इतिहास दोहराते राहुल: निर्णय क्षमता का गजब नजारा,अध्यादेश बिल्कुल बकवास

व्ही.एस.भुल्ले.  दागी नेताओं को बचाने वाले अध्यादेश पर अचानक राहुल के आये बयान ने कि अध्यादेश बिल्कुल बकवास है,इसे फाड़कर फेक दिया जाना चाहिए। भले ही उनके इस बयान ने केन्द्र की यूपीए सरकार और कांग्रेस के अन्दर सनाका खीच दिया हों मगर उन्होंने अचानक ही सही एक गजब का निर्णय लेकर कांग्रेस का इतिहास ही नहीं अपने पूर्वजों की निर्णय क्षमता को भी दोहराया है। बगैर किसी लाग लपेट और पूरी ईमानदारी से इस निर्णय को उन्होंने अपना व्यक्तिगत निणर्य भी बताया है।

यह कांग्रेस का सौभाग्य है,कि जिस रुप में राहुल को देश की जनता और राजनीति स्वीकारना चाहती थी। उस रुप में प्रेस क्लब दिल्ली के कार्यक्रम में राहुल दिखे। विगत कुछ समय से राहुल को लेकर मीडिया राजनैतिक दल और विभिन्न संगठनो द्वारा यह चुटकी ली जाती रही है,कि देश के अहम मुद्दे पर राहुल अपनी राय रखने से बचते है। जिस मीडिया को यह मलाल रहता था,कि राहुल कुछ बोलते नहीं। जब बोला है तो देश और देश वासियों के लिये उन्होंने अपना दिल खोला है। ऐसे में राहुल के प्रति लेागों की राय और ठीका टिपप्णी अब आम जन के  बीच चर्चा का विषय है। राहुल के धमाकेदार इस छक्के ने विपक्षी दल ही नहीं बात बात पर कांग्रेस को कोसने वालो को करारा जबाव ही नहीं दिया बल्कि केन्द्र में बैठी यूपीए सरकार और कांग्रेस को भी स्पष्ट संकेत दे दिया है। कि अभी तक जो हुआ सो हुआ मगर अब राजनीति को स्व'छ बनाये रखने की दिशा क्या होगी। वेबाकी से देश की मीडिया के सामने अपनी राय रखने वाले राहुल ने निश्चित ही यह स्पष्ट कर दिया कि वह एक ऐसे परिवार के सदस्य है,जिनके पूर्वजों ने देश और देश वासियों के हित में कड़े निर्णय लेने में कोई गुरेज नहीं किया। फिर  कीमत जो भी चुकानी पड़ी हो। आज उन्होंने स्व.इन्दिरा जी,स्व. राजीव जी  और सोनिया जी द्वारा तत्कालीन परिस्थितियों के मध्य नजर लिये गए ऐतिहासिक निर्णयों की याद ताजा कर दी। जबकि राहुल यह बखूवी जानते होंगे,कि जो बयान दागी नेताओं को बचाने वाले अध्यादेश पर वह  देश की मीडिया के बीच देने जा रहे है,उससे केन्द्र की यूपीए सरकार और कांग्रेस पर क्या असर होने वाला है। उन्होंने इस बात की परवाह किये बगैर देश,देश वासियों और कांग्रेस के स्थापित मूल्य सिद्धान्त परम्पराओं का पालन करते हुए अपनी स्पष्ट राय जाहिर की। परिणाम जो भी हो कौन नहीं जानता कि हॉल ही में पांच प्रदेशों में विधानसभा और 2014 में लोकसभा चुनाव होने वाले है।

कभी स्वर्गीय इन्दिरा जी ने देश की एकता अखंण्डता,देश सम्प्रभुता बचाने और देश से राजे रज वाड़े,जागीरदार,जमीदारों से देश के आम गरीब,मजदूर,किसान निजात दिलाने देश और देश वासियो के हित में निर्णय लिये।

कौन नहीं जानता कि देश के आम गरीब,मजदूर,किसान और विभिन्न वर्गो की सम्पन्नता उत्थान एवं गांव गली के गरीब, मजदूर,किसानों तक सीधे सžाा पहुचाने लाख विरोध के बावजूद ऐतिहासिक निर्णय लिये। जिसके सुखत परिणाम देश के सामने है।

कौन नहीं जानता कि जब एन.डी.ए सरकार के दौरान हजारों गरीब,मजदूर,किसान आत्म हत्या कर रहे थे जब सोनिया गांधी ने पूरी ताकत से उन गरीब मजदूर किसानों के दर्द को संसद के सामने रख उनके उत्थान के लिये पहल की। वह सेानिया गांधी की ही निर्णय क्षमता थी जो उन्होंने भारतीय संस्कृति और परम्पराओं का पालन कर प्रधानमंत्री जैसा पद एक झटके में त्याग दिया। यह सोंनिया गांधी का ही निर्णय है,कि देश के 81 हजार करोड़ के लगभग आम गरीब,मजदूर,किसान को खादय सुरक्षा की गारंटी मिली। निश्चित ही देर से ही सही राहुल ने साफ कर दिया कि देश और देश वासियों के हितों पर कांग्रेस कभी समझौता करने वाली नहीं फिर कीमत जो भी चुकानी पड़े।



काँग्रेस की गरीब, दलित और किसान की सरकार बनाने दतिया से भरी हुंकार

कानून व्यवस्था पूरे प्रदेश में चरमराई - सिंधिया

म.प्र.दतिया। प्रदेश सरकार के विरोध में जनाक्रोश रैली एवं परिवर्तन यात्रा के दौरान आयोजित परिवर्तन सभा के आयोजन में काँग्रेसी नेतृत्व ने एकजुटता दिखाते हुए केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री एवं मध्यप्रदेश प्रदेश विधानसभा चुनाव के काँग्रेस प्रभारी एवं स्टार प्रचारक ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश, केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ, प्रदेशाध्यक्ष कांतिलाल भूरिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, सत्यव्रत चतुर्वेदी, महिला काँग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष शोभा झा, महिला काँग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष अर्चना जायसवाल, महिला काँग्रेस की प्रदेश उपाध्यक्ष शोभा शिवहरे सहित अन्य नेताओं ने भाग लेकर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन की अपील की।स्थानीय नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने रैली में सम्मिलित हुए नेताओं का अभूतपूर्व स्वागत हैलीपैड से सभास्थल स्टेडियम ग्राउण्ड तक किया।

भाजपा सरकार राम राम जपना, और सबका माल अपना करने वाली भाजपा सरकार को उखाड़ फैकने की अपील की। स्टार प्रचारक सिंधिया ने कहा कि प्रदेश में शर्मा और सूर्यवंशी सत्ता है। पूरे प्रदेश में भ्रष्टाचार का बोलवाला है। प्रदेश में महिलायें, गरीब सुरक्षित नहीं है। और तो और प्रदेश में नौजवान भी नहीं है सुरक्षित। सामाजिक कार्यकर्ता एवं पुलिसकर्मी भी नहीं है सुरक्षित। बलात्कार और भ्रूण हत्या की राजधानी बना प्रदेश। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता त्रस्त, मंत्री मस्त और प्रशासन भ्रष्ट है।

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा सबसे बड़े बाहुबलि और माफिया है। उनके व नरेन्द्र सिंह तोमर के रिश्तेदार बैंको के अध्यक्ष बने हैं, कैसे थमेंगी कालाबाजारी। काँग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कांतिलाल भूरिया ने कहा कि प्रदेश में जंगलराज संचालित है। भाजपा के छुटभैया नेता से लेकर मंत्री तक लूटखसोट में लगे हैं। किसानों का माल ही खा गया और अपने को पुजारी कहना घोखा है। उन्होंने कहा कि भाजपा के कार्यक्रमों में भीड़ जुटाने के लिए मैदानी शासकीय कर्मचारी से कलेक्टर तक प्रयास करते हैं। उन्होने कहा कि प्रदेश में काँग्रेस की सरकार आने पर एकबत्ती कनेक्शन देगी। ५० हजार तक के कर्ज माफ होंगे। संविदा शिक्षकों को समान वेतन दिया जायेगा। ग्रामीणों को वन भूमि पर पट्टे दिये जायेंगे। केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ ने कहा भाजपा बरगलाने की राजनीति करती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जितने उद्योग स्थापित नहीं हुए उतने से ज्यादा बंद हो गये हैं। केन्द्र सरकार ने पिछले दस वर्षों में छः गुना ज्यादा राशि दी है। जिसका कोई हिसाब किताब नहीं है।

प्रदेश प्रभारी एवं राष्ट्रीय महासचिव मोहन प्रकाश ने कहा प्रदेश में लूटखसोट की खुली छूट है। कोई रेत, कोई पत्थर, कोई खदाने तो कोई डम्पर लूट रहा है। उन्होने कहा कि माँ पीताम्बरा की नगरी में कोई ऐसा बेटा नहीं है जो दतिया का प्रतिनिधित्व कर सके। उन्होने कहा कि काँग्रेस गरीब, किसानों, महिलाओं, बेजुबानों की लड़ाई लड़ती है। उन्होने कहा कि प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह सहित १४ मंत्री जेल के दरवाजे पर खड़े हैं।



                     कृषि विज्ञान केन्द्र आरोन में वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक सम्पन्न

गुना 28 सितम्बर 2013/ कृषि विज्ञान केन्द्र आरोन में 36 वीं वैज्ञानिक सलाहकार समिति की बैठक आंचलिक कृषि अनुसंधान केन्द्र मुरैना के सह-संचालक डॉ. एस. एस. तोमर की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में अनुविभागीय अधिकारी आरोन (राजस्व)श्री एच.एस. शेख , आत्मा के श्री यू. एस. तोमर  एवं जी.एस. तोमर सहित सलाहकार समिति के सदस्यों ने भाग लिया। सह संचालक अनुसंधान डॉ. एस. एस. तोमर ने उत्पादकता बढ़ाने हेतु प्रोद्योगिकी का विस्तार करने में कृषि विज्ञान केन्द्र , आत्मा कृषि विभाग एवं अन्य विभागों को एक जुटता से कार्य करने का आग्रह किया । श्री शेख ने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्र के कार्यक्रमों में छोटे एवं सीमांत कृषकों की भागीदारी बढ़ाई जाये एवं असंस्थागत प्रशिक्षण कार्यक्रमों पर विशेष ध्यान दिया जाये । श्री यू. एस. तोमर ने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा खरीफ एवं रबी में किसान मेले का आयोजन कर रोपण विधि के माध्यम से सरसों फसल में प्रदर्शन डाले जायें । एस. डी. ओ. कृषि श्री जी एस. तोमर गुना ने प्रदर्शन एवं प्रक्षेत्र परीक्षण में मशाले एवं फल उत्पादन को शामिल करने पर जोर दिया । जल संसाधन विभाग के एस. डी. ओ श्री ए. के. श्रीवास्तव ने गेंहू में जल प्रबंधन पर प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन डालने की जानकारी दी । सहायक भू संरक्षण अधिकारी गुना श्री आर. के. एस. भदोरिया ने तकनीकी विस्तार करने का सुझाव दिया । इस दौरान कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा प्रकाशित धनिया पर केन्द्रित तकनीकी वुलेटिन का भी विमोचन किया गया ।

    बैठक में कृषि विज्ञान केन्द्र के अधिकारी एवं रावे के छात्र उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्री मनोज कुमार ने एवं अंत में सभी के प्रति आभार वरुण प्रताप सिंह जादोन ने व्यक्त किया।


इंदिरा आवास होम स्टेट योजना के अंतर्गत 72 आवासों के लिए राशि जारी
श्योपुर, 28 सितम्बर 2013 ग्रामीण विकास विभाग के निर्देशानुसार वित्तीय वर्ष 2012-13 में प्राप्त भौतिक लक्ष्य के आधार पर आवासहीन प्रतीक्षा सूची बीपीएल सर्वे के प्राप्तांकों के बढते क्रम में स्वीकृत 72 आवास के लिए 16 लाख 20 हजार रूपये की राशि जारी की है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एचपी वर्मा ने बताया कि जनपद पंचायत श्योपुर के 23 आवासों के लिए 5 लाख 17 हजार 500 रूपये, कराहल के 14 आवासों के लिए 3 लाख 15 हजार रूपये और विजयपुर के 35 आवासों के लिए 7 लाख 87 हजार 500 रूपये की राशि प्रथम अंशिका के रूप में जारी की गई है।




SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment