जनाकांक्षाओं कुचलने सत्ता, संगठनों का षडय़ंत्र, लोकतंत्र को घातक

अलाली, घपले-घोटाले भ्रष्टाचार,वसूली में डूबा तंत्र

मुख्यमंत्री की मंशा पर मचा घमासान, ABVP के ज्ञापन, धरना प्रदर्शन पश्चात, कॉग्रेस तथा महिला सशक्तिकरण की महिलाओं का प्रदर्शन और ज्ञापन

वोट के लिए झूठ और सत्ता के लिए षडय़ंत्र, धन पिपासूू मीडिया का लोकतंत्र से खिलवाड़

भक्त तुम तो प्रतिज्ञा वश सिंहासन से बंधे थे....मगर लोकतंत्र के मंदिर में उन मूड़धन्यों को क्या हुआ जो काले कानून पर चुप रहे और सिंहासन के लिए भाई से भाई को लड़ाने वाला कानून ले आए