सत्ता में लौटने का मौका गबाती कांग्रेस: आसान नहीं म.प्र. में कांग्रेस को समेटना

व्ही.एस.भुल्ले/ भले ही अपनी दो दिवसीय यात्रा में राहुल म.प्र. के कांग्रेसी छत्रपों को एक रहने की ताकीत कर गये हो साथ ही तत्कालीन म.प्र. प्रभारी बी.के. हरिप्रसाद  की जगह मोहन राव की ताज पोशी प्रभारी के रुप में हो चुकी हो। मगर म.प्र. के छत्रप भले ही ऊपर से एक दिख रहे हों मगर आज भी वह अपना-अपना दांव खेलने से नहीं चूक रहे। परिणाम कि जो मौका म.प्र. में सत्ता में लौटने कांग्रेस को किस्मत के भरोसे मिला है। वह जाता दिखाई देता है अगर यो कहें कि कांगे्रस मे बहुत कुछ बदलाव आ चुका है। तो यह आम कांग्रेसी के साथ वैमानी होगी।

हो सकता है बीस वर्ष पूर्व म.प्र कांग्रेस से पकड़ गवां चुके आला कमान की मजबूरी हो जो कड़े स्वरों के बजाये केवल समझाइस भर से म.प्र. में कांग्रेस मजबूत चाहता हो। मगर म.प्र. में हालात ऐसे नहीं।

म.प्र. में वर्तमान हालातों में जो विधायक या विभिन्न संगठनों के जो मुखिया उन्हीं के पास ताकत और धन है। जो मूल कांगे्रसी थे वह धीरे धीरे हासिये पर जा पहुंचे है। जिन छत्रपों ने अपने अपने बलबूते जो अपना बजूद बचा रखा है। वह भी म.प्र. की मजबूत कांग्रेस से संघर्षरत है। मगर मजबूत कांगे्रस का दुर्भाग्य यह है कि इनके मुखियाओं को प्रदेश की जनता पसन्द नहीं करती जिन्हें जनता पसन्द करती है उन पर मजबूत कंाग्रेसी तैयार नहीें। अब ऐसे हालातो में चाहर दीवारी से घिरा आला कमान करे भी तो क्या?

जब से राहुल ने जिताऊ फॉरमूला म.प्र. के मठाधीसों के आगे क्या फैका है। अपने अपने चहेतों को टिकिट कबाडऩे की होड़ मच गयी है। और टिकिटों को लेकर गला काट प्रतियोगिता भी शुरु हो चुकी है। अब टिकिट वितरण का पैमाना आलाकमान का जो भी हो मगर सभी ने अपने अपने पठ्ठो की दावेदारी ठुकवा दी है। अगर भाग्य से छीकां टूटा भी तो मजबूत कांग्रेस संख्या बल में 'यादा दिखे। ऐसे में आलाकमान को चाहिए कि वह सीधा हस्तक्षेप कर म.प्र. पर संज्ञान ले और म.प्र. में अन्तिम सांसे गिनती कांग्रेस को बचा ले। क्योकि इस मर्तवा कांग्रेस गयी तो बिहार ,उžार प्रदेश जैसी स्थति कांग्रेस की म.प्र. में हो जायेगी और फूल छाप कांग्रेस सžाा में भाग्य भरोसे आयी तो ठीक, नहीं आयी तोऔर मजबूत हो जायेगी।

बेहतर हो राहुल स्वयं संज्ञान ले और दवे कुचले स्व. इन्दिरी जी,राजीव जी के समय के कांग्रेसियो से सीधा संवाद कर उन्हें भी साथ ले वरना म.प्र. जाते देर न होगी। क्योकि जिस तरह का काकस उनके आसपास हवा हवाई सूचना इक_ी कर सुनियोजित तरीके से उन्हें सलाह परोस  रहा है। वह कांग्रेस के लिये बड़ा ही आत्मघाती है जिसका खुलासा तभी हो सकता है। जब वह स्वयं संज्ञान ले और म.प्र. के कांग्रेसी, कांग्रेस के शुभ चिन्तकों से सीधा संवाद स्थापित करे।

कर्तव्य में लापरवाही बरतने पर प्रधानाध्यापक एवं जनशिक्षक निलम्बित

रायसेन/ शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला के संचालन में घोर लापरवाही बरतने पर कलेक्टर श्री जेके जैन जैन द्वारा प्राधानाध्यापक तथा जनशिक्षक को निलंबित करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही उदयपुरा विकासखण्ड के बीआरसीसी श्री एसके उपाध्याय एवं सांची विकासखण्ड के बीआरसीसी श्री सुनील जैन के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यावाही करने निर्देश जिला परियोजना समन्वयक श्री सीबी तिवारी को दिए हैं।

कलेक्टर श्री जेके जैन द्वारा जिला परियोजना अधिकारी श्री सीबी तिवारी द्वारा किए गए भ्रमण प्रतिवेदन के आधार पर उदयपुरा विकासखण्ड के प्राथमिक शाला सिलारी खुर्द के प्राधानाध्यापक श्री लक्ष्मीनारायण रघुवंशी को शाला संचालन में घोर लापरवाही बरतने पर तथा बिना किसी सूचना के शाला से अनुपस्थित रहने पर तथा हाई स्कूल नूरगंज के अंतर्गत आने वाली शालाओं की मानीटरिंग नहीं करने पर जनशिक्षक श्री जगदीश कुमार शिल्पी को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है।

इसी प्रकार विकासखण्ड सांची के प्राथमिक शाला भीम टोला भूसीमेटा के प्रधानाध्यापक श्री कमलेश कुमार मेहरा एवं प्राथमिक शाला नकतरा के प्रभारी प्रधानाध्यापक श्रीमती मंजु श्रीवास्तव तथा श्री प्रेमसिंह भदौरिया सहायक अध्यापक को कर्तव्य के प्रति उदासनीता एवं लापरवाही बरतने पर तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है। निलम्बन अवधि के दौरान इनका मुख्यालय कार्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी सांची रहेगा।

कलेक्टर श्री जेके जैन द्वारा उक्त अनियमितताओं को देखते हुए विकासखण्ड सांची के बीआरसीसी श्री सुनील जैन तथा उदयपुरा के बीआरसीसी श्री एसके उपाध्याय के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश जिला परियोजना समन्वयक को दिए गए हैं।

पुलिस अधीक्षक द्वारा बालकदास पर 5 हजार का ईनाम घोषित

दतिया/ पुलिस अधीक्षक श्री चंद्रशेखर सोलंकी द्वारा बालकदास पुत्र श्री हरदयाल ढीमर उम्र 42 साल निवासी जाखेली थाना दबोह जिला भिण्ड पर 5 हजार रूपये का ईनाम घोषित किया हैं। जारी आदेश के अनुसार अपराधी को बंदी बनवाने या सही सूचना देने पर 5 हजार रूपये की राशि से पुरस्कृत किया जायेगा। बालकदास पर थाना दुरसडा, पण्डोखर, लांच, गिजौरा, डबरा, दबोह, आलमपुर में विभिन्न धाराओं के तहत् 18 अपराध पंजीबद्ध हैं। पुलिस अधीक्षक कार्यालय द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार बालकदास पर ग्वालियर रेंज डी.आईजी. द्वारा 10 हजार, पुलिस अधीक्षक भिण्ड़ द्वारा 5 हजार, झांसी जिले से 12 हजार और दतिया जिले से 5 हजार रूपये की ईनाम को सम्मिलि कर कुल 32 हजार रूपये की ईनाम राशि घोषित की गई है।
SHARE
    Your Comment

0 comments:

Post a Comment