुये।

अभी तक हुई तीन बैठकें

उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शरद श्रोत्रिय ने बताया कि जिले में पेड न्यूज पर निगरानी के लिये 6 जुलाई 2013 को एमसीएमसी समिति का गठन किया गया। इसकी अभी तक, इस बैठक को मिलाकर, तीन बैठकें आयोजित हुई हैं।

अभी तक नहीं मिली कोई शिकायत

बैठक में एमसीएमसी समिति पेड न्यूज के नोडल अधिकारी ने बताया कि जिले में अभी तक किसी भी समाचार पत्र अथवा इलेक्ट्रानिक मीडिया द्वारा पेड न्यूज प्रसारित किये जाने की कोई भी शिकायत प्राप्त नहीं हुई है। शिकायत आने पर अथवा जानकारी मिलने पर कार्रवाई किये जाने की त्वरित व्यवस्था जिले में की गई है।

इलेक्शन वॉच भी सक्रिय

कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने बताया कि जिला निर्वाचन कार्यालय में पेड न्यूज की शिकायत के लिये निगरानी कक्ष में टोल फ्री नम्बर स्थापित किये जाने के अलावा जिला प्रशासन द्वारा स्मार्ट फोन पर इलेक्शन वॉच नामक एप भी लाँच किया गया है जिसके माध्यम से कोई भी स्मार्ट फोन यूजर फोटो सहित तुरंत पेड न्यूज के संबंध में शिकायत संबंधित अधिकारियों तक पहुंचा सकता है।

निर्वाचन के दौरान नकद राषि व उपहार देने, लेने वालों के विरूद्ध होगी कार्यवाही

  दतिया दिनंाक 26 अक्टूबर 2013 कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री रघुराज एमआर द्वारा नागरिकों से अपील की है कि निर्वाचन के दौरान किसी भी प्रकार की नकद राशि, उपहार न ही बांटे और न ही स्वीकार करें। उन्होंने कहा कि जिले में कोई भी व्यक्ति नकद राशि या उपहार बांटते हुए पाया जाता है तो उसके विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 171 बी के प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही की जायेगी। इसी प्रकार नकद राशि एवं उपहार प्राप्त करने वाला भी इसी धारा के अंतर्गत दोषी है।

धारा 171 बी के प्रावधानों के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति राशि एवं सामग्री अथवा उपहार मताधिकार को प्रभावित करने के उद्देश्य से लेगा अथवा देगा तो वह दंडनीय अपराध, एक साल की सजा एवं अर्थदण्ड का भागीदार होगा। भारतीय दंड संहिता की धारा 171 सी के तहत् मतदाता को धमकाने अथवा किसी प्रकार की क्षति पहुंचाने में एक साल की सजा का प्रावधान है। कलेक्टर द्वारा नागरिकों से अपील की है कि वह इस प्रकार की कार्यवाही से बचने हेतु किसी भी प्रकार की राशि व उपहार चुनाव के दौरान ग्रहण न करें यदि कोई भी व्यक्ति इस प्रकार की जानकारी रखता हो अथवा किसी भी प्रकार के धमकाने आदि की स्थिति बनें तो जिला निर्वाचन के कंट्रोल रूम 235200 या मोबाइल नम्बर 9479877740 पर एसएमएस कर जानकारी दे सकते है।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment