कल्याण, कर्तव्य के प्रति वचन बद्धता और बेमिशाल सोच के धनी थे सर मोक्ष गुण्डम विश्वेसरैया सर की बेमिशाल सोच, आज भी जिन्दा है ग्वालियर-चंबल में

राजनैतिक कंटकों के विरुद्ध लामबन्द होता मतदाता

अराजकता की ओर अग्रसर म.प्र. में स्वास्थ और शिक्षा