बेवस लेाग, बेफिक्र कर्णधार

भले ही प्रदेश के मुखिया शिवपुरी जिले की 3 विधान सभा क्षेत्रों में जन आर्शीवाद यात्रा के बहान तीसरी मर्तवा म.प्र में सरकार बनाने  जन आर्शीवाद लेने आ रहे हो मगर छोटे छोटे कार्यो को कलफते लेाग आज भी बेवस बैहाल नजर आते है।
यह किससे छिपा है कि पूर्व जन आर्शीवाद यात्रा में आमजन ने आर्शीवाद के साथ थोक बन्द आवेदन मुख्यमंत्री को थमाये थे उनका क्या निराकरण हुआ व कितने आवेदन रद्दी में तŽबदील हुये ये तो आवेदन लेने और देने वाले ही जाने। मगर बेफिक्र कर्णधारों के माथों पर जरा भी सिकन नहीं। आखिर क्या कारण है जो चाहे मंत्रियों की यात्रा भ्रमण हो या फिर मुख्यमंत्री की यात्रा कर्णधार कलफते लेागों के सामने सीना तान कर खड़े रहते है। कारण साफ  है   जो लेाग जिस सरकार का दाना पानी से लेकर सžाा में बने रहने औपचारिक अनौपचारिक सेवा में जुटे हों उन्हें आखिर कौन आंख दिखा सकता है।

सो जो हुकुम सरकार का। फारमूले पर चलते कर्णधारों को किसकी परवाह। ये अलग बात है कि शिव सरकार की कुछ सीधा लाभ देने वाली योजनाओं की बदौलत उनकी व्यक्तिगत अ'छी छवि का लगौंटा समुचे म.प्र. में घूम रहा है। शिव सरकार की ये वो योजनाये है जिनमें तमाम लूटपाट के बावजूद भी आम लेागों को कुछ न कुछ तो मिला ही है।

चाहे वह सबसे लेाकप्रिय लाडली लक्ष्मी,कन्यादान,किसान क्रडिट,शून्य Žयाज पर खेती किसानी पर रिण,सायकल मुफत गणवेश,मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन,मुख्यमंत्री मजूदर सुरक्षा अन्तोदय मेले,सस्ता राशन उ'च शिक्षा रिण,जननी सुरक्षा इत्यादि ऐसी योजनायें है जिन्होंने प्रदेश वासियों को प्रभावित किया है। गांव गांव आंगनबाणी सुसहायता समूह आशा कार्यकर्žाा के माध्ययम से चलने वाली योजनाओं से भी लेागों को लाभ मिला है। कर्मचारियों के बढ़ते वेतन भžाों ने भी शिव की छवि में प्रशासनिक मशीनरी के बीच खासा उछाल दिख रहा है। उस पर से शिव सरकार के अनाप शनाप प्रचार ने भी लेागों को खासा प्रभावित किया है।

इतना सब कुछ होने के बावजूद भी लेागों का बेहाल दिखना हो सकता है। शिव सरकार की समझ से परे हो मगर इतना तो तय है इस बेहाली के पीछे स्थानीय तंत्र या फिर स्थानीय नेतृत्व ही कुछ हद तक जिम्मेदार है। जिन्हें मुख्यमंत्री के साथ देख लेागों का कलफना बाजिब जान पड़ सकता है। मगर जब चुनाव सर पर हो और मुखिया आर्शीवाद लेने दर पर हो वो भी तीसरी मर्तवा प्रदेश में भाजपा सरकार स्थापित करने ऐसे में कर्णधारों के कर्मो से बेहाल आमजन क्या करे यह तो आर्शीवाद  लेने व देने वाले ही जाने शिवपुरी वासी तो वैसे भी 20 वर्षो से वर्षाती नाले का इक्_ा गन्दा पानी पीते आ रहे है। उन्हें सिन्ध की शुद्ध बून्द कब नसीब होगी।

ये तो पोलाग्राउन्ड मंच से अटल 'योति जलाने वाले मुख्यमंत्री ही जाने जो अगस्त में सिन्ध लाने की बात भरे मंच से शिवपुरी वासियो से कह गये थे।

परिवहन चेकपोस्ट उमरथाना ने की रिकार्ड वसूली
गुना 4 सितम्बर 2013/ अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि परिहन चेक पोस्ट उमरथाना (धरनावदा) द्वारा इस वर्ष अगस्त 2013 तक 53 हजार 50 रुपये की रिकार्ड वसूली की गई है । जबकि विगत वर्ष अगस्त 2012 में रुपये 10 हजार 590 रुपये की ही वसूली की गई थी । इस वर्ष 400 प्रतिशत की रिकार्ड वसूली में वृद्वि की गई है ।

जिले से वाहर के व्यक्ति थानों में शस्त्र दर्ज करायें - कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे

दतिया दिनंाक 4 सितम्बर 2013/जिला कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे द्वारा जिले में निवासरत ऐसे नागरिकों को निर्देशित किया हैं कि जिनके शस्त्र लाईसेंस वाहर से बनके आये है किन्तु दतिया जिले के थानों में दर्ज नहीं है ऐसे नागरिक तत्काल अपने शस्त्र जहां वह निवास कर रहे हो उस क्षेत्र के संबंधित थानें में दर्ज करा दें। कलेक्टर द्वारा जिले के सभी थाना प्रभारियों को भी निर्देश जारी किये हैं कि वह अपने स्तर पर पता करलें कि कोई भी व्यक्ति जो कि वाहर से लायसेंस प्राप्त कर चुका हैं किन्तु उसने दतिया जिले में दर्ज नहीं करायें हैं। आदेश का उल्लंघन करने पर शस्त्र लायसेंस निरस्ती की कार्यवाही की जायेगी।

प्रावधानों के मुताबिक मिले बाढ़ प्रभावितों को मदद

श्योपुर 04 सितम्बर 2013/मुख्य सचिव श्री आर. परशुराम ने आज वीडियो कान्फ्रेन्सिंग समाधान ऑनलाइन के माध्यम से नागरिकों के भूमि आवंटन, उपचार सहायता, छात्रवृत्ति और मजदूरी की राशि दिलवाने, मुख्यमंत्री कृषक कल्याण योजना का लाभ दिलवाने के प्रकरणों को गत दिवस सुलझाया। इस दौरान मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री मनोज श्रीवास्तव भी उपस्थित थे। मुख्य सचिव ने वीडियो कान्फ्रेन्सिंग में कलेक्टरों से कहा कि अति वृष्टि से प्रभावित लोगों के हित में राजस्व पुस्तक परिपत्र के नए लाभकारी प्रावधानों के अनुसार सहायता प्रदान की जाए।

मुख्य सचिव ने श्योपुर जिले के कूनो अभयारण्य के विस्थापित श्री विष्णु प्रसाद धाकड़ के आवेदन पर कलेक्टर को शेष मुआवजा राशि का भुगतान करवाने के निर्देश दिए । मुख्य सचिव ने आवेदक को मुआवजा देने में हुए विलंब के दोषी व्यक्ति के विरुद्व कार्रवाई के निर्देश भी दिए। इसी तरह भोपाल के आरकेडीएफ संस्थान से बी.एड सत्र वर्ष 2008-09 के विद्यार्थियों को शिक्षण शुल्क वापस दिलवाने के आवेदन पर कलेक्टर को कार्रवाई करने को कहा । मुख्य सचिव श्री आर. परशुराम ने प्रदेश के अन्य जिलो के आवेदकों के प्रकरणों का समाधान ऑन लाईन कार्यक्रम के माध्यम से निराकरण कराने के निर्देश भी जिला कलेक्टरों को दिये।

कलेक्टर्स शीघ्र भेजें बाढ़ राहत प्रतिवेदन

मुख्य सचिव श्री आर. परशुराम ने आज वीडियो कान्फ्रेंन्सिग द्वारा प्रदेश के उन जिलों जहाँ गत माह अति वृष्टि से जन-धन की हानि हुई है उन जिलों के कलेक्टर्स को शीघ्र विस्तृत रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए । इस अवसर पर प्रमुख सचिव राजस्व श्री आर. के. चतुर्वेदी ने क'चे और पक्के मकानों की क्षति, आवास योजनाओं के प्रावधानों के अनुसार राशि दिए जाने और विभिन्न श्रेणियों में नागरिकों की पात्रता के संबंध में कलेक्टर्स को जानकारी दी और कहा कि राजस्व विभाग द्वारा जिलों को विस्तृत दिशा-निर्देश पूर्व में भेजे जा चुके हैं।

एनआईसी श्योपुर में प्रभारी कलेक्टर श्री जेसी बोरासी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एचपी वर्मा, डीएफओ समान्य वनमण्डल श्री आरएस अलावा, कूनो श्री आरके मिश्रा, एसडीएम विजयपुर श्री एमके माथुर, कार्यपालन यंत्री श्री सीएन मिश्रा, महाप्रबंधक उद्योग श्री टीके कटारे, जिला पंचायत के एसडीएच श्री एके राजपूत और संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थें।


SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment