दागियों को बचाने,सभी दल एक, बने रहेंगे,अपराधी राजनीति में

व्ही.एस.भुल्ले। सूचना का अधिकार जनता को देने वाले राजनैतिक दल, न तो स्वयं की सूचना देना चाहते है। न ही अपने दलों में मौजूद अपराधियों को चुनाव लडऩे से बंचित रखना चाहते है।

इसलिये गत दिनों दिल्ली में हुई सर्व दलीय बैठक में तर्को के आधार पर मानसून सत्र में सूचना अधिकार कानून में संसोधान और माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 8 (4) को रद्द करने वाले फैसले पर संसोधन ला इस फैसले को पलटने सब एक दिखे। बैठक 5 अगस्त 2013 से शुरु होने वाले मानसून सत्र से पहले सरकार ने बुलाई थी।


जब देश के 4807 सांसद विधायकों में से 1,460 के खिलाफ आपराधिक केश चल रहे हों जिसका कुल प्रतिशत 30 हो जिनमें से 688 मामले अर्थात 18 फीसदी को 5 साल से अधिक की सजा हो सकती हो। ऐसें में राजनैतिक दलों के दर्द का अंदाजा लगाया जा सकता है।

जिसमें 543 सदस्य वाली लेाकसभा में 162 यानी 30 प्रतिशत 232 सदस्य वाली रा'यसभा में 40 यानी 17 प्रतिशत कुल विधायक 4,032 में से 1.258 विधायक  यानी 31 प्रतिशत पर आपराधिक  मामले दर्ज है।

गंभीर मामलों में लेाकसभा के 76 यानी 14 प्रतिशत रा'यसभा के 16 यानी 7 प्रतिशत एवं 15 प्रतिशत विधायकों पर आपराधिक मामले चल रहे है।

जहां तक राजनैतिक दलों का सवाल है तो कांग्रेस के 1,433 सांसद,विधायकों में 305 पर केश 107 पर गंभीर मामले है।


  • भाजपा के 1,017 सांसद, विधायको में से 313 पर केश 118 पर गंभीर मामले है।
  • सपा के 262 सांसद, विधायकों में से 125 पर केश 68 पर गंभीर मामले है।
  • बसपा के 138 सांसद,विधायको में से 47 पर केश 25 पर गंभीर मामले चल रहे है।

अब जब देश के प्रमुख राजनैतिक दलो का आलम यह है तो अंदाजा लगाया जा सकता है। कि जनतंत्र का भविष्य कैसा होगा। जहां यूपीए सरकार की केबिनेट सूचना अधिकार 2005 में बने कानून में बदलाव की मंजूरी दे चुकी हो। केन्द्रीय सूचना आयोग के फैसले के विरुद्ध जिसमें कांग्रेस,भाजपा,भाकपा,माकपा,बसपा,एन.सी.पी. को आरटीआई में लाने का फैसला सुनाया था। संसोधन विधेयक में अब राजनैतिक दलो को सार्वजनिक संस्था की परिभाषा से बाहर कर दिया गया है। के पक्ष में सभी राजनैतिक दल है। 

वहीं दूसरा अहम मुद्दा सुप्रीम कोर्ट के वह दो फैसले है जिसमें पहला सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे सांसद विधायक जिनके खिलाफ दो से अधिक वर्ष की सजा होगी। वह फैसले के दिन से ही आयोग्य घोषित होगें। दूसरा फैसला जेल बन्द रहते हुए कोई चुनाव नहीं लड़ सकेगा। कोर्ट ने इस मामले में जनप्रतिनिधि कानून की धारा 8 (4) को भी रद्द कर दिया था। जिसे भी बैठक मे उपस्थित सभी राजनैतिक दल पलटना चाहते है।

राजनैतिक दलो की चली तो आने वाले समय में देश का कोई भी नागरिक किसी भी राजनैतिक दल के बारे में सूचना अधिकार के तहत कोई जानकारी प्राप्त नही कर सकेगा। और सजा यापता अपराधी जेल के बाहर और जेल के अंदर रहकर र्निविवाद रुप से चुनाव लड़ सकेंगे। और संसद तथा विधानसभाओं में भी पहुंच सकेगें। जब जनतंत्र के अगुआ राजनैतिक दलों का देश के अहम मुद्दों पर आलम यह है कि न तो वह खुद ही राजनीति से अपराधियों को दूर रखना चाहती है। और न ही वह सूचना अधिकार के तहत देश के नागरिको को अपनी जानकारी देकर पारदर्शिता चाहती है। ऐसे में कैसे जिन्दा रह पायेगा जनतंत्र।

बहरहॉल जो भी हों भ्रष्टाचार के आरोपो से जूझती यूपीए सरकार किन संसोधनों के साथ सूनना अधिकार कानून एवं जनप्रतिनिधित्व कानून को मानसून सत्र में लाती है। अगर इन संसोधनो मे केन्द्रीय सूचना आयोग और माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसलो की गरीमा बच पाती है। तो यह देश औा देश के राजनैतिक दलों के लिए शुभ संकेत होगा। क्योकि अगर देश के राजनैतिक दल राजनीति में अपराध और अपराधियों से छुटकारा पा पूरी पारदर्शिता के साथ देश के सामने प्रस्तुत होना चाहते है। तो उन्हें संसोधनों से पूर्व गहन चिंतनमनन ही नहीं जल्द बाजी से दूर रह कानून की ऐसी मिशाल पेश करनी होगी। जिसे देश और देश वासी सदियो तक याद रख सके।

इन्सपायर अवॉर्ड योजनान्तर्गत 175 प्रतिभागी करेंगे सहभागिता

म.प्र. श्योपुर। बच्चों सहित जनसाधारण में विज्ञान के प्रति नया दृष्टिकोण जागृत करने तथा वैज्ञानिक समझबूझ पैदा करने के मकसद से मध्यप्रदेश शासन के शालेय शिक्षा विभाग तथा राज्य शिक्षा केन्द्र की योजनानुसार संचालित इन्सपायर योजनान्तर्गत कल ॰४ से ॰६ अगस्त तक शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय श्योपुर में आयोजित होने वाली जिला स्तरीय विज्ञान प्रदर्शनी के आयोजन को लेकर जिला प्रशासन तथा शिक्षा विभाग क्रियाशील बना हुआ है।

आयोजन से सम्बन्धित सभी पूर्व तैयारियों के चलते शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय परिसर खासी चहल-पहल का केन्द्र बना हुआ है जहां कल से अगले तीन दिवसों तक व्यापक जन उपस्थिति दृष्टिगत होगी। प्रभारी जिला शिक्षाधिकारी गुरजीत सिंह द्वारा प्रदत्त जानकारियों के अनुसार कल रविवार को विधिवत आरंभ होकर आगामी ॰६ अगस्त तक चलने वाली इस विशिष्ट प्रदर्शनी में इस बार श्योपुर जिले के साथ-साथ शिवपुरी, गुना और मुरैना जिले के प्रतिभागियों की भी भागीदारी रहेगी जो ज्ञान-विज्ञान, तकनीक तथा प्रौद्योगिकी पर आधारित अपने प्रोजेक्ट तथा मॉडल प्रदर्शित करने के लिए साथ लेकर आऐंगे तथा आम जनमानस में वैज्ञानिक विचारधारा का संचार करेंगे।

प्रदर्शित किए जाने वाले सभी प्रोजेक्ट तथा मॉडल्स सत्र २॰१२-२॰१३ में आयोजित कक्षा-॰८ की परीक्षा में प्रथम श्रेणी अर्जित कर पांच-पांच हजार रूपए का पुरूस्कार अर्जित करने वाले प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं द्वारा जिला शिक्षाधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास के मार्गदर्शन तथा सम्बन्धित खण्ड स्त्रोत समन्वयकों के निर्देशन में विज्ञान शिक्षकों के सहयोग से तैयार किए गए हैं जो लगातार तीन दिवसों तक उमडने वाले विद्यार्थियों व अभिभावकों सहित शिक्षक समुदाय व आम नागरिकों के लिए भी आकर्षण का केन्द्र बनेंगे।

आयोजन प्रभारी सुशील कुमार दुबे ने बताया है कि इस प्रदर्शनी में चयनित सर्वश्रेष्ठ मॉडल्स और प्रोजेक्ट्स आगामी १॰ एवं ११ अगस्त को होशंगाबाद में आयोजित राज्य स्तरीय प्रदर्शनी में सहभागिता करेंगे। तीन दिवसीय विज्ञान प्रदर्शनी के इस जिला स्तरीय आयोजन में इस वर्ष १७५ प्रतिभागियों की मौजूदगी सुनिश्चित होगी जिनमें १॰६ श्योपुर, ॰६ शिवपुरी, ३१ गुना जबकि ३२ मुरैना जिले का प्रतिनिधित्व करेंगे।

बहरहाल तीन दिवसीय इस महत्वाकांक्षी तथा उद्देश्यपरक आयोजन को लेकर गठित जिला स्तरीय समिति के मार्गदर्शन में आयोजन को निर्विघन् सम्पन्न कराने के लिए बनाई गई प्रदर्शनी आयोजन समिति, प्रोजेक्ट/मॉडल डिस्प्ले समिति, भोजन एवं आवास समिति, निर्णायक मण्डल निर्धारण समिति, प्रचार-प्रसार समिति तथा वित्त एवं सामग्री उपलब्धता समिति में शामिल अधिकारियों-कर्मचारियों सहित उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचायर् गुरजीत सिंह सहित अधीनस्थ शिक्षक-शिक्षिकाओं को आयोजन पूर्व की आवश्यक जिम्मेदारियों को अंतिम रूप देते देखा जा रहा है जो इस आयोजन के दौरान भी अपने-अपने मोर्चों पर क्रियाशील दिखाई देंगे।

चिकित्सा अधिकारी ने रक्तदान कर मनाया जन्मदिन

म.प्र. दतिया। जिला चिकित्सालय में आयुष विंग में पदस्थ आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी डॉ० आनन्द खरे ने जिला चिकित्सालय दतिया के ब्लड बैंक में रक्तदान कर अपना जन्म्दिन विभाग की उपस्थिति में मनाया। डॉ० आनन्द खरे ने कहा कि हमें अपना जन्म्दिन कुछ इस तरह से मनाना चाहिये जिसमें हम किसी भी रूप में किसी के काम आ सके और उस कार्य से हमें वास्तविक खुषी मिले। उन्हांेने कहा कि मेरा ये संदेष है कि प्रत्येक व्यक्ति को ये संकल्प लेना चाहिये कि अपने जन्मदिन पर हमें रक्तदान अवष्य करना चाहिये जो समुदाय के लिए प्रेरणा बन सके। यह सराहनीय कार्य डॉ० खरे पिछले दो जन्म दिन से करते आ रहे है। यह उनका तीसरा रक्तदान था। डॉ० खरे चिकित्सक के साथ साहित्यकार भी हैं।

इस अवसर पर स्वदेष ग्रामोत्थान समिति संस्था के संचालक रामजीषरण राय, दीपक श्रीवास्तव, दॉगी जी लेबटेक्नीशियन, डी० कौरव, लेबटेक्नीषियन, एस. जोसेव लेबटेक्नीषियन, एवं पंचकर्म सहायक श्री राजीव कुमार सेन उपस्थित रहे।

विशेष पिछडी जनजाति के छात्रों को कक्षा 1 से 12वीं तक के विद्यार्थियों को गणवेश के साथ स्वेटर जूता मोजे मिलेंगे
म.प्र. दतिया। आदिम जाति कल्याण विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार विशेष पिछडी जनजाति के छात्र-छात्राओं को कक्षा १ से १२ तक के विद्यार्थियों को गणवेश के साथ-साथ स्वेटर, जूता, मौजा, आदि प्रदाय करने के लिए राशि विद्यार्थियों/पालकों के खातें में जमा कराई जावेगी। योजना क्रियान्वयन हेतु राशि कक्षा १ से ८वी तक के छात्र, छात्राओं को ६०० रूपये प्रति विद्यार्थी के मान से राशि दी जावेगी। जिसमें विकासखंड स्त्रोत समन्यवक सर्व शिक्षा अभियान दतिया में २००० विद्यार्थियों को ६०० रूपये प्रति छात्र के हिसाव से १२०००००/- बाहर लाख रूपये की राशि एवं विकासखंड स्त्रोत समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान सेवढा में ६८ विद्यार्थियों को ४०८००/ चालीस हजार आठ सौ रूपये की राशि दी जावेगी। इसी प्रकार विकासखंड स्त्रोत समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान भाण्डेर में २७० विद्यार्थियों को १ लाख ६२ हजार रूपये की राशि दी जावेगी।

असामाजिक तत्वों के विरुद्व सख्ती के साथ कार्यवाही करें

गुना 2 अगस्त 2013/ जिला कलेक्टर श्री संदीप यादव ने कार्यपालिक मजिस्ट्रेटों एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि असामाजिक तत्वों के विरुद्व सख्ती के साथ कार्यवाही की जाये और ऐसे व्यक्ति जिनके विरुद्व जिला बदर की कार्यवाही की गई है और वे जिले में दिखाई देनेे पर उनके विरुद्व सख्ती के साथ कार्यवाही की जाये।

श्री यादव ने उक्ताशय के निर्देश आज कार्यपालिक मजिस्ट्रेटों एवं पुलिस अधिकारियां की संयुक्त बैठक में दिये। बैठक में जिला पुलिस अधीक्षक श्री के. सी. जैन , अपर कलेक्टर श्रीमति प्रीति मैथिल सहित कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।

जिला कलेक्टर ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि जिले में ऐसे अपराधी जिनके विरुद्व जिला बदर की कार्यवाही की गई है उनपर निगरानी रखें। जिले में दिखाई देने पर उनके विरुद्व सख्ती के साथ कार्यवाही की जाये। उन्होंने असामाजिक तत्वों एवं अपराधों में लिप्त व्यक्तियों के विरुद्व भी कार्यवाही किये जाने के भी निर्देश दिये।

 श्री यादव ने अधिकारियों को संयुक्तरुप से क्षेत्र का भ्रमण करने के निर्देश देते हुये कहा कि सम्पश्रि विरुपण अधिनियम,कोलाहल नियंत्रण अधिनियम और मोटर व्हीकल एक्ट जैसे अधिनियमों का उल्लंघन होने पर सख्ती के साथ कार्यवाही करें। उन्होंने क्रिटिकल एवं हाईपर क्रिटिकल मतदान केन्द्रों पर भी चर्चा की।

जिला पुलिस अधीक्षक श्री जैन ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि जेल से झूटने वाले अपराधियों पर भी विशेष निगरानी रखते हुये अवैध शराब के प्रकरणों में आबकारी अधिनियम के तहत भी तत्काल कार्यवाही करें। उन्होंने भ्रमण के दौरान शन्न् लायसेंसों की भी जानकारी लेने के निर्देश दिये।

SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment